Friday, Dec 03, 2021
-->
congress questions on 3000 kg heroin recovered from adani owned mundra port rkdsnt

अडानी स्वामित्व वाले मुंद्रा पोर्ट से 3000 किलोग्राम हेरोइन बरामद, कांग्रेस ने उठाए सवाल

  • Updated on 9/21/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस ने गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह पर करीब 3000 किलोग्राम हेरोइन बरामद किये जाने को लेकर मंगलवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधा और सवाल किया कि देश का गौरव गुजरात इस सरकार की नाक के नीचे ड्रग तस्करों की पसंसदीदा क्यों जगह क्यों बन गया। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने गुजरात के कच्छ जिले में मुंद्रा बंदरगाह से 2,988.21 किलोग्राम हेरोइन जब्त की है, जिसकी कीमत 15000 करोड़ रुपये है।  

सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने केंद्र को भेजे जजों के नाम, 13 हाई कोर्ट को मिलेंगे नए चीफ जस्टिस 

कांग्रेस प्रवक्ता प्रवक्ता पवन खेड़ा ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘पिछले सप्ताह गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह पर हिंदुस्तान के इतिहास में सबसे अधिक मात्रा में मादक पदार्थ जब्त किया गया। 3,000 किलोग्राम हेरोइन अफगानिस्तान से भारत में भेजी गई थी। ये बहुत ज्यादा गंभीर मामला बनता है। यह भारत के नौजवानों को बर्बाद करने की साजिश है। यही नहीं, इससे मिले पैसे का उपयोग करके भारत में ही आतंकी गतिविधियों का वित्तपोषण भी किया जाता है।’’ 

केजरीवाल ने गोवा विधानसभा चुनाव को लेकर गारंटी के साथ खोला वादों का पिटारा

कांग्रेस नेता के मुताबिक, ‘‘सबको पता है कि इस बंदरगाह का स्वामित्व अडाणी समूह के पास है।’’ उन्होंने सवाल किया, ‘‘आखिर क्या कारण है कि पिछले कुछ वर्षों में मादक पदार्थों यानी ड्रग्स की तस्करी करने वालों का सबसे प्रिय रास्ता वह गुजरात हो गया है, जो देश का गौरव है? पिछले 18 महीने में नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो का कोई पूर्णकालिक महानिदेशक क्यों नहीं बनाया गया?’’ 

संघ प्रमुख मोहन भागवत झारखंड, राजस्थान के बाद मध्य प्रदेश के दौरे पर

कांग्रेस प्रवक्ता ने केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘मुंबई में फिल्म से जुड़े किसी व्यक्ति के पास दो ग्राम ड्रग्स मिल जाए तो देश के सभी मुद्दों को दरकिनार कर मीडिया में बहस होती है, लेकिन 3000 किलोग्राम ड्रग्स को लेकर खामोशी है।’’ खेड़ा ने सवाल किया, ‘‘आखिर क्या कारण है कि प्रधानमंत्री, जो कि गुजरात से आते हैं, वो भी चुप हैं? गृहमंत्री जो कि गुजरात से आते हैं, वो भी चुप हैं? आला अधिकारी भी चुप क्यों हैं?’’ 

महंत नरेंद्र गिरि का सुसाइड नोट मिला, लिखा- आनंद गिरि के कारण मैं ...

उन्होंने दावा किया कि इतने बड़े पैमाने पर तस्करी का काम किसी गिरोह के जरिये ही सकता है, लेकिन सरकार ऐसे गिरोह के खिलाफ अब तक कार्रवाई नहीं कर पाई है। 

कन्हैया कुमार, जिग्नेश मेवाणी अगले महीने कांग्रेस का थाम सकते हैं दामन

 


 

comments

.
.
.
.
.