Wednesday, Oct 05, 2022
-->
congress-jairam-ramesh-questions-modi-bjp-govt-about-low-price-of-lic-shares-rkdsnt

जयराम रमेश ने LIC के शेयर की ‘कम’ कीमत को लेकर मोदी सरकार से किया सवाल

  • Updated on 4/29/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के आईपीओ के आने से पहले इस सरकारी कंपनी के शेयर की कथित तौर पर कम कीमत निर्धारित किए जाने को लेकर शुक्रवार को सरकार से सवाल किया।  उन्होंने ट््वीट किया, ‘‘शेयर बाजार के बड़े खिलाड़ी एलआईसी के शेयर की कीमत कम होने के बाद जैकपॉट लगने की संभावना देख रहे हैं। शेयर बाजार में लंबे समय से शिथिल पड़े लोग फिर से जग गए हैं।

नया मोर्चा बनाने को लेकर शिवपाल यादव को है आजम खान का इंतजार

मोदी सरकार को इस सबकी जानकारी है। कम कीमत शेयर के ओवर सब्सक्राइब होने की तरकीब के तौर पर काम करती है, लेकिन किस मूल्य पर?’’ सरकार एलआईसी में 22.13 करोड़ से अधिक शेयर बेच रही है, जिसके लिए कीमत दायरा 902-949 रुपये है। आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) चार मई को खुलेगा और नौ मई को बंद होगा। एलआईसी के शेयर 17 मई को शेयर बाजारों में सूचीबद्ध होंगे। सरकार को एलआईसी के आईपीओ से लगभग 21,000 करोड़ रुपये जुटाने की उम्मीद है।  

संवैधानिक रूप से अहम मामलों को सुप्रीम कोर्ट ने नहीं दी रफ्तार : माकपा मुखपत्र


आईपीओ की कीमत आकर्षक : एलआईसी चेयरमैन

भारतीय जीवन बीमा निगम के चेयरमैन एम आर कुमार ने शुक्रवार को कहा कि एलआईसी के आईपीओ की कीमत काफी आकर्षक है। उन्होंने साथ ही कहा कि निवेशक आने वाले वर्षों में बेहतर प्रतिफल की उम्मीद कर सकते हैं, क्योंकि कंपनी में वृद्धि की संभावनाएं हैं।   

पटियाला में झड़प के बाद हरकत में आए सीएम मान, AAP ने साधा BJP पर निशाना

  कुमार ने यहां कहा कि निहित मूल्य से अधिक नए व्यवसाय के मूल्य (वीएनबी) को देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि भविष्य में इसे 12-13 तक पहुंचना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस समय एलआईसी के लिए वीएनबी नौ है। यह पूछने पर कि क्या निवेश के लिए पर्याप्त धन है, उन्होंने कहा, ‘‘यह बाजार की धारणा पर आधारित है। एलआईसी कम वीएनबी से शुरू कर रहा है और इसमें बढऩे की संभावनाएं हैं।’’ वीएनबी एक खास अवधि के दौरान तैयार की गई नीतियों से भविष्य में होने वाली कमाई का वर्तमान मूल्य है।   

देश छोड़ रहीं स्टार्टअप कंपनियों से मंत्री पीयूष गोयल ने की अपील

  पिछले दिनों सूचीबद्ध हुई दो बीमा कंपनियों - न्यू इंडिया एश्योरेंस और जीआईसी रे - के निवेशकों को प्रतिफल नहीं मिलने के बारे में पूछने पर कुमार ने कहा कि वे अलग-अलग व्यवसायों में हैं और वहां माॢजन बहुत कम है। न्यू इंडिया एश्योरेंस का निर्गम मूल्य 800 रुपये प्रति शेयर था, जबकि जीआईसी रे के लिए राशि 912 रुपये प्रति शेयर थी। ये दोनों शेयर इस समय अपने निर्गम मूल्य के मुकाबले काफी नीचे हैं।  

यस बैंक-DHFL मामला: संजय छाबड़िया को विशेष अदालत ने CBI हिरासत में भेजा

    सार्वजनिक क्षेत्र की इन दो बीमा कंपनियों को 2017 में सूचीबद्ध किया गया था। एलआईसी के आईपीओ के आकार को पांच प्रतिशत से घटाकर 3.5 प्रतिशत करने का बचाव करते हुए कुमार ने कहा कि पूंजी बाजार के माहौल को देखते हुए यह सही आकार है। उन्होंने कहा कि आईपीओ के लिए खुदरा निवेशकों की उल्लेखनीय भागीदारी मिलने की उम्मीद है।     

संयुक्त राष्ट्र महासभा में AAP नेता आतिशी ने ‘केजरीवाल मॉडल’ पर डाला प्रकाश 

 

comments

.
.
.
.
.