Thursday, Oct 28, 2021
-->
clean-yamuna-project-cm-kejriwal-reviews-meeting-kmbsnt

Clean Yamuna Project को मिलेगी रफ्तार, सीएम केजरीवाल ने की समीक्षा बैठक

  • Updated on 4/1/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली सरकार यमुना नदी के जल को स्वच्छ और निर्मल करने के लिए प्रयासरत है। इसके लिए दिल्ली सरकार की ओर से क्लीन यमुना परियोजना भी लाई गई है। अब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल चाहते हैं कि इस परियोजना पर तेजी से काम तो ताकी दिल्ली वालों को यमुना का साफ पानी उपलब्ध करवाया जा सके। 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज दिल्ली के जल मंत्री सत्येंद्र जैन के साथ इस परियोजना को लेकर समीक्षा बैठक की। साथ ही इस परियोजना को रफ्तार देने के लिए भी निर्देश दिए। इस योजना की धीमी प्रगति और देरी पर सीएम केजरीवाल ने असंतोष व्यक्त किया और अगले हफ्ते फिर से समीक्षा बैठक बुलाने के आदेश दिए।

बढ़ते कोरोना के चलते दिल्ली सरकार ने 33 अस्पतालों में बढ़ाए 25 प्रतिशत ICU बेड्स

दिल्ली जल बोर्ड को काम में तेजी लाने के निर्देश
'Clean Yamuna project' मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक है, उन्होंने जल बोर्ड को काम में और तेजी लाने के निर्देश दिए हैं।

बता दें कि दिल्ली में गर्मी शुरू हो गई है, इसके साथ ही पानी की समस्या का सामना भी दिल्ली वालों को करना पड़ रहा है। हाल ही में, दिल्ली जल बोर्ड (Delhi Jal Board) की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा को आदेश दिया है कि वो जितना पानी दिल्ली को दे रहे थे उतना देते रहना होगा। इसके साथ ही भाखड़ा व्यास मैनेजमेंट बोर्ड को भी दिल्ली को पानी देने के बाबत आदेश दिया गया है।

हरियाणा सरकार के कारण यमुना में बढ़ रहा प्रदूषण- AAP

दिल्ली सरकार का आरोप है कि हरियाणा सरकार की लापरवाही के कारण दिल्ली में प्रदूषण बढ़ा है। इसके साथ ये भी आरोप लगाया है कि हरियाणा सरकार दिल्ली को कम पानी दे रही है। वहीं हरियाणा सरकार का कहना है कि वो दिल्ली को पर्याप्त पानी दे रहे हैं। वहीं दिल्ली सरकार का कहना है कि हरियाणा सरकार को पानी दे रही है उसमें अमोनिया की मात्रा ज्यादा है। कोर्ट चाहे तो कमिश्नर नियुक्त कर इसकी जांच करा सकते हैं। कोर्ट ने कहा है कि अगर जरूरत पड़ी तो जांच की जाएगी।

केजरीवाल मॉडल के आधार पर यूपी के पंचायत चुनाव लड़ेगी आम आदमी पार्टी 

यमुना नदी में बढ़ा अमोनिया स्तर
बता दें कि यमुना नदी में उच्च अमोनिया के स्तर और वजीराबाद बैराज में लगातार घटते जलस्तर के कारण दिल्ली को गंभीर जल संकट का सामना करना पड़ रहा है। वजीराबाद बैराज में कच्चे पानी की कमी की वजह से दिल्ली जल बोर्ड के वजीराबाद, ओखला और चंद्रावल जल शोधन संयंत्रों में पेयजल उत्पादन प्रभावित हो गया है। इन संयंत्रों में 30 से 40% तक पानी का उत्पादन कम हो गया है।

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.