Saturday, Jan 16, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 16

Last Updated: Sat Jan 16 2021 03:54 PM

corona virus

Total Cases

10,543,841

Recovered

10,178,890

Deaths

152,132

  • INDIA10,543,841
  • MAHARASTRA1,984,768
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA930,668
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU829,573
  • NEW DELHI631,884
  • UTTAR PRADESH595,142
  • WEST BENGAL564,098
  • ODISHA332,106
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN313,425
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH290,084
  • TELANGANA290,008
  • HARYANA265,199
  • BIHAR256,991
  • GUJARAT252,559
  • MADHYA PRADESH247,436
  • ASSAM216,635
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB169,225
  • JAMMU & KASHMIR122,651
  • UTTARAKHAND93,777
  • HIMACHAL PRADESH56,521
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,477
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM5,338
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,963
  • MIZORAM4,293
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,368
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
congress pawan khera attack pm narendra modi india china border dispute pragnt

चीनी सेना के पीछे हटने पर कांग्रेस का केंद्र पर तीखा हमला, कहा- क्या मांफी मांगेंगे PM मोदी?

  • Updated on 7/6/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस (Congress) ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चल रहे गतिरोध के बीच चीनी सैनिकों के पीछे हटने के लिए सहमति बनने को लेकर सवाल किया कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) सर्वदलीय बैठक के समय दिया अपना वह बयान वापस लेंगे और माफी मांगेंगे कि भारतीय सीमा में कोई नहीं घुसा है। पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा (Pawan Khera) ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री को देश को बताना चाहिए कि चीन (China) कितने किलोमीटर और कहां पीछे हटा है और अभी किन इलाकों में घुसपैठ किए हुए है?

राहुल पर BJP अध्यक्ष के हमले को लेकर कांग्रेस ने किया पलटवार, पूछे 6 सवाल

आनंद शर्मा ने भी गलवान वैली को लेकर कहा ये
वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा (Anand Sharma) ने इस घटनाक्रम पर कहा कि गलवान घाटी से चीनी सैनिकों का पीछे हटना स्वागत योग्य कदम है, लेकिन भारत सरकार (Indian Government) को चीन को पेगोंग सो इलाके से पीछे हटाने पर जोर देना चाहिए और सीमा पर कड़ी चौकसी बरतनी चाहिए। उन्होंने कहा कि चीन को यह समझना चाहिए कि सीमा पर शांति और पूर्व की यथास्थिति की बहाली फिर से विश्वास पैदा करने के लिए जरूरी है।

UP में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ने पर भड़की प्रियंका, बोलीं- झूठे प्रचार में लगी BJP सरकार

क्या PM मोदी देश से माफी मांगेगे?
पवन खेड़ा ने संवाददाताओं से कहा, 'अब 'प्रधानमंत्री जी से ये पूछना चाहते हैं कि जो उन्होंने सर्वदलीय बैठक के समय वक्तव्य दिया था, क्या उस वक्तव्य को वापस लेंगे? क्या वह देश से माफी मांगेगे कि हां मुझसे गलती हुई, मैंने ये गलतबयानी कर दी?' उन्होंने दावा किया, 'अब अगर चीन के सैनिक पीछे हट रहे हैं तो ये तो साबित हुआ ना कि वे हमारी सीमा में आए थे। प्रधानमंत्री के बयान को चीन ने अपने लिए एक क्लीनचिट की तरह इस्तेमाल किया। इससे हमारी जो कूटनीतिक मेहनत थी पूरे विश्व में, उसको चोट पहुंची है, उसको आघात पहुंचा है।'

कांग्रेस ने पीएम केयर्स फंड, वेंटीलेटर खरीद में गड़बड़झाले का लगाया आरोप

कितने पीछे गई चीनी सेना
खेड़ा ने कहा, 'प्रधानमंत्री के स्तर पर बैठा हुआ व्यक्ति जब गलत बयानी करता है तो बहुत गंभीर विषय हो जाता है। मुझे लगता है कि प्रधानमंत्री जी को स्वयं बाहर आकर बोलना चाहिए कि चीन की सेना कितना किलोमीटर तक पीछे गई है, कहां तक आई थी और कितना पीछे हटी है, अभी भी कितने इलाके पर काबिज है?'

NSA अजित डोभाल ने चीनी विदेश मंत्री से की बात और LAC पर पीछे हट गई सेना

सर्वदलीय बैठक में PM ने दिया था ये बयान
गौरतलब है कि मोदी ने भारत-चीन तनाव पर पिछले महीने बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में कहा कि न कोई हमारे क्षेत्र में घुसा और न ही किसी ने हमारी चौकी पर कब्जा किया है। इसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा था कि कुछ हलकों में प्रधानमंत्री के बयान की 'शरारतपूर्ण व्याख्या' का प्रयास किया जा रहा है।

अब बीजेपी के इस सांसद को अलॉट हुआ है प्रियंका गांधी का बंगला, 1 अगस्त तक खाली करने का समय

चीनी निवेश का केंद्र बिंदु कैसे बन गया गुजरात
खेड़ा ने गुजरात में चीन के निवेश का उल्लेख करते हुए यह आरोप भी लगाया, 'पिछले पांच साल में गुजरात में 43 हजार करोड़ रुपए का चीनी निवेश हुआ है, एमओयू हुए हैं। आज गुजरात चीनी निवेश का केंद्रबिंदु बन गया है।' उन्होंने कहा, 'हम चाहते हैं कि प्रधानमंत्री जी, स्पष्ट करें कि एक तरफ तो चीन हमारी सीमा पर घुसपैठ करने की कोशिश कर रहा है, हिमाकत कर रहा हो और दूसरी तरफ गुजरात भारत में चीनी निवेश का केंद्रबिंदु कैसे बन गया?'

लद्दाख में सेना के पीछे हटने की चीन ने की पुष्टि, कहा- तनाव कम करने को उठाए ये कदम

क्या है पूरा मामला?
गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख (Ladakh) की गलवान घाटी (Galwan Valley) में चीनी सेना (Chinese Troops) के पीछे हटने की शुरुआत से एक दिन पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (Ajit Doval) और चीनी विदेश मंत्री वांग यी (Wang Yi) ने टेलीफोन पर बात की जिसमें वे एलएसी से सैनिकों के तेजी से पीछे हटने पर सहमत हुए। विदेश मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि डोभाल और वांग के बीच रविवार को हुई वार्ता में इस बात पर सहमति बनी कि सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति एवं स्थिरता की पूर्ण बहाली के लिए सैनिकों का 'जल्द से जल्द' पीछे हटना आवश्यक है और दोनों पक्षों को मतभेदों को विवाद में तब्दील नहीं होने देना चाहिए। डोभाल और वांग दोनों देशों के बीच सीमा वार्ता से संबंधित विशेष प्रतिनिधि हैं।

comments

.
.
.
.
.