Saturday, Nov 17, 2018

कंप्यूटर-लैपटॉप पर करते हैं काम तो हो सकते हैं इस खतरनाक सिंड्रोम के शिकार

  • Updated on 11/2/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अगर आप भी 6-7 घंटे से ज्यादा समय कम्प्यूटर या लैपटॉप पर बिता रहे हैं तो आप भी सतर्क हो जाएं क्योंकि इसके चलते अगर आपकी हाथों की कलाइयां और उंगलियां में दर्द होता है, तो ये खबर आपके लिए है। कई बार लगातरा कीबोर्ड और माउस के इस्तेमाल से कलाइयों में दर्द होता है। साथ ही कभी उंगलियां भी दर्द करने लगती है जिससे रोजाना के कामों में दिक्कत आती है। अगर ऐसे लक्षण नजर आ रहे हैं तो कार्पल टनल सिंड्रोम की जद में हैं। 

दिवाली के पटाखों में इस्तेमाल होने वाले केमिकल्स, 6 खतरनाक बिमारियों की हैं जड़

कार्पल टनल सिंड्रोम में रोगी का हाथों में सूजन रहती है, हथेली से लेकर कुहनी तक दर्द रहता है। हाथ कई बार सुन्न पड़ जाते हैं और हाथों में कमजोरी महसूस होती हो। किसी भी चीज को हाथों से उठाने और पकड़ने में दिक्कत होती है। चीजें हाथों से छूटने लगती हैं और कलाइयां अक्सर दर्द करती हैं। 

ठंड में कान के दर्द को ना ले हल्के में, जरूरी बातों का रखें ध्यान

कुछ महिलाओं को ये दिक्कत हार्मोंस में बदलाव के कारण भी देखने को मिलती है लेकिन ज्यादातर मामलों में ये लंबे समय तक हाथों और उंगलियों को कीबोर्ड पर इस्तेमाल के चलते होता है। लंबी दूरी ड्राइविंग के बाद भी कलाइयों में दर्द महसूस होता है। 

कैसे करें बचाव?

  •  कार्पल टनल सिंड्रोम बचने के लिए कसरत करना एकमात्र समाधान है। रोजाना कलाईयों और उंगलियों से जुड़ी एक्सरसाइज करें। कुर्सी पर बैठे हुए कलाईयों को क्लॉक वाइज और एंटी क्लॉक वाइज घुमाए। 
  • अगर लंबी दूरी तक ड्राइव करे वाले हैं तोस्टियरिंग व्हील या हैंडल पर आपकी ग्रिप थोड़ी ढीली रखें ताकि कलाइयों पर ज्यादा दबाव न बने।
  • काम के बीच-बीच में हाथ और उंगलियों को आराम देते रहें। लगातार काम ना करें। 
  • काम करते समय गर्दन और कमर सीधे रखें। 
  • कीबोर्ड की ऊंचाई सामान्य से ज्यादा ना रखें। 
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.