Thursday, Apr 02, 2020
congress kapil sibal on caa politics bihar elections

CAA का नागरिकता से नहीं राजनीति से है संबंध, अब बिहार में अपनाएंगे ये हथकंडा: कपिल सिब्बल

  • Updated on 2/17/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नागरिकता संशोधन के विरोधी की आग दिल्ली में भी भड़की थी लेकिन दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections) पर इसका असर नहीं दिखा और बंपर जीत के साथ अरविंद केजरीवाल दिल्ली के सीएम बन गए। दिल्ली चुनाव के बाद अब सभी की आंखे इसी साल बिहार (Bihar) में होने वाले चुनाव पर टिक गई हैं। इस बीच कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) ने किसी पार्टी की नाम लिए बिना सीएए को लेकर सीधा बीजेपी (BJP) पर निशाना साधा। सिब्बल ने कहा कि सीएए का संबंध नागरिकता से नहीं है बल्कि राजनीति से है जो कि अब ये बिहार में अपनाएंगे। 

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि सीएए की इनकी जो राजनीति है उसका नागरिकता से कोई लेना देना नहीं है। इसका सीधा संबंध  राजनीति से है। इसी  राजनीति को इन्होंने दिल्ली चुनाव में अपनाने की कोशिश की लेकिन दिल्ली में तो इनका काम हुआ नहीं इसलिए अब उनकी नजर बिहार चुनाव पर है अब ये राजनीति बिहार में अपनाएंगे।

सिंधिया ने दोहराई अपनी बात, कहा-जनसेवक हूं, वादे पूरे नहीं हुए तो सड़क पर उतरूंगा

शाहीन बाग को लेकर बीजेपी का हल्ला बोल सही नहीं
फिर जो आज CAA के कारण पाकिस्तान से दबाए,उत्पीड़ित हिंदू और अन्य अल्पसंख्यकों का भागकर भारत आने का सिलसिला है, वो भी थम जाएगा क्योंकि दिल्ली में शाहीन बाग जीत गया है। अब तो दिल्ली सुरक्षित नहीं रहा, पता नहीं दिल्ली के घरों में भी यदि शाहीन बाग पहुंचेगा तो फिर कहां भाग कर जाओगे? यह सोचकर पड़ोसी देशों से भी अवैध नागरिकों का आना तो नहीं थमता लेकिन एक बार शायद जरुर पड़ोसी मु्ल्कों के अल्पसंख्यक विचार करते।

राजनीति का केंद्र बना शाहीन बाग
बता दें कि दिल्ली की राजनीति भी शाहीन बाग पर केंद्रित रही। बीजेपी के नेता लगातार शाहीन बाग को लेकर आम आदमी पार्टी (AAP) और कांग्रेस पर निशाना साधते रहे।

मिलिंद देवड़ा ने की केजरीवाल सरकार की तारीफ तो बोले अजय माकन- छोड़ दें कांग्रेस

आपकी पार्टी देश नहीं है
इससे पहले कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने गृह मंत्री अमित शाह पर ट्वीट कर कहा था, 'अमित शाह आप तय कीजिए कि आप देश के साथ हैं या शाहीन बाग के साथ। हमने तय कर लिया कि हम देश के साथ हैं आपके साथ नहीं। आफ केवल सरकार हैं और आपकी पार्टी देश नहीं है।'

comments

.
.
.
.
.