Wednesday, Apr 14, 2021
-->
cm mamta is planning a victory strategy in bengal the wire is attached to the letter

हार की निराशा नहीं, जीत की रणनीति से जुड़ा है CM ममता का खत, जानें कैसे

  • Updated on 4/3/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पश्चिम बंगाल (West Bengal) में जारी विधानसभा चुनाव (Assembly Election) में हर दिन एक नया मोड़ देखने को मिल रहा है इस चुनाव में सीधे तौर पर आमने सामने टक्कर में खड़े तृणमूल और बीजेपी एक दूसरे पर लगातार हमलावर है। चुनाव के बीच विपक्षी एकता की बात कर तृणमूल कांग्रेस (Trimool Congress) अध्यक्ष ममता बनर्जी (Mamta Benarjee) ने नई बहस छेड़ दी है। विपक्षी नेताओं को लिखे पत्र को भाजपा चुनाव में उनकी परेशानी के तौर पर पेश कर रही है। वही, कांग्रेस पत्र को चुनाव में मतदाताओं को संदेश देने और भविष्य में जरूरत पड़ने पर समर्थन के लिए माहौल बनाने के तौर पर देख रही है।

दरअसल पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की छवि एक संघर्ष करने वाली महिला की है और वह असानी से हार नहीं मानती। इस पत्र का असल मकसद मतदाताओं को यह संदेश देना है कि पूरा विपक्ष एक है, इसलिए भाजपा को हराने वाले उम्मीदवार को वोट दे। 

समर्थ समाज का निर्माण हमारा लक्ष्य: मोहन भागवत

अमित शाह का बंगाल को लेकर दावा
बता दें कि दूसरी ओर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को दावा किया कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने स्पष्ट रूप से पश्चिम बंगाल में चुनावी जंग हार चुकी हैं और राज्य में सत्ता में आने वाली नई भाजपा सरकार की पहली बैठक के एजेंडे में संशोधित नागरिकता कानून का मुद्दा उठाया जाएगा। शाह ने आज दिन में दो रोड शो किये जिनमें से एक दक्षिण 24 परगना के बरुईपुर में और दूसरा हुगली जिले में आरामबाग में था। 

भाजपा के शीर्ष नेता ने दावा किया कि उन्हें जो फीडबैक प्राप्त हुआ है, उसके मुताबिक पार्टी ने पहले ही उन 60 में से 50 सीटें जीत ली हैं जिन पर पहले दो चरणों में मतदान हुआ था और कुल 294 सीटों वाली विधानसभा में वह 200 से ज्यादा सीट जीतेगी।  बरुईपुर में अपने रोड शो के दौरान उन्होंने एक टीवी चैनल को बताया, च्च्हम कुल मिलाकर 200 से ज्यादा सीटें जीतेंगे।

तमिलनाडु में आज अमित शाह करेंगे रोड शो, जनसभा को भी करेंगे संबोधित

नंदीग्राम चुनाव खासे अंतर से जीतने के दावे
एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि संशोधित नागरिकता कानून का मामला पश्चिम बंगाल में सत्ता में आने वाली भाजपा सरकार की पहली बैठक के एजेंडे में लिया जाएगा। पार्टी राज्य में महिलाओं की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देगी। ममता बनर्जी के नंदीग्राम चुनाव खासे अंतर से जीतने के दावे के बारे में पूछने पर शाह ने कहा, च्च्यह साफ है कि वह चुनाव हार चुकी हैं। वह अब ऐसे बड़े दावे कर रही हैं क्योंकि उनके पास कोई विकल्प नहीं है।

केजरीवाल की जींद में होगी किसान महापंचायत, AAP तैयारी में जुटी

दीग्राम सीट पर बनर्जी का मुकाबला कभी उनके सिपहसालार रहे शुभेंदु अधिकारी से है जो इस बार भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। इस सीट पर दूसरे चरण में एक अप्रैल को मतदान हुआ था। गर्मी के बावजूद सड़क के दोनों तरफ खड़े लोगों का फूलों से सजे ट्रक पर मौजूद शाह ने अभिवादन किया और इस दौरान बड़ी संख्या में हाथों में पार्टी के झंडे लिये कार्यकर्ता जय श्री राम तथा ‘आर नोय अन्नाय’ (और अन्याय नहीं) के नारे लगा रहे थे। बरुईपुर का रोडशो एक किलोमीटर लंबा था जबकि आरामबाग का रोडशो 1.5 किलोमीटर का था।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.