Sunday, Jan 19, 2020
cm mamta banerjee said nrc will not be applicable in west bengal

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का ऐलान, कहा- पश्चिम बंगाल में नहीं लागू होगा NRC

  • Updated on 9/21/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पश्चिम बंगाल (West Bangal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) ने शुक्रवार को राज्य के लोगों को आश्वासन दिया कि प्रदेश में एनआरसी (NRC) के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी और यदि भगवा पार्टी लोगों को छूने का प्रयास करती है तो पहले पार्टी को उनसे पार पाना होगा। ममता ने लोगों से यह सुनिश्चित करने का आग्रह कि उनके नाम मतदाता सूची में हैं। उन्होंने भाजपा के स्थानीय नेताओं पर आरोप लगाया कि वे राज्य में एनआरसी को लागू करने की संभावना को लेकर अफवाहें फैला रहे हैं।       

बंगाल में राष्ट्रविरोधी तत्वों को नष्ट करने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की जरूरत: दिलीप घोष

ममता (Mamta Banerjee) ने नई दिल्ली से लौटने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं पश्चिम बंगाल के लोगों को आश्वस्त करती हूं कि अगर आपको मुझ पर भरोसा है तो चिंता नहीं करें। किसी को भी पश्चिम बंगाल नहीं छोड़ना पड़ेगा। आप जैसे इतने वर्षों से रहते आ रहे हैं, वैसे ही आप यहां रहते रहेंगे। अगर वे (भाजपा) आपको छूना चाहते हैं तो उन्हें पहले ममता बनर्जी से पार पाना होगा।     

भारत-अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में योगदान दे सकते हैं: PM मोदी

तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने जोर दिया कि एनआरसी (NRC) असम के लिए है और वह राज्य के लोगों की परेशानियों के बारे में गृह मंत्रालय को सूचित करने के लिए नई दिल्ली गयी थी। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे संदेह है कि क्या यह देश में कहीं और लागू हो पाएगा। हमारी तरह बिहार ने भी पहले ही कह दिया है कि वे इसे लागू नहीं करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘जो लोग कह रहे हैं कि पश्चिम बंगाल में एनआरसी लागू किया जाएगा, वे केवल लोगों को डराने की कोशिश कर रहे हैं। कुछ स्थानीय भाजपा नेता इस तरह की अफवाहें फैला रहे हैं।     

स्पा सेंटरों में सेक्स रैकेट को लेकर दिल्ली महिला आयोग का Justdial को नोटिस    

उन्होंने दावा किया कि यह भाजपा का एक राजनीतिक हथियार है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपसे केवल एक अनुरोध करूंगी कि आप मतदाता सूची में अपना नाम दर्ज कराएं। मतदाता सूची के लिए नवीनीकरण अभियान चल रहा है। इसके अलावा कुछ नहीं करना है। ममता ने कहा कि राशन कार्डों को डिजिटल बनाने के लिए चल रहे अभियान का एनआरसी से कोई लेना-देना नहीं है और यह कुछ सुधार करने के लिए एक कदम है।     

PM मोदी और चिनफिंग के शिखर सम्मेलन से पहले चीनी अधिकारी ममल्लापुरम पहुंचे

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने सुना है कि एक व्यक्ति ने जलपाईगुड़ी में आत्महत्या कर ली और दूसरे की बालुरघाट में डिजिटल राशन कार्ड के लिए कतार में इंतजार करते हुए मौत हो गयी। हम दोनों परिवारों को दो लाख रुपये का मुआवजा देंगे, क्योंकि एनआरसी की ङ्क्षचता करते हुए उनकी मौत हो गयी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.