Thursday, Apr 02, 2020
Congress  Finance Minister got failed to explain the mathematics of budget

कांग्रेस ने कहा- वित्त मंत्री ने लच्छेदार भाषण में उलझाया, बजट के गणित को समझाने में रहीं विफल

  • Updated on 2/1/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस (Congress) ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए पेश हुए आम बजट (Budget 2020) को लेकर शनिवार को दावा किया कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने लच्छेदार भाषण दिया, लेकिन वह बजट संबन्धी गणित को स्पष्ट करने में विफल रहीं।

पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा (Anand Sharma) ने ट्वीट कर कहा,किसानों की आय दोगुना करने का वित्त मंत्री का दावा खोखला है और तथ्यात्मक वास्तविकता से परे है। कृषि विकास दर दो फीसदी हो गयी है। आय दोगुनी करने के लिए कृषि विकास दर को 11 फीसदी रहना होगा। 

बजट 2020 पर बोले राहुल गांधी- युवाओं के लिए सरकार के पास कोई योजना नहीं

वित्त मंत्री पर तंज
उन्होंने दावा किया, निर्मला सीतारमण बजट संबन्धी गणित को स्पष्ट करने में विफल रही हैं। नवंबर महीने तक जो राजस्व आया है वो बजट आकलन का सिर्फ 45 फीसदी है। शर्मा ने वित्त मंत्री पर तंज कसते हुए कहा, लच्छेदार भाषा और ऊंची आवाज में बोलना और पुरानी बातें करने का कोई मतलब नहीं।

बजट पेश होने से पहले पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सरकार को वेतनभोगी तबके को कर में राहत देनी चाहिए और ग्रामीण भारत में निवेश करना चाहिए। गौरतलब है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को वर्ष 2020-21 के लिए बजट पेश किया।

Budget 2020: ऑटो, ऑटो पार्ट्स पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाई गई

युवाओं के रोजगार के लिए कुछ नहीं
वहीं कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बजट के बाद कहा कि युवाओं के रोजगार के लिए बजट में कुछ नहीं है। वित्त मंत्री ने करीब 2 घंटे 45 मिनट तक वोला है। उसमें भी वो रूक-रूक कर वोली हैं और कई बातों को दोहराया है। उन्होंने कहा कि मैंने ऐसा कोई रणनीतिक विचार नहीं देखा जिससे हमारे युवाओं को रोजगार मिले। सरकार बहुत सी बाते करती है लेकिन कोई काम नहीं हो रहा।

जानें कौन हैं निर्मला सीतारमण के 5 पांडव, बजट 2020 के पीछे है जिनकी मेहनत

राजकोषीय घाटे को वित्त मंत्री ने स्वीकार किया
कपिल सिब्बल ने कहा, मुझे खुशी है कि वित्त मंत्री ने स्वीकार किया कि राजकोषीय घाटा 3.8% है। उनको देश को यह भी बताना चाहिए था कि अगर आप यूनियन और स्टेट का घाटा जोड़े तो यह 8 % से ज्यादा है जो देश के लिए चिंता की स्थिति है।

comments

.
.
.
.
.