Sunday, Mar 29, 2020
congress leader dk shivakumar reaction on missing cafe coffee day vg siddhartha

CCD के सिद्धा्र्थ का लापता होना पूरी तरह से संदिग्ध: कांग्रेस नेता शिवकुमार

  • Updated on 7/30/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार ने मंगलवार को कहा कि उन्हें लगता है कि कैफै कॉफी डे के संस्थापक वीजी सिद्धार्थ का लापता होना पूरी तरह से संदिग्ध है और इस मामले की जांच होनी चाहिये। कर्नाटक के इस पूर्व मंत्री ने कहा कि सिद्धार्थ का कथित तौर पर लिखा गया पत्र, जो इस समय ‘‘घूम रहा है’’, वह शनिवार 27 जुलाई का है। उन्हें कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और अब भाजपा नेता एसएम कृष्णा के इस दामाद का रविवार को फोन आया था और उन्होंने पूछा था कि क्या वे मिल सकते हैं।

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के खिलाफ बाजार में लगे 'हमारी भूल, कमल का फूल' के पोस्टर

सिद्धार्थ सोमवार की दोपहर बेंगलुरु से हासन जिले के सक्लेशपुर के लिए निकले थे लेकिन अचानक उन्होंने अपने कार चालक से मंगलुरु चलने को कहा। पुलिस ने बताया कि नेत्रावती नदी पर बने पुल के पास वह कार से उतर गए और उन्होंने चालक से कहा कि वह टहलने जा रहे हैं।

अब्दुल्ला ने मोदी से मुलाकात का मांगा वक्त, जम्मू कश्मीर के हालात से कराएंगे अवगत

शिवाकुमार ने ट्वीट करके कहा, ‘‘यह अविश्वसीन है कि उनके जैसा एक हिम्मती आदमी ऐसा कदम उठायेगा।' उन्होंने कहा कि वह दशकों से सिद्धार्थ और उसके परिजन के निकटता से जानते हैं। उन्होंने कहा, 'हालांकि, मुझे समझ में आया है कि (सिद्धार्थ का लापता होना) पूरी तरह से संदिग्ध है और इस मामले की पूरी जांच होनी चाहिये।'

उन्नाव कांड की पीड़िता की कार की टक्कर को यूपी पुलिस ने बताया हादसा, विपक्ष नाराज

सिद्धार्थ ने लापता होने से पहले कंपनी के कर्मचारियों और निदेशक मंडल को कथित तौर पर लिखे पत्र में कहा, '‘मैं एक उद्यमी के तौर पर विफल रहा।’’ हालांकि इस बात की तत्काल पुष्टि नहीं हो सकी है कि यह पत्र स्वयं उन्होंने लिखा है। हालांकि यह खत उनके लैटरहैड पर है और उनके इस पर दस्तखत भी हैं। 

#BJP ने अपने सांसदों के साथ IIM, IISC जैसे संस्थानों के स्टूडेंट्स को बनाया इंटर्न

इस पत्र में उन्होंने कहा, 'मैं कहना चाहता हूं कि मैंने इसे सबकुछ दे दिया। मैं उन सभी लोगों की उम्मीदों पर खरा नहीं उतरने के लिए माफी मांगना चाहता हूं, जिन्होंने मुझ पर भरोसा किया।' सिद्धार्थ ने कहा कि उन्होंने लंबे समय तक लड़ाई लड़ी लेकिन, 'आज मैं हिम्मत हार रहा हूं क्योंकि मैं निजी इक्विटी साझेदारों में से एक की तरफ से शेयर वापस खरीदे जाने का और दबाव नहीं झेल सकता हूं, एक लेन-देन जो मैंने छह माह पहले एक दोस्त से बड़ी मात्रा में धन राशि उधार लेकर आंशिक तौर पर पूरा किया था।'

उन्नाव रेप मामले की जांच और अदालती प्रक्रिया का संज्ञान ले सुप्रीम कोर्ट : कांग्रेस

उन्होंने कहा, च्च्अन्य कर्जदाताओं की तरफ से अत्याधिक दबाव ने मुझे स्थिति के आगे झुक जाने पर मजबूर किया है।’’सिद्धार्थ ने पत्र में आरोप लगाया कि आयकर के पूर्व महानिदेशक ने बहुत उत्पीडऩ किया जिन्होंने, 'हमारे माइंडट्री सौदे को रोकने के लिए दो अलग-अलग मौकों पर हमारे शेयर जब्त कर लिए और बाद में हमारे कॉफी डे शेयर का अधिकार ले लिया जबकि हमने फिर से रिटर्न दाखिल कर दिया है।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.