Tuesday, Dec 07, 2021
-->
congress asked why were our soldiers sent to the enemy china unarmed video rkdsnt

वीडियो जारी कर कांग्रेस ने पूछा- हमारे सैनिकों को दुश्मन के पास निहत्था क्यों भेजा गया?

  • Updated on 6/18/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ ङ्क्षहसक झड़प में 20 भारतीय जवानों के शहीद होने को लेकर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह चीन की मंशा समझने में विफल रही और उसकी इस चूक की कीमत देश को सैनिकों की शहादत के रूप में चुकानी पड़ी। इसके साथ ही सुरजेवाला ने एक वीडियो भी शेयर किया है, जिसमें भारतीय जवान चीनी सैनिकों के साथ बिना हथियार के नजर आ रहे हैं। 

राहुल गांधी के आरोपों पर भड़की भाजपा, कहा- राजनीति कर रही है कांग्रेस

भारत की आपत्ति के बावजूद नेपाल की संसद ने पारित किया नक्शा बदलने संबंधी विधेयक

कांग्रेस प्रवक्ता सुरजेवाला ने विदेश मंत्री एस जयशंकर के जबाब में यह वीडियो शेयर किया है। दरअसल जयशंकर ने कहा था कि जवान हथियारों के साथ थे। सुरजेवाला अपने ट्वीट में लिखते हैं, 'तथ्यों के साथ खिलवाड़ नहीं करें जयशंकर। कृपया सोशल मीडिया के इस वीडियो के देखें और बताएं कि हथियार क्यों नहीं ले जाने दिए गए। और सीमा प्रबंधन के समझौते को लेकर इसे तर्कसंगत ठहराने की कोशिश नहीं करें।' 

अनुराग कयश्प ने पूछा सवाल- China में सर्जिकल स्ट्राइक allowed नहीं है क्या?

कांग्रेस ने प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री से सवाल किया कि जांबाज सैन्य अधिकारी और सैनिकों को दुश्मन के पास निहत्था क्यों भेजा गया, और उनकी सुरक्षा के लिए हथियारबंद कुमुक क्यों उपलब्ध नहीं थी? पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में सवाल कहा, ‘‘ हमारे जांबाज सैन्य अधिकारी और सैनिकों को दुश्मन के पास निहत्था क्यों भेजा गया? और किसने हमारे सैन्य अधिकारी तथा सैनिकों को यह आदेश दिया?’’ 

भारत-चीन सीमा विवाद से अवगत हैं डोनाल्ड ट्रंप, मध्यस्थता की योजना नहीं

उन्होंने पूछा कि जब सैन्य अधिकारी और सैनिकों को बगैर हथियार भेजा जा रहा था, तो सेना के प्रोटोकॉल के अनुरूप उनकी सुरक्षा के लिए हथियारबंद कुमुक क्यों उपलब्ध नहीं थी? यदि कुमुक थी, तो उसे क्यों नहीं भेजा गया? 

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की अस्थियां गंगा में विसर्जित, पुलिस जांच जारी

सुरजेवाला ने कहा, ‘‘क्या चीन की मंशा समझने में भारी चूक केंद्र सरकार और उसके नेतृत्व की घोर विफलता का प्रतीक नहीं?’’ उन्होंने कहा कि आज हर मन इस बात से बेहद व्यथित है कि दिन-रात खुद के ‘मजबूत नेतृत्व’ का ढोल पीटने वाले दिल्ली के हुक्मरानों की कूटनीतिक चूक की कीमत देश को सैन्य अधिकारी और सैनिकों की शहादत से चुकानी पड़ी। 
 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.