Friday, Dec 02, 2022
-->
coal india cancels the tender for import, a setback to adani amidst criticism opposition

विपक्ष की आलोचना के बीच कोल इंडिया ने रद्द किया आयात के लिए टेंडर, अडानी को झटका

  • Updated on 7/18/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सार्वजनिक क्षेत्र की कोल इंडिया लि. ने कोयले के अल्पकालीन आयात के लिये अपनी पहली निविदा रद्द कर दी है। इस निविदा में अडाणी एंटरप्राइजेज सबसे कम बोली लगाने वाली कंपनी बनकर उभरी थी। सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी।

सुप्रीम कोर्ट ने श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर का विशेष ऑडिट पूरा करने की समयसीमा बढ़ाई 

  •  

अडाणी एंटरप्राइजेज को अल्पकालीन कोयला आयात के लिये चुना गया था। कंपनी ने 24.16 लाख टन कोयले के आयात के लिये करीब 17,000 रुपये प्रति टन की बोली लगायी थी। बता दें कि विपक्ष ने अडानी ग्रुप के विदेशी कोयला आयात को लेकर सवाल उठाए थे।  

सेना प्रमुख जनरल पांडेय ने बांग्लादेश के शीर्ष सैन्य कमांडरों से की मुलाकात 

हालांकि, 60 लाख टन कोयला आयात के लिये मध्यम अवधि की निविदा के तहत पीटी बारा दया एनर्जी ने अडाणी समूह से 2,000 रुपये प्रति टन कम की बोली लगाई थी। सूत्रों ने कहा कि कोल इंडिया ने आठ जुलाई को निदेशक मंडल की बैठक में 24.16 लाख टन की अल्पकालीन निविदा को रद्द करने का निर्णय किया। साथ ही पीटी बारा दया एनर्जी से मध्यम अवधि की निविदा के तहत ईंधन की आपूर्ति करने को कहा है। 

जरूरी खाद्य वस्तुओं पर GST लगाने को लेकर विपक्षी दलों ने मोदी सरकार पर साधा निशाना 

इस बारे में अडाणी एंटरप्राइजेज से प्रतिक्रिया मांगी गयी, लेकिन उनकी तरफ से फिलहाल कोई जवाब नहीं आया। कोल इंडिया ने नौ जून को 24.16 लाख टन कोयले के आयात के लिये निविदा जारी की थी। इसका मकसद देश में बिजलीघरों को पर्याप्त कोयला आपूर्ति सुनिश्चित करना था। कंपनी ने 10 जून को विदेशों से 60 लाख टन कोयले के आयात के लिये मध्यम अवधि की दो निवदाएं जारी की थीं। 

शिवसेना के 12 सांसद बनायेंगे अलग समूह, मिलेंगे स्पीकर ओम बिरला से: पार्टी सांसद

comments

.
.
.
.
.