Thursday, Jan 20, 2022
-->
congress-accuses-up-yogi-bjp-govt-of-corruption-in-kumbh-mela-aap-also-angry-rkdsnt

कांग्रेस ने यूपी की योगी सरकार पर लगाए कुंभ मेला में भ्रष्टाचार के आरोप, AAP भी गर्म

  • Updated on 8/24/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों से सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी पर हमला तेज करते हुए कांग्रेस ने प्रयागराज में 2019 में आयोजित कुंभ मेले में व्यापक भ्रष्टाचार का मंगलवार को आरोप लगाते हुये कहा कि नियंत्रक एवं लेखा महा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट ने प्रदेश सरकार का पर्दाफाश कर दिया है। इस बीच आम आदमी पार्टी ने भी इस मुद्दे को उठाया है। आप सांसद संजय सिंह ने इस मुद्दे पर योगी सरकार पर जमकर हमला बोला है।

देश भर के किसान संघों के 1500 प्रतिनिधि दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मलेन में भाग लेंगे

कांग्रेस विधान परिषद दल के नेता दीपक सिंह ने मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान आरोप लगाया कि कुंभ मेले के आयोजन में किया गया यह घोटाला उत्तर प्रदेश के इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला है। सरकार ने ना सिर्फ इतना बड़ा घोटाला होने दिया बल्कि इसमें लिप्त भ्रष्टाचारियों को ढाई साल का समय भी दिया। 

अखिलेश यादव बोले- लोकतंत्र के साथ ठगी करने की रणनीति बना रही है भाजपा

उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने उचित समय पर कार्रवाई की होती तो कई मंत्री और अधिकारी भ्रष्टाचार के इस मामले में जेल गए होते। विधानपरिषद सदस्य सिंह ने कहा कि सरकार एक तरफ फिजूलखर्ची रोकने और पारदर्शिता के दावे करती रही और दूसरी तरफ जनता के पैसे को भ्रष्टाचार का पलीता लगाया जाता रहा। उन्होंने आरोप लगाया कि 2019 में प्रयागराज में आयोजित कुंभ मेले में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ, उस समय भी कुंभ में भ्रष्टाचार पर सवाल उठे लेकिन सरकार ने धर्म का आड़ लेकर उसपर पर्दा डाल दिया। 

चूड़ी विक्रेता की पिटाई मामले में अल्पसंख्यक आयोग ने इंदौर प्रशासन से रिपोर्ट तलब की

उन्होंने दावा किया कि कुंभ मेले के लिए 2743.60 करोड़ रुपए आवंटित हुए थे जिसमें जमकर भ्रष्टाचार हुआ और धन का अपव्यय किया गया। उन्होंने उदाहरण देते हुये कहा कि कुंभ मेले में जो 32 ट्रैक्टर खरीदे गए थे उनके रजिस्ट्रेशन नंबर मेल नहीं खाते, वह कार, मोपेड और स्कूटर के नंबर हैं। सिंह ने कहा कि कैग की रिपोर्ट के अनुसार क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय के अभिलेखों से मेसर्स स्वास्तिक कंस्ट्रक्शन से संबंधित सत्यापन रिपोर्ट में उल्लिखित 32 ट्रैक्टरों की पंजीकरण संख्या के सत्यापन में पता चला कि 32 में से चार ट्रैक्टरों के पंजीकरण नंबर एक मोपेड, दो मोटरसाइकिल और एक कार के थे।

राहुल गांधी का आरोप- देश की संपत्तियों को बेच रहे हैं PM मोदी

 कुंभ मेले में आपदा राहत कोष से गृह (पुलिस) विभाग को 65.87 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया, कैग ने इसपर भी सवाल उठाया है कि आपदा राहत कोष का उपयोग तो आपदा की स्थिति में होता है, ऐसे में आवंटित धन का अपवयय हुआ है। सिंह ने कहा कि मेले में टिन, टेंट, पंडाल, बैरिकेडिंग आदि के लिए 105 करोड़ रुपये आवंटित थे, लेकिन इन मदों में मेला अधिकारी ने 143.13 करोड़ रुपये खर्च किए। वहीं उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा खरीदे गये 10 ड्रोन कैमरों पर 32.50 लाख रुपये की लागत आयी, लेकिन उनका उपयोग नहीं हुआ।

बुनियादी ढांचा क्षेत्रों की संपत्तियों के मौद्रिकरण में जुटी मोदी सरकार, सीतारमण का खास ऐलान

comments

.
.
.
.
.