Friday, Apr 23, 2021
-->
cm mamata rally on e-bike against rising oil prices posters of inflation around the neck prshnt

पेट्रोल की बढ़ी कीमतों के विरोध में इलेक्ट्रिक स्कूटर से ऑफिस पहुंची ममता बनर्जी

  • Updated on 2/25/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में पेट्रोल-डीजल (Petrol and diesel price) की बढ़ी कीमतों को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर हमलावर है, इसी बीच पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों के खिलाफ पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) अब सड़क पर उतर आई हैं। सीएम ममता ने आज कोलकाता में ई-स्कूटर पर सवार होकर अपना विरोध जताया है। ममता बनर्जी ने स्कूटर पर बैठकर गले में महंगाई का पोस्टर लटकाया है। ममता बनर्जी की ये रैली हरीश चटर्जी स्ट्रीट से लेकर राज्य सचिवालय नबन्ना तक निकाली जा रही है।

असम दौरे पर अमित शाह, कहा- राज्य को घुसपैठियों और हिंसा से बनाना है मुक्त

तेल की कीमतें बढने का सीधा मतलब है महंगाई
बता दें कि देशभर में पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। कई राज्यों में पेट्रोल की कीमत 100 के या तो पास या फिर पार जा चुकी है। तेल के इस खेल में पिस रही है आम जनता। तेल की कीमतें बढने का सीधा मतलब है महंगाई का बढना। विरोधी पार्टियां केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना कर रही हैं तो प्रधानमंत्री का कहना है कि हमें तेल के आयात पर निर्भरता कम करनी होगी।

कोलकाता में असदुद्दीन ओवैसी की रैली को नहीं मिली इजाजत, पुलिस ने कही ये बात

पैट्रोल 100 का आंकड़ा क्यों छू रहा
ऐसे में  किसी सरकार का नाम लिए बिना प्रधानमंत्री ने कहा कि इस संबंध में पूर्ववर्ती सरकारों को बहुत पहले कदम उठाने चाहिए थे लेकिन यदि पूर्ववर्ती यू.पी.ए. सरकार की बात करें तो केंद्र में मोदी सरकार से पहले वर्ष 2011-12 में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सरकार के समय क्रूड आयल की कीमत 112 डॉलर प्रति बैरल थी और पैट्रोल की कीमत लगभग 65 रुपए थी मगर अब जब मोदी सरकार के समय क्रूड ऑयल की कीमत 63 डॉलर प्रति बैरल के करीब है, जोकि मनमोहन सिंह की सरकार के समय से करीब 40 फीसदी कम है तो पैट्रोल 100 का आंकड़ा क्यों छू रहा है? इसके पीछे के गणित को समझना बेहद जरूरी है।      

अक्तूबर 2020 में क्रूड ऑयल 40.19 डॉलर प्रति बैरल था। तब भारत में 81.6 रुपए प्रति लीटर पैट्रोल बेचा गया। वहीं, 22 फरवरी को क्रूड के दाम 63.48 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गए। 22 फरवरी को देश में पैट्रोल 90.58 रुपए तथा डीजल 80.97 रुपए प्रति लीटर रहा। यानी सीधे 10 रुपए लीटर बढ़ा दिया गया। 

इंस्टा के सहारे ड्रग्स गैंग ने नाबालिग को फंसाया, ड्रग्स देकर महीनों किया रेप

तब और अब में अंतर
भारत में पैट्रोल के दामों में 7.71 प्रतिशत और डीजल के दामों में 7.40 फीसदी की बढ़ौतरी हुई है। हालांकि जब कच्चा तेल 112 डॉलर प्रति बैरल पर था, तब यू.पी.ए. सरकार पैट्रोल 65.76 रुपए में बेच रही थी, लेकिन अब जब 63 डॉलर यानी यू.पी.ए. सरकार की तुलना में 56 फीसदी से कम कीमत है, तब भी एन.डी.ए. सरकार दिल्ली में पैट्रोल 89 रुपए के आसपास बेच रही है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.