Saturday, May 26, 2018

MDDA के नियम-कायदे कांप्लेक्स संचालकों के ठेंगे पर, सड़कों पर हो रही पार्किंग

  • Updated on 5/16/2018

देहरादून/ब्यूरो। एमडीडीए की नाक के नीचे शहर में कांप्लेक्स संचालक मानकों का जमकर मखौल उड़ा रहे हैं। उनके हौसले यों ही बुलंद नहीं हैं। बुलंद हौसलों के पीछे वह मिलीभगत है जिसके जरिए कांप्लेक्स संचालक मनमानी पर उतारू हैं। 

दरअसल, कांप्लेक्स संचालक नक्शा पास कराते समय तो जोड़तोड़ करके परिसर में पार्किंग के लिए बेसमेंट होना दर्शा देते हैं, लेकिन बाद में इस बेसमेंट का इस्तेमाल वाहनों की पार्किंग के बजाय दूसरे कामों में होने लगता है।

पिछले कुछ सालों में एमडीडीए की ओर से गठित विभिन्न कमेटियों के स्थल निरीक्षण में भी यह बात सामने आ चुकी है कि शहर में बेसमेंट का इस्तेमाल दूसरे कार्यों में धड़ल्ले से हो रहा है। गजब तो यह कि एमडीडीए के आला अफसरों से लेकर तमाम दूसरे अधिकारी इस ओर से मुंह फेरे बैठे हैं या यों कहें कि उनका शहर से कोई सरोकार ही नहीं रह गया है।

ऑल वेदर रोड का काम जारी होने से लग रहा घंटों जाम, केदारनाथ तीर्थयात्री हो रहे परेशान

राजपुर रोड से लेकर प्रिंस चौक, चकराता रोड, सहारनपुर रोड आदि मार्गों पर पिछले तीन-चार सालों में जमकर निर्माण कार्य हुए हैं। मुख्य मार्गों पर सबसे ज्यादा कांप्लेक्स या मॉल ही अस्तित्व में आए हैं। लेकिन गजब यह है कि एमडीडीए ने इनके नक्शे तो पास कर दिए, लेकिन कभी दोबारा यहां झांकने की कोशिश ही नहीं की। 

जो बेसमेंट पार्किंग नक्शा पास करते समय दर्शाया गया था, वह वास्तव में मौके पर इस्तेमाल हो भी रही है या नहीं। शहर में ऐसे बहुत कम कांप्लेक्स हैं जिनके बेसमेंट का सही प्रयोग हो रहा है। 

एमडीडीए की ओर से पूर्व में यहां रैंप एवं लाइट की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए थे, लेकिन इन मानकों का कहीं भी पालन नहीं हो रहा है। यह प्राधिकरण की दरियादिली का ही नतीजा है कि शहर में बेसमेंट पार्किंग तो होती नहीं, लेकिन सड़क पर जमकर पार्किंग हो रही है।

बल्लू की मौत के बारे में पुलिस, वन विभाग और ग्राम प्रधान की अलग-अलग कहानी

सड़क पर खड़े होते हैं वाहन
चूंकि अधिकांश बेसमेंट बंद हैं, तो यहां के दुकानदारों से लेकर उनके कर्मचारियों व कांप्लेक्स में आने-जाने वाले ग्राहकों के वाहन बेसमेंट के बजाय मुख्य सड़कों पर खड़े होते हैं। इस कारण शहर में अक्सर जाम लगता रहता है, लेकिन मूल समस्या को कभी दूर करने की जहमत नहीं उठाई जाती है।

गत दिनों एमडीडीए के वीसी आशीष श्रीवास्तव ने चकराता रोड पर बेसमेंट पार्किंग की जांच कराई, तो अधिकांश में पार्किंग नहीं मिली। निर्देश दिए गए थे कि वाहन बेसमेंट में ही खड़े कराए जाएं, लेकिन वर्तमान में ऐसा कुछ नहीं हो रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.