Tuesday, Jan 25, 2022
-->
congress-mps-from-punjab-will-bring-private-bill-to-repeal-agricultural-laws-rkdsnt

पंजाब के कांग्रेस सांसद कृषि कानूनों को रद्द कराने के लिए लाएंगे प्राइवेट बिल

  • Updated on 2/9/2021

नई दिल्ली (नवोदय टाइम्स): पंजाब के कांग्रेस सांसद नए कृषि कानूनों को निरस्त कराने के लिए लोकसभा में प्राइवेट बिल लाएंगे। इन कानूनों की मुखालफत कर रहे कांग्रेस सांसद पिछले कई दिनों से जंतर-मंतर पर धरना भी दे रहे हैं।

पीएम मोदी की अपील के बावजूद किसान अड़े, टिकैत बोले- एमएसपी पर कानून जरूरी

पंजाब से ताल्लुक रखने वाले कांग्रेस के सांसदोंं ने मंगलवार को यहां पंजाब भवन में पत्रकारों को बताया कि इसी सत्र में निरसन एवं संशोधन विधेयक-2021 पेश किया जाएगा। कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने कहा कि दूसरे दलों के उन सांसदों का भी समर्थन हासिल करने का प्रयास करेंगे जो किसानों के लिए सहानुभूति रखते हैं और नए कृषि कानूनों को लेकर उनके रुख का समर्थन करते हैं।

पीएम मोदी के निमंत्रण के बाद किसान नेताओं ने सरकार से वार्ता की तारीख तय करने को कहा

यह पूछे जाने पर कि क्या इसी तरह का गैर सरकारी विधेयक राज्यसभा में भी लाया जाएगा तो कांग्रेस नेता ने कहा कि वे उच्च सदन के अपने साथियों से ऐसा करने का आग्रह करेंगे। इस गैर सरकारी विधेयक को पेश करने वाले सांसदों में तिवारी, परनीत कौर, जसबीर ङ्क्षसह गिल और संतोख चौधरी शामिल होंगे।

उत्तराखंड आपदा : लखिमपुर खीरी के बाद सहारनपुर के लोगों से संपर्क टूटा, परिजन परेशान


प्रेस कांफ्रेंस में पटियाला से लोक सभा सांसद परनीत कौर ने कहा कि पार्टी के सांसद लोकसभा स्पीकर से मिलकर तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने के लिए रिपीलंग एंड अमेंडमेंट एक्ट 2021 लाने और इस पर चर्चा करने की आज्ञा दें। उनहोने कहा कि जिस तरह पंजाब विधान सभा ने कृषि कानूनों को रद्द करने के लिए एक्ट के पास किया है।

टीम इंडिया वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप लिस्ट में चौथे स्थान पर खिसकी, इंग्लैंड टॉप पर

उन को उम्मीद है कि इस बिल को सहयोग मिलेगा और यह संसद में के पास हो जाएगा। उन्होंने कहा कि यह बिल इसलिए ला रहे हैं, जिससे हमारे संविधान को कुचला नहीं जा सके और आंदोलन कर रहे हमारे किसानों को अपनी हिमायत दी जा सके।

किसान आंदोलन पर सचिन समेत मशहूर हस्तियों के ट्वीट मामले की जांच करेगी ठाकरे सरकार

 

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.