Wednesday, Apr 14, 2021
-->
congress g23 leaders raise voice against gandhi family kmbsnt

गांधी परिवार के खिलाफ कांग्रेस के दिग्गज, भगवा साफा में नजर आए G-23 के असंतुष्ट नेता

  • Updated on 2/28/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस के जी-23 (Congress G23 Leaders) के प्रमुख नेताओं ने जम्मू में वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद (Gulam Nabi Azad) के नेतृत्व में बैठक की। पतन की ओर जाती कांग्रेस के हालातों पर अब ये नेता खुलकर सामने आ गए हैं और पार्टी के नेतृत्व पर सामने से सवाल उठा रहे हैं। इस बैठक में एक गौर करने वाली बात ये दिखी कि सभी दिग्गज नेता भगवा रंग की पगड़ी पहने नजर आए। 

एक ओर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी चुनावी राज्य तमिलनाडु का दौरा कर रहे हैं। वहीं जम्मू में पार्टी के असंतुष्ट नेता एक कार्यक्रम में इकट्ठा हुए। इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कांग्रेस के कामकाज पर सवाल उठाते हुए कहा कि कांग्रेस उन्हें कमजोर होती दिख रही है। उन्होंने गुलाम नबी आजाद को दोबारा राज्यसभा के लिए नामित ना किए जाने पर भी सवाल उठाए।

कांग्रेस में कलह! फिर से लगा G23 के असंतुष्ट नेताओं का जमघट, गांधी परिवार के कार्यशैली पर सवाल

भगवा साफा पहने जुटा G-23
कार्यक्रम में सोनिया-राहुल के पोस्टर नहीं थे। कार्यक्रम के मंच पर गांधी ग्लोबल लिखा था। पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद के नेतृत्व में कांग्रेस के कई नेता जम्मू के शांति सम्मेलन में पहुंचे, जिससे गांधी ग्लोबल फैमिली नामक एक एनजीओ ने आयोजित किया। इस दौरान भगवा साफा पहन कर g-23 जुटा हुआ था।

कपिल सिब्बल ने कही ये बात
कपिल सिब्बल ने कहा कि हम नहीं चाहते थे कि गुलाम नबी आजाद साहब को संसद से आजादी मिले, क्योंकि मैं समझता हूं कि जब से वो राजनीति में आए कोई ऐसा मंत्रालय नहीं रहा जिसमें वह मंत्री नहीं रहे। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि इस अनुभव को कांग्रेस पार्टी इस्तेमाल क्यों नहीं कर पा रही है।

उन्होंने कहा कि सच्चाई तो यह है कि पार्टी हमें कमजोर होती दिख रही है, लेकिन हम सच बोलेंगे इसीलिए हम यहां इकट्ठा हुए हैं। पहले भी यहां एकत्रित हुए थे। हमें इकट्ठा होकर इसे मजबूत करना है। हम नहीं चाहते थे कि गुलाम नबी आजाद साहब को संसद से आजादी मिले।

Farm Bill के खिलाफ कांग्रेस का 'हल्ला बोल', कृषि मंत्री के घर के बाहर किया प्रदर्शन

पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने कही ये बात
वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने कहा कि हम में से कोई ऊपर से नहीं आया। खिड़की रोशनदान से नहीं आया। दरवाजे से आए हैं। चलकर आए हैं। छात्र आंदोलन से आए हैं। युवक आंदोलन से आए हैं। यह अधिकार मैंने किसी को नहीं दिया कि मेरे जीवन में कोई बताए कि हम कांग्रेसी हैं कि नहीं है। यह किसी का हक नहीं है।

उन्होंने कहा कि हम बता सकते हैं कांग्रेस क्या है। हम बनाएंगे कांग्रेस को। आनंद शर्मा ने कहा कि पिछले 10 सालों में कांग्रेस कमजोर हुई है। यह भी कहा जा रहा है कि कांग्रेस में असंतुष्ट नेताओं का समूह राहुल गांधी के हालिया उत्तर दक्षिण की राजनीति वाली टिप्पणी से नाखुश है। वहीं इस मौके पर कांग्रेस के पूर्व चीफ और G-23 के नेता राज बब्बर ने कहा कि जी-23 चाहता है कि कांग्रेस मजबूत बने। 

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.