Monday, Aug 15, 2022
-->
Congress calls Udaipur incident accused BJP member BJP denies allegation

कांग्रेस ने उदयपुर की घटना के आरोपी को ‘भाजपा का सदस्य’ बताया, BJP ने किया खंडन

  • Updated on 7/2/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस ने शनिवार को आरोप लगाया कि उदयपुर में हुई दर्जी कन्हैयालाल की निर्मम हत्या के मामले के दो आरोपियों में से एक ‘भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का सदस्य’ है। वहीं, राजस्थान की मुख्य विपक्षी पार्टी ने इस आरोप को खारिज करते हुए कहा कि यह बात निराधार है। कांग्रेस के मीडिया एवं प्रचार प्रमुख पवन खेड़ा ने यह सवाल भी किया कि क्या एक आरोपी के ‘भाजपा का सदस्य’ होने के कारण ही केंद्र सरकार ने आनन-फानन में इस मामले की जांच राष्ट्रीय अन्वेषण एजेंसी (एनआईए) को सौंपने का फैसला किया?  

 

उधर, भाजपा के आईटी विभाग के प्रमुख अमित मालवीय ने कहा कि उदयपुर की घटना के आरोपी रियाज अख्तरी को ‘भाजपा का सदस्य’ बताया जाना निराधार है और अगर ऐसा बताने की कोशिश होती है तो यह देश की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है। उदयपुर में दर्जी कन्हैयालाल की एक विवादास्पद सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर ग्राहक बनकर आए रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद ने मंगलवार को उसकी दुकान में धारदार हथियार से हमला कर हत्या कर दी थी।  

कांग्रेस बोली- राहुल गांधी के वीडियो पर ‘झूठ’ फैलाने के लिए माफी मांगे BJP, नहीं तो...

    खेड़ा ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस मामले की जांच एनआईए को हस्तांतरित किए जाने का स्वागत किया है, लेकिन नए तथ्य सामने आने पर यह सवाल उठ रहा है कि क्या केंद्र की भाजपा सरकार ने इन्हीं कारणों से इस घटना की जांच को जल्दबाजी में एनआईए को सौंपने का फैसला किया है?’’  खेड़ा ने यह भी पूछा, ‘‘क्या भाजपा अपने प्रवक्ताओं एवं नेताओं के जरिये पूरे देश में आग लगाकर ध्रुवीकरण कर चुनावी फायदा उठाने की कोशिश कर रही है?’’ उन्होंने सोशल मीडिया पोस्ट से जुड़ी कुछ तस्वीरें साझा करते हुए कहा, ‘‘भाजपा के अल्पसंख्यक मोर्चा के दो नेताओं ने फेसबुक पोस्ट में कहा है कि उदयपुर की घटना का एक आरोपी रियाज अख्तरी भाजपा का कार्यकर्ता है। रियाज अख्तरी भाजपा के नेता गुलाब चंद्र कटारिया के कार्यक्रमों में लगातार शामिल होता आया है। उदयपुर के स्थानीय नेता अपनी फेसबुक पोस्ट में उसे ‘हमारे कार्यकर्ता रियाज भाई’ कहकर संबोधित करते हैं।’’   

दिल्ली पुलिस ने माना- मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका पर मीडिया को दी गई गलत सूचना

  खेड़ा ने आरोप लगाया, ‘‘हम समझ सकते हैं कि फेसबुक पर साझा की गई तस्वीरें सामाजिक कार्यक्रमों की भी हो सकती हैं। लेकिन यह फेसबुक पोस्ट स्पष्ट कर रहा है कि कन्हैयालाल का हत्यारा रियाज भाजपा का सक्रिय सदस्य है।’’  भाजपा नेता अमित मालवीय ने कहा कि रियाज अख्तरी के संदर्भ में एक चैनल द्वारा की गई खोजी खबर में इस निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा गया है कि यह व्यक्ति भाजपा का सदस्य था। उन्होंने कहा कि इसके विपरीत कुछ भी दावा करना निराधार तथा भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा और आतंकवाद विरोधी लड़ाई के लिए खतरनाक है।   इससे पहले, कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी ने टविटर  पर कुछ खबरों के स्क्रीन-शॉट साझा करते हुए आरोप लगाया था कि उदयपुर की घटना का एक आरोपी भाजपा का सदस्य है। इस पर अमित मालवीय ने कहा, ‘‘मैं हैरान नहीं हूं कि आप फर्जी खबर फैला रही हैं। उदयपुर की घटना से जुड़े हत्यारे भाजपा के सदस्य नहीं थे। उन्होंने उसी तरह से भाजपा में घुसपैठ करने की कोशिश की, जैसे लिट्टे के हत्यारों ने राजीव गांधी की हत्या के लिए कांग्रेस में शामिल होने का प्रयास किया था।’’   

मप्र स्थानीय चुनाव के लिए AAP ने कसी कमर, केजरीवाल ने किए वादे

   मालवीय ने कहा, ‘‘कांग्रेस को आतंकवाद और राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर लोगों को मूर्ख बनाना बंद करना चाहिए।’’       भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की राजस्थान इकाई ने भी इस आरोप का खंडन किया कि उदयपुर के कन्हैयालाल हत्याकांड का मुख्य आरोपी भाजपा का सदस्य है। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष सादिक खान ने रियाज की कुछ स्थानीय भाजपा नेताओं के साथ एक तस्वीर सामने आने के बाद शनिवार को कहा कि तस्वीर इस बात का सबूत नहीं है कि आरोपी भाजपा का सदस्य है।  सादिक ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘कोई भी व्यक्ति किसी नेता के साथ तस्वीर ले सकता है। इसका मतलब यह नहीं है कि वह भाजपा का सदस्य है।’’  उन्होंने कहा कि यह घटना राज्य सरकार की नाकामी है क्योंकि कन्हैयालाल को स्पष्ट धमकी मिलने के बावजूद उसे सुरक्षा मुहैया नहीं कराई गई। सादिक ने कहा कि आरोपी अख्तरी की मोटरसाइकिल का नंबर 2611 था जो उसने 2013 में अपनी पसंद से प्राप्त किया था और यह कट्टरपंथी विचारधारा को दर्शाता है।            

सीएम पद छोड़ने के बाद उद्धव बोले- मेरे पास शिवसेना है, इसे कोई नहीं छीन सकता

 

comments

.
.
.
.
.