Monday, May 23, 2022
-->
congress-silent-dharna-priyanka-gandhi-demanding-dismissal-of-union-minister-mishra-rkdsnt

लखीमपुर खीरी  कांड : गुजरात कांग्रेस ने की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच की मांग

  • Updated on 10/11/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस की गुजरात इकाई ने तीन अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों की हत्या के खिलाफ सोमवार को मौन विरोध प्रदर्शन किया और उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश की सीधी निगरानी में इस घटना की जांच कराए जाने की मांग की। राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री और कांग्रेस के नवनियुक्त गुजरात प्रभारी रघु शर्मा ने शहर के पालड़ी इलाके में महात्मा गांधी द्वारा स्थापित कोचराब आश्रम के बाहर पार्टी द्वारा आयोजित मौन विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व किया।      कांग्रेस की गुजरात इकाई के अध्यक्ष अमित चावड़ा, राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता परेश धानाणी और प्रदेश इकाई के पूर्व प्रमुख भरतसिंह सोलंकी और अर्जुन मोढवाडिया तथा पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किसानों के लिए न्याय को लेकर काले मास्क पहनकर और बैनर लेकर तीन घंटे लंबे मौन विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया। 

कोयला संकट को लेकर केजरीवाल के बाद यूपी के सीएम योगी ने पीएम मोदी से लगाई गुहार

प्रदर्शन के बाद पत्रकारों से बातचीत में शर्मा ने किसानों के खिलाफ हिंसा और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और अन्य पार्टी नेताओं को लखीमपुर खीरी पहुंचने से रोकने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकारों की आलोचना की। शर्मा ने कहा, ‘‘चूंकि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का बेटा हत्या में शामिल था, इसलिए हम स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच की उम्मीद नहीं कर सकते। अजय मिश्रा को अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए। हम मांग करते हैं कि जांच उच्चतम न्यायालय के किसी न्यायाधीश की सीधी निगरानी में एक विशेष जांच दल को सौंपी जानी चाहिए।’’ शर्मा ने कहा, ‘‘कांग्रेस ने किसानों के समर्थन में देश भर में इस तरह का मौन विरोध प्रदर्शन किया है, जबकि भाजपा के नेता मृतक किसानों के परिजनों से भी नहीं मिले। कांग्रेस हमेशा किसानों के साथ खड़ी रही है जबकि भाजपा केवल उनकी आय दोगुनी करने के खोखले वादे करती है।’’ 

पीएम मोदी ने की प्राइवेट इंडस्ट्री के संगठन ‘इंडियन स्पेस एसोसिएशन’ की शुरुआत

प्रियंका गांधी के नेृतत्व में कांग्रेस का ‘मौन धरना’

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने लखीमपुर खीरी मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा‘टेनी’को बर्खास्त करने की मांग को लेकर सोमवार को ‘मौन धरना’ दिया। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के पुत्र आशीष मिश्रा ङ्क्षहसा के मामले के आरोपी हैं। कांग्रेस के प्रवक्ता ने बताया कि प्रियंका गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता लखीमपुर खीरी मामले में राज्य की राजधानी के जीपीओ पार्क में एकत्र हुए और महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने मौन धरने पर बैठे और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा‘टेनी’को बर्खास्त करने की मांग की। 

लखीमपुर कांड : गृह राज्य मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा को कोर्ट ने पुलिस रिमांड में भेजा

पार्टी ने मामले में स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए गृह राज्य मंत्री को बर्खास्त करने की मांग की है। लखीमपुर हिंसा में तीन अक्टूबर को चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत हो गई थी।  प्रवक्ता ने बताया कि उप्र कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा, विधान परिषद में नेता दीपक सिंह सहित कांग्रेस कार्यकर्ता और नेता सोमवार दोपहर जीपीओ पार्क में एकत्रित हुए और बाद में इसमें प्रियंका गांधी भी शामिल हो गईं।      प्रियंका गांधी ने रविवार को वाराणसी में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था, च्च्कांग्रेस कार्यकर्ता किसी से नहीं डरते, भले ही आप उन्हें जेल में डाल दें या उनकी पिटाई करें। हम तब तक लड़ते रहेंगे जब तक केंद्रीय राज्य मंत्री (अजय मिश्रा) इस्तीफा नहीं देते। हमारी पार्टी ने देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी है और कोई हमें चुप नहीं करा सकता।’’  

एअर इंडिया की बिक्री : मोदी सरकार पर येचुरी का तंज - भारत के राष्ट्रीय संपदा की लूट जारी है 

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को शनिवार रात 12 घंटे की पूछताछ के बाद लखीमपुर में गिरफ्तार कर लिया गया था । कांग्रेस के ‘मौन धरने’ पर सवाल उठाते हुए राज्य सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि कानून अपना काम करेगा और किसी भी तरह के दबाव से प्रभावित नहीं होगा।  उन्होंने कहा कि अगर वे‘मौन व्रत’या प्रदर्शन करना चाहते हैं तो यह उनका लोकतांत्रिक अधिकार है, कांग्रेस का यह चलन है। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का नाम लिये बिना कहा कि हमारे प्रधानमंत्री दस साल से‘मौन व्रत’कर रहे थे, हो सकता है कि अगर वे‘मौन व्रत’पर बैठें हैं तो वे प्रधानमंत्री बनने का सपना भी देख सकते हैं।  

लखीमपुर मामले में राहुल बोले- मंत्री को बर्खास्त नहीं करके न्याय में बाधा डाल रही है भाजपा

सिंह ने कहा, च्च्लेकिन भाई-बहन (राहुल,प्रियंका) क्या करें?.. हम उन्हें गूगल मैप्स (नक्शा) भेज रहे हैं जिसमें एक रास्ता राजस्थान को जाता है, जहां एक दलित की हत्या की गई थी और वे अभी तक वहां नहीं गए हैं, और दूसरा रास्ता छत्तीसगढ़। उन्हें अपने मुख्यमंत्री से पूछना चाहिए कि वहां किसानों की हत्या क्यों की गई? वहां मौन व्रत क्यों नहीं होता? लोग यह जानना चाहते हैं।’’ 

ISPA बनते ही भारती ग्रुप की बल्ले-बल्ले, वनवेब ने उपग्रह प्रक्षेपण के लिए ISRO से किया करार

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.