Thursday, Aug 18, 2022
-->
colleagues told the truth of teesta, said - agenda being run at the behest of the leaders

सहयोगियों ने बताया तीस्ता का सच, कहा- नेताओं के इशारे पर चला रही थी एजैंडा

  • Updated on 6/28/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। तीस्ता सीतलवाड़ के खिलाफ नया केस होने और एसआईटी जांच बैठने के बाद उनके कुछ पुराने सहयोगी भी सामने आ गए हैं। उन्होंने तीस्ता पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं।

तीस्ता के करीबी रहे रईस खान ने कहा कि तीस्ता की गिरफ्तारी देर से हुई, लेकिन सही हुई। उन्होंने कहा, ‘तीस्ता के खिलाफ पहले ही कार्रवाई हो जानी चाहिए थी जब हमने शिकायत दी थी।’ रईस खान ने कहा कि तीस्ता ने पीड़ितों के साथ धोखा किया है। उन्होंने देश-विदेश से फंड इकट्ठा किया, लेकिन पीड़ितों की भलाई का कोई काम नहीं किया। उन्होंने कहा, ‘वर्ष 2008 में मेरा उनसे इसी बात को लेकर झगड़ा हुआ।’

तीस्ता के पूर्व सहयोगी एवं मौलाना आजाद उर्दू विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति जफर सरेशवाला ने भी उन पर गंभीर आरोप लगाए हैं। एक टीवी चैनल को दिए साक्षात्कार में जफर सरेशवाला ने कहा कि तीस्ता कुछ नेताओं के इशारे पर अपना एजैंडा चला रही थी।

सरेशवाला ने कांग्रेस नेता अहमद पटेल का नाम भी लिया। उन्होंने कहा कि दंगों के बाद तीस्ता ने देश-विदेश से काफी धन इकट्ठा किया, लेकिन पैसों का इस्तेमाल कभी पीड़ितों के लिए नहीं किया। जफर ने कहा, ‘तीस्ता गुजरात दंगों के नाम पर सामुदायिक नफरत फैलाने का काम कर रही थी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.