Friday, Dec 09, 2022
-->
congress''''s question to modi government did it fail to understand china''''s intention prshnt

कांग्रेस का मोदी सरकार से सवाल, क्या चीन की मंशा समझने में हुई चूक?

  • Updated on 6/18/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत चीन सीमा पर भारतीय जवानों की शहादत से पूरा देश गुस्से में है ऐसे में कांग्रेस लगातार मोदी सरकार पर हमलावर हो रही है। सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी और राहुल गांधी के बाद कांग्रेस नेता केसी वेगुगोपाल और रणदीप सिंह सुरजेवाला भी सरकार से सवाल कर रही है। इन्होंने कहा कि आज जब पूरा देश हमारे लिए सैन्य अफसरों तथा सैनिकों की शहादत पर अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि दे रहा है तो स्वाभाविक तौर से देशवासियों के मन में अधिक पीड़ा, आक्रोश और गुस्सा है। नेताओं ने कहा कि अब यह साफ हो गया है कि चीन ने अक्षम्य अपराध किया है।

SC ने जगन्नाथ पुरी की सालाना रथ यात्रा पर लगाई रोक, कहा- लोगों के स्वास्थ्य के लिए है जरूरी

लोगों में सैनिको के सहादत पर गुस्सा
चीनी सैनिकों ने राइफल की संधिनो, लोहे की रॉड, कटीली तारर वाली लाठियों, डंडो और अन्य अलग हथियारों से जानबूझकर हमारे सैनिको, अधिकारी पर हमला किया है। उन्होंने कहा कि यह सोचकर ही मन काप  उठता है कि जिसने दिया तो था और निर्ममता पूर्वक तरीके से हमला किया गया है।

कांग्रेस नेता केसी वेगुगोपाल और रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि सबसे ज्यादा आवेशित करने वाले और तकलीफ दे बात है कि देश में आज हर किसी के मन में वेदना और रोष है। लोगों में गुस्सा है कि उन्होंने चीन से अपने हाथ से लोहा लेने के लिए क्यों भेजा गया।

जवानों की शहादत पर सियासत तेज, संबित पात्रा ने साधा राहुल गांधी पर निशाना

कांग्रेस का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री से सवाल
कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री से पूछा कि क्या वह इसका जवाब देंगे, हमारे जांबाज सैन्य अधिकारी और सैनिकों को दुश्मन के पास निहत्ते क्यों भेजा दिया गया। किस हुक्मरान ने हमारे सैन्य अधिकारी व सैनिकों को ही आदेश दिया। उन्होंने कहा कि क्या चीन की मनसा समझना भारी चूक है, केंद्रीय सरकार और उनके नेतृत्व की घोर विफलता का प्रतीक नहीं है।

चीनी कंपनी को ठेका दिए जाने पर भड़की प्रियंका गांधी, बोलीं- यह घुटने टेकने जैसा

बैकअप का इस्तेमाल क्यों नहीं किया गया
कांग्रेस ने आगे पूछा कि जब हमारे सैन्य अधिकारियों और सैनिकों को वजह हथियार भेजा जा रहा था, तो आर्मी प्रोटोकॉल के अनुरूप उनकी सुरक्षा के लिए हथियारबंद बैकअप क्यों उपलब्ध नहीं कराया गया, अगर था तो उसे क्यों नहीं भेजा गया इसके अलावा उन्होंने सरकार से सवाल किया कि चीन के षड्यंत्रकारी हमले के बारे में पहले से जानकारी है सूचना सरकार के पास क्यों नहीं थी।

कांग्रेस ने कहा कि आज हरमन इस बात से बेहद व्यथित है कि दिन-रात खुद के मजबूत नेतृत्व का बोलबाला करने वाले दिल्ली के हुक्मरानों की कूटनीति की क्योंकि कीमत देश को सैन्य अधिकारियों और सैनिकों की शहादत से चुकानी पड़ी है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

comments

.
.
.
.
.