Friday, Jun 21, 2019

भारतीय चुनावों में जहां जातीगत राजनीति रही हावी, वहीं ऑस्ट्रेलिया में जलवायु परिवर्तन बना अहम मुद्दा

  • Updated on 5/18/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ऑस्ट्रेलिया में अगला प्रधानमंत्री चुनने के लिये शनिवार को मतदान हुआ। भारत में जहां प्रधानमंत्री पद के लिए मतदान जारी है वहीं ऑस्ट्रेलिया में पीएम पद के लिए शनिवार को ही चुनाव संपन्न हो गया। दोनों देशों के चुनावों में एक बड़ा अंतर मुद्दों का देखने को मिला।

लोकसभा चुनाव के परिणामों में वीवीपैट के कारण हो सकती है देरी

भारतीय में हो रहे लोकसभा चुनाव 2019 में जहां जातीगत राजनीति, हिंदू-मुस्लिम, मॉब लिंचिंग, राष्ट्रवाद जैसे मुद्दों पर चुनाव लड़ा जा रहा है वहीं ऑस्ट्रेलिया में जलवायु परिवर्तन जैसे बेहद अहम मुद्दे पर वोट डाले गए। इस चुनाव में जलवायु परिवर्तन का मुद्दा ऑस्ट्रेलिया में जबरदस्त तरीके से छाया रहा। पांच सप्ताह तक चले चुनाव प्रचार अभियान के बाद करीब 1.6 करोड़ ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों ने देश का अगला प्रधानमंत्री चुनने के लिए अपने मत का इस्तेमाल किया।

राहुल के बाद अब अखिलेश-माया से मिले चंद्रबाबू नायडू

देश के लोगों ने जिस तरीके से जलवायु परिवर्तन को इस बार के चुनावों में अहम मुद्दा बनाया है वह देश दुनिया के लिए एक बड़ी सीख का विषय है, क्योंकि जलवायु परिवर्तन अकेले ऑस्ट्रेलिया की समस्या नहीं है वरन यह पूरी दुनिया की समस्या बन चुकी है।

और इसपर अब दुनिया के हर देश को एक बैंच पर आना होगा। बात अगर ऑस्ट्रेलिया में हुए चुनावों की करें तो एग्जिट पोल के मुताबिक विपक्षी लेबर पार्टी को जीत हासिल होती दिखाई दे रही है जबकि लिबरल पार्टी के नेतृत्व वाला गठबंधन तीसरे तीन साल के कार्यकाल के लिए हारते हुए दिखाई दे रहा है। सर्वेक्षण के अनुसार लेबर पार्टी गठबंधन को मात देते हुए 151 सदस्यीय प्रतिनिधि सभा में 82 सीटें जीत सकती है।

मोदी राजनीतिक असहिष्णुता के सबसे बड़े पीड़ित: नकवी

प्रधानमंत्री स्कॉट मोरिसन ने सिडनी में लिलि पिली पब्लिक स्कूल में वोट डाला जबकि लेबर पार्टी के नेता बिल शॉर्टन ने मेलबर्न में वोट डाला। जलवायु परिवर्तन पर सरकार की निष्क्रियता दोनों पार्टियों के बीच असली अंतर पैदा करने वाली साबित हो सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.