Sunday, Apr 21, 2019

दो करोड़ से अधिक कारोबार वाली कंपनियां भर सकती हैं जीएसटी ऑडिट रिपोर्ट

  • Updated on 4/15/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दो करोड़ रुपये से अधिक सालाना कारोबार वाली कंपनियां वित्त वर्ष 2017-18 के लिये अब जीएसटी आडिट रिपोर्ट (GST Audit Report) भरना शुरू कर सकती हैं। जीएसटी नेटवर्क (जीएसटीएन) (gstn) ने अपने पोर्टल पर इसके लिये प्रारूप उपलब्ध करा दिया है। 

ग्राहक से कैरी बैग के वसूले थे 3 रुपये, चुकाने पड़े 9,000

वित्त वर्ष 2017-18 माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के क्रियान्वयन का पहला साल था। इसके लिये ऑडिट रिपोर्ट 30 जून तक भरी जानी है। मंत्रालय ने 31 दिसंबर 2018 को सालाना रिटर्न फार्म जीएसटीआर-9, जीएसटीआर-9ए और जीएसटीआर-9सी अधिसूचित किया था।

जीएसटी परिषद ने दिसंबर में इन फार्म को भरने की अंतिम तारीख तीन महीने बढ़ाकर 30 जून कर दी थी। जीएसटीएन जीएसटीआर-9सी ऑफलाइन भी उपलब्ध कराया है। इसे करदाता भर सकते हैं और पोर्टल पर अपलोड कर सकते हैं। जीएसटीआर-9 जीएसटी के तहत पंजीकृत सभी करदाताओं के लिये सालाना रिटर्न फार्म है।

राफेल सौदे के बाद अंबानी की कंपनी का 14.37 करोड़ यूरो का कर माफ : फ्रांसीसी अखबार

जीएसटीआर-9ए एक मुश्त कर योजना अपनाने वाले करदाताओं के लिये है। जीएसटी-9सी एक मिलान ब्योरा है। जिसका सत्यापन चार्टर्ड एकाउंटेंट या कास्ट एकाउंटेंट करते हैं। वैसे करदाताओं को सालाना रिटर्न के साथ इसे जमा करना होता है जिनका कारोबार वित्त वर्ष में 2 करोड़ रुपये से अधिक रहा है। 

ईवाई के कर भागीदार अभिषेक जैन ने कहा कि उद्योग लंबे समय से ऑफलाइन सुविधा तथा जीएसटीआर-9सी ऑनलाइन भरने की प्रक्रिया की प्रतीक्षा कर रहा था। उन्होंने कहा, ‘आडिटर के डिजिटल हस्ताक्षर की जरूरत, बही-खातों तथा लाभ/नुकसान खातों को भेजने आदि के बारे में स्पष्टिकरण से कंपनियों को इसके अनुपालन में मदद मिलनी चाहिए।’ 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.