Saturday, Jul 24, 2021
-->
Congress MPs protest against agriculture laws in Parliament House complex prshnt

कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस सांसदों का संसद भवन परिसर में प्रदर्शन, कई सदस्यों ने लिया हिस्सा

  • Updated on 7/22/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस के सांसदों ने तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए गुरुवार को पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में संसद भवन परिसर में प्रदर्शन किया। संसद भवन परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष आयोजित इस प्रदर्शन में कांग्रेस के दोनों सदनों के कई सदस्यों ने हिस्सा लिया। राहुल गांधी के अलावा लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, लोकसभा सदस्य मनीष तिवारी, गौरव गोगोई, रवनीत बिट्टू, राज्यसभा सदस्य प्रताप सिंह बाजवा और कई अन्य सांसद इस धरने में शामिल हुए। 

कांग्रेस सांसदों ने ‘काले कानून वापस लो’ और ‘प्रधानमंत्री न्याय करो’ के नारे लगाए। मुख्य विपक्षी पार्टी के सांसदो ने संसद भवन परिसर में यह धरना उस वक्त दिया जब मानसूत्र के दौरान केन्द्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठन जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने की तैयारी में हैं।     

केजरीवाल सरकार ने किया साफ- कोविड टीकाकरण के बिना स्कूल खोलना संभव नहीं 

तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान
गौरतलब है कि दिल्ली से लगे टिकरी बॉर्डर, सिंघू बॉर्डर तथा गाजीपुर बॉर्डर पर किसान पिछले साल नवम्बर से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उनकी मांग है कि तीनों कृषि कानूनों को वापस लिया जाए और न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानूनी गारंटी दी जाए। हालांकि सरकार का कहना है कि ये कानून किसानों के हित में हैं। सरकार और प्रदर्शन कर रहे किसानों के बीच कई दौर की वार्ता बेनतीजा रही है। 

Coronavirus: उपचाराधीन मरीजों की संख्या में लगातार दूसरे दिन वृद्धि, 24 घंटे में 41,383 नए मामले

200 किसानों की टुकड़ी जंतर मंतर पर
बता दें कि वीरवार सुबह दस बजे से मानसून सत्र समाप्त होने तक संसद के कामकाजी दिन के दौरान 200 किसानों की टुकड़ी जंतर मंतर पर पहुंचकर सरकार के विरोध में अपनी किसान संसद आयोजित करेगी। इसके लिए जंतर-मंतर पर तैयारी भी की जा रही है। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि पांच बसों में वे सुबह जंतर मंतर के लिए रवाना होंगे और पूरे दिन, संसद के कामकाज के दौरान विरोध स्वरूप किसान संसद का आयोजन करेंगे। 

मोर्चा नेता बलवीर सिंह राजेवाल ने कहा कि संसद विरोध मार्च में शामिल होने के लिए किसानों के जत्थे दिल्ली पहुंच चुके हैं और कर्नाटक, तमिलनाडु और अन्य दूर के राज्यों से भी किसानों की टुकड़ी पहुंच रही हैं। हर दिन अधिक से अधिक किसान विरोध स्थलों पर पहुंच रहे हैं और बीकेयू चदूनी के नेतृत्व में किसानों का एक बड़ा दल यमुनानगर से रवाना हुआ। इसी तरह की लामबंदी अन्य विरोध स्थलों पर भी हो रही है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.