Tuesday, Aug 03, 2021
-->
clashes lathicharge and tear gas shells left between farmers and police at noida mor pragnt

टैक्टर रैली से पहले NH24 पर किसानों ने तोड़ा बैरिकेड, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

  • Updated on 1/26/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। 26 जनवरी को देशभर में 72वां गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाया जा रहा है। इस बार गणतंत्र दिवस पर एक नया इतिहास बनने जा रहा है। स्वतंत्र भारत में पहली बार ऐसा होगा कि दोपहर तक राजपथ (Rajpath) पर देश की सैन्य शक्ति दिखेगी तो दोपहर बाद दिल्ली (Delhi) की सीमाओं पर ट्रैक्टर परेड कर किसान अपना दमखम दिखाएंगी। केंद्र के नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ पिछले दो महीनों से भी अधिक समय से आंदोलन कर रहे किसान आज दिल्ली बॉर्डर के आसपास ट्रैक्टर परेड निकाल रहे हैं। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने कुछ शर्तों के साथ किसानों को ट्रैक्टर रैली की इजाजत दी है। 

मोदी सरकार ने परेड कार्यक्रम को लेकर वरिष्ठ अधिकारियों को चेताया

नोएडा मोड़ पर किसानों और पुलिस के बीच झड़प
इस बीच खबर है कि आज किसान की टैक्टर रैली होनी हैं लेकिन रैली से पहले ही सुबह गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों  और पुलिस के बीच झड़प हो गई। नोएडा मोड़ पर किसानों ने पुलिस बैरिकेड तोड़ दिए। इसके बाद पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े। आपको बता दें कि अक्षरधाम से पहले एनएच 24 पर पुलिस ने बैरिकेडिंग की हुई थी जिसे तोड़कर किसान अंदर घूसने की कोशिश करने लगे। इसके जवाब में पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया। बाद में किसानों को वहां से खदेड़ा गया है।

सिंघु बॉर्डर से किसानों की ट्रैक्टर रैली संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर पहुंच गई है। यहां दिल्ली पुलिस ने संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर में किसानों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस गोले का इस्तेमाल किया। 

किसानों के हित के लिए पूरी तरह समर्पित है सरकार : राष्ट्रपति कोविंद

रिंग रोड पर जाने की जिद पर अड़े किसान
सिंघु बॉर्डर से किसान मजदूर संघर्ष समिति के अध्यक्ष सतनाम सिंह पन्नू ने कहा, 'हम शांतिपूर्ण तरीके से जाएंगे और वापस आ जाएंगे। हमें रिंग रोड पर जाना है लेकिन पुलिस रोक रही है। लोग आ रहे हैं उसके बाद हम इस पर विचार करेंगे। 30-45 मिनट का समय दिया गया है तब तक हम यहीं बैठेंगे और फैसला करेंगे।'

किसान ट्रैक्टर परेड: दिल्ली पुलिस ने जारी किया ट्रैफिक परामर्श, दी हिदायत

दिल्ली में किसानों के एक समूह ने तय रुट से जाने से किया मना
गणतंत्र दिवस पर किसानों की एक बड़ी टैक्टर रैली होने वाली है। सुरक्षा बलों ने पूरी दिल्ली को कड़ी सुरक्षा में रख रखा है। ऐसे में किसानों के एक धडे किसान मजदूर संघर्ष समिती ने ऐलान किया है कि वह लोग दिल्ली पुलिस के दिए गए रुट से सहमत नहीं है। वह कहते हैं कि हम लोग दिल्ली के बाहरी रिंग  रोड पर जाएंगे। इस समूह के इस बयान ने खलबली मचा दी है। बता दें दिल्ली पुलिस ने पहले ही

राजपथ पर राष्ट्र की सैन्य शक्ति, ट्रैक्टर परेड में किसान दिखाएंगे दमखम

आज मनाएंगे 72 वां स्वतंत्रता दिवस
बता दें देश आज अपना 72वां गणतंत्र दिवस मनाएगा। राजपथ पर 32 झांकियों के जरिए जहां देश की आन-बान और शान के साथ सांस्कृतिक विरासत तथा सैन्य शौर्य का प्रदर्शन होगा वहीं दोपहर बाद दिल्ली की सीमा पर देश का किसान अपनी शक्ति का प्रदर्शन करता दिखेगा। पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार किसान दिल्ली के बाहरी इलाकों में ट्रैक्टर परेड करेंगे। इसे उन्होंने किसान गणतंत्र परेड नाम दिया है। ट्रैक्टर परेड में शामिल होने के लिए दूर-दूर से किसान अपना ट्रैक्टर लेकर दिल्ली पहुंच रहे हैं। इस परेड में प्रमुख रूप से तीन जगहों से किसान शामिल होंगे।

किसान नेता गणतंत्र दिवस के बाद और तेज करेंगे आंदोलन, बजट के दिन संसद की ओर कूच

5000 लोगों के लिए मिली NOC
गाजीपुर बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर और सिंघू बॉर्डर। दिल्ली पुलिस ने 37 शर्तों के साथ इस परेड को अनापत्ति (NOC) दी है। इसमें 5000 ट्रैक्टर और केवल 5000 ही लोगों के शामिल होने की अनुमति दी है। लेकिन इस परेड का आयोजन कर रहे किसान संगठनों के समूह संयुक्त किसान मोर्चा का दावा है कि ट्रैक्टर परेड में एक लाख से ज्यादा किसान हिस्सा ले रहे हैं। यह करीब 500 किलोमीटर की परेड अनुमानित है।

बजट से पहले कांग्रेस हमलावर, कहा- PM मोदी की गलत नीतियों से बढ़ी आर्थिक असमानता

MSP की गारंटी की मांग
तीनों नए केंद्रीय कृषि कानूनों को रद्द करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को कानूनी गारंटी देने की मांग लेकर दिल्ली की सीमाएं घेरे बैठे किसानों को करीब दो महीने बीत चुके हैं। इस बीच गतिरोध दूर करने को सरकार के साथ 11 दौर की वार्ता भी हो चुकी है। नतीजा अभी तक सिफर ही रहा। सरकार कानूनों को रद्द करने को तैयार नहीं है और किसान इससे कम पर मानने को राजी नहीं हैं। 22 जनवरी को हुई 11वें दौर की वार्ता काफी तल्खी भरे माहौल में हुई। पांच घंटे की वार्ता में बातचीत महज 30 मिनट हुई। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.