Friday, May 14, 2021
-->
congress asked the modi government to repeal the agricultural law pragnt

कांग्रेस ने मोदी सरकार से कृषि कानून को निरस्त करने को लेकर कहा- 'हठ त्याग दें' देश की सोचें

  • Updated on 12/5/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। किसान प्रतिनिधियों और केंद्र के बीच नए दौर की बातचीत के बीच कांग्रेस (Congress) ने कहा कि सरकार को अपनी हठ छोड़कर केंद्रीय कृषि कानूनों (Farm Laws) को निरस्त करना चाहिए। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने आरोप लगाया कि सरकार ने इन कानूनों के माध्यम से देश के किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य और मंडियों के नहीं होने वाली स्थिति में धकेल दिया है।

ट्रूडो ने फिर दिया किसानों का साथ, कहा- किसानों के प्रदर्शन करने के अधिकार को मेरा समर्थन

कांग्रेस ने ट्वीट कर बोला हमला
किसान प्रतिनिधियों और केंद्र सरकार के मंत्रियों के बीच बैठक से पहले कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने ट्वीट किया, 'मोदी जी, राजहठ त्यागिये, राजधर्म मानिए! अन्नदाता की सुनें, काले कानूनों को निरस्त करें। वरना, इतिहास ने कभी अहंकार को माफ नहीं किया।'

Randeep Singh Surjewala

राहुल गांधी ने कहा- बिना MSP के मुसीबत में थे बिहार के किसान, अब PM ने पूरे देश को इसी खतरे में डाला

राहुल गांधी ने ट्वीट कर आरोप लगाया, 'बिहार का किसान एमएसपी-एपीएमसी के बिना बेहद मुसीबत में है और अब प्रधानमंत्री ने पूरे देश को इसी कुएं में धकेल दिया है। ऐसे में देश के अन्नदाता का साथ देना हमारा कर्तव्य है।'

BJP का कनाडा PM पर निशाना, कहा- भारतीय किसानों की बेहतरी को लेकर कनाडा की रुचि बेहद अजीब

अधिकार की लड़ाई में उतरीं इन सभी बहनों को नमन
किसानों के आंदोलन में महिलाओं की भागीदारी से जुड़ी खबर का हवाला देते हुए उन्होंने कहा, 'आंदोलन में शामिल महिला किसान की शक्ति और संकल्प भी भारत के नारीवाद का एक पहलू है। कृषि कानूनों के रद्द होने तक ये डटकर मोदी सरकार के अत्याचारों का सामना कर रही हैं। अपने अधिकार की लड़ाई में उतरीं इन सभी बहनों को नमन!'

Rahul Gandhi

Farmers Protest: कांग्रेस ने किया दावा, समाज के सभी वर्गों के खिलाफ हैं कृषि संबंधी कानून

राहुल गांधी का बीजेपी पर हमला 
इससे पहले कांग्रेस सांसद ने किसान नेताओं और केंद्र सरकार के बीच दूसरे दौर की बातचीत की पृष्ठभूमि में गुरुवार को कहा कि कृषि संबंधी 'काले कानूनों' को पूरी तरह से रद्द करने से कम कुछ भी स्वीकार करना किसानों के साथ विश्वासघात होगा। उन्होंने ट्वीट किया, 'काले कृषि कानूनों को पूर्ण रूप से रद्द करने से कम कुछ भी स्वीकार करना भारत और उसके किसानों के साथ विश्वासघात होगा।'

शरद पवार बोले- राहुल गांधी में ‘निरंतरता’ की लगती है कमी

कांग्रेस नेता का दावा
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने दावा किया कि केंद्रीय कृषि कानून समाज के सभी वर्गों के खिलाफ हैं और इनके लागू होने से कुछ कंपनियां मनमाने ढंग से अनाज का दाम तय करेंगी। सुरजेवाला ने शुक्रवार को पार्टी की एक डिजिटल परिचर्चा में कहा, 'मोदी सरकार के ये काले कानून केवल किसान के खिलाफ नहीं हैं। ये काले कानून इस देश के आम जन-मानस, मध्य वर्ग, निम्न मध्य वर्ग, गरीब, मजदूर सभी वर्गों के खिलाफ हैं।'

बिहार में भी किसानों आंदोलन को मिला राजद का समर्थन, होगा प्रदर्शन

कांग्रेस ने दागे सवाल
उन्होंने सवाल किया, 'देश में 62 करोड़ किसान हैं। खाद्य सुरक्षा कानून के तहत 82 करोड़ हिंदुस्तानियों को राशन देना अनिवार्य है। कई अन्नपूर्णा योजनाएं और दूसरी योजनाएं हैं। जब किसानों से सीधे सरकार अनाज नहीं खरीदेगी तो फिर राशन दुकानों पर सस्ता अनाज कैसे मिलेगा?' कांग्रेस नेता ने दावा किया कि आने वाले समय में कुछ बड़े औद्योगिक समूह अनाज के दाम तय करेंगे और लोगों को महंगे दामों में अनाज मिलेगा।

यहां पढ़े 10 अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.