Wednesday, Aug 04, 2021
-->
congress shashi tharoor targets modi govt covid rose and our economy collapsed pragnt

Coronavirus: कांग्रेस ने साधा केंद्र पर निशाना, कहा- सरकार को मिला मुंह छिपाने का बहाना

  • Updated on 9/20/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर थमता हुआ नजर नहीं आ रहा है। यहां आए दिन एक लाख के करीब कोरोना केस सामने आ रहे हैं। इस बीच कांग्रेस (Congress) ने केंद्र सरकार (Central Government) पर कोरोना संकट से निपटने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए रविवार को कहा कि इस महामारी को लेकर सरकार के स्तर पर कोई तैयारी नहीं थी और सिर्फ 'कुप्रबंधन' देखने को मिला।

कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों से CM त्रिवेंद्र सिंह रावत नेे की सावधानी बरतने की अपील

कोरोना के कारण मुंह छिपाने का मिला बहाना
लोकसभा में नियम 193 के तहत कोविड-19 वैश्विक महामारी पर चर्चा की शुरुआत करते हुए कांग्रेस सांसद शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने यह भी कहा कि सरकार को कोरोना वायरस की जांच और इससे निपटने के उपायों को लेकर अधिक पारदर्शिता का परिचय देना चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया, 'इस बीमारी के कारण सरकार के लिए एक अच्छी बात हो गई कि उसे मुंह छिपाने का बहाना मिल गया।'

मप्र BJP अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा के पिता के निधन पर चौहान, कमलनाथ, उमा भारती ने जताया शोक

सरकार की तरफ से 'कुप्रबंधन' देखने को मिला
तिरुवनंतपुरम से लोकसभा सदस्य ने आरोप लगाया कि देश में रोजाना सबसे ज्यादा मामले आ रहे हैं और सबसे अधिक मौतें हो रही हैं। यह चिंता का विषय है। सरकार की तरफ से 'कुप्रबंधन' देखने को मिला है। उन्होंने कहा कि किसी भी लोकतंत्र में निवार्चित सरकार की जिम्मेदारी होती है कि वह नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करे। हमने देखा कि सरकार की तरफ से उठाए जाने वाले कदमों के संदर्भ में स्पष्टता और तैयारियों की कमी देखने को मिली।

Coronavirus: राजस्थान के 11 जिला मुख्यालयों पर धारा 144 लागू, 5 से अधिक लोगों के इकट्ठा होने पर रोक

कोरोना संकट पर नहीं सुनी राहुल गांधी की बात
थरूर ने कहा कि जनवरी में यह संकेत मिल गया था कि यह वायरस खतरनाक है। जनवरी महीने में भारत पहला मामला आया। इसके बाद राहुल गांधी ने सरकार को आगाह किया था कि कोरोना वायरस संकट खतरनाक है और सरकार को समय रहते कदम उठाने पड़ेंगे। उन्होंने कहा कि अगर राहुल गांधी की चेतावनी को सुन लिया गया होता तो स्थिति कुछ और होती। लेकिन यह सरकार मध्य प्रदेश में सरकार गिराने में लगी थी। सरकार ने इस समस्या को नजरअंदाज किया।

पीएम मोदी फिर कर सकते हैं कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक, कोरोना पर हो सकती है चर्चा

पीएम मोदी पर कसा तंज
कांग्रेस सांसद के अनुसार, यह सरकार की जिम्मेदारी है कि वह देश को विश्वास में ले, न कि लोगों को अंधेरे में रखे। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के खिलाफ 21 दिनों में लड़ाई जीती जाएगी। लेकिन पिछले छह महीने से स्थिति खराब होती है। उन्होंने सरकार पर तंज कसते हुए कहा, 'हम यह नहीं कहते थे कि महामारी नहीं थी, हम यह बता रहे हैं कि तैयारी नहीं थी।'

कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल अगले सप्ताह से पुणे में होगा शुरू, इतने लोगों पर होगा परीक्षण

GDP को लेकर सरकार पर बोला हमला
पूर्व केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि कोरोना संकट के खिलाफ सरकार के प्रयास गुमराह करने वाले थे और वे विफल रहे। कांग्रेस नेता ने कहा कि बिना तैयारी के लॉकडाउन लगाकर कारोबारी गतिविधियों को रोक दिया गया। अर्थव्यवस्था पहले से खराब स्थिति में थी जो और खराब हो गई। मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी 24 फीसदी गिर गई।

कृषि बिल पास होने पर बोले अहमद पटेल, उपसभापति ने लोकतांत्रिक परंपराओं को पहुंचाया नुकसान

कांग्रेस ने दिए थे कई सुझाव
उन्होंने दावा किया कि 2.1 करोड़ वेतनभोगी लोगों ने अप्रैल-जुलाई के दौरान अपनी नौकरी गंवा दी। थरूर ने कहा कि कांग्रेस की तरफ से कई रचनात्मक सुझाव दिए गए थे, लेकिन सरकार ने इन पर अमल नहीं किया। इन सुझावों में लोगों के खातों में पैसे डाले जाने का सुझाव प्रमुख था, लेकिन इसको भी क्रियान्वित नहीं किया गया।

कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरों को यहां पढ़ें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.