Tuesday, Nov 30, 2021
-->
congress-presidents-election-postponed-again-know-why-rahul-gandhi-kept-silence-albsnt

फिर से टला कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव, जानें राहुल गांधी ने क्यों साधी चुप्पी?

  • Updated on 10/16/2021

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। आज राजधानी में कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक हुई। जिसमें पार्टी की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी ने G-23 नेताओं को जवाब दिया तो साफ हो गया कि कांग्रेस की कमान फिलहाल उन्हीं के पास रहेगी। कारण इस बैठक में कई वरिष्ठ नेताओं ने राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने की मांग की। लेकिन अब अध्यक्ष पद के चुनाव का प्रक्रिया ही अगले साल सितंबर 2022 में शुरु होगा। हालांकि CWC नेताओं के आग्रह पर राहुल गांधी अगर फैसला लें लें तो वे अध्यक्ष कभी-भी बन सकते है। यानी सबकुछ राहुल गांधी पर निर्भर करता है कि उन्हें कब पार्टी का अध्यक्ष बनना है।

किसान आंदोलनः लखबीर सिंह की हत्या मामले में दलित संगठनों ने कड़ी सजा की मांग की

बता दे कि G-23 समूह जिसे कांग्रेस के असंतुष्ट ग्रूप कहा जाता है। इस समूह के नेता कपिल सिब्बल ने इससे पहले सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए कहा था कि पता नहीं पार्टी का अध्यक्ष कौन है? उनके इस बयान की पार्टी के नेताओं ने तीखी आलोचना की थी। लेकिन आज साफ हो गया कि सोनिया गांधी ही अगले एक साल तक या कहें कि जब तक संगठन चुनाव नहीं हो जाता है तब तक अध्यक्ष रहेगी। वहीं माना जा रहा है कि अगले साल देश में पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव तक इसे जानबूझकर टाल दिया गया है। 

विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने रामकुमार तंवर को बनाया नोएडा महानगर अध्यक्ष

मालूम हो कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के सक्रिय रहने से माना जा रहा था कि इस बार कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक में राहुल गांधी की ताजपोशी होगी। लेकिन ऐसा नहीं होने से सोनिया के कार्यशैली पर फिर से सवाल उठ सकते है।पिछले कई महीनों से सोनिया के ज्यादा सक्रिय नहीं होने से पार्टी में असंतुष्ट नेताओं ने पू्र्णकालिक अध्यक्ष की मांग उठाई थी। लेकिन सोनिया के खुद को अध्यक्ष होने और संगठन चुनाव को एक साल टालने के बीच राहुल गांधी पर निर्भर करता है कि वे कब पद संभालेंगे।  

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.