Wednesday, Nov 13, 2019
congress sonia gandhi attacks bjp narendra modi demonetization decision tughlaki decree

सोनिया गांधी बोलीं- मोदी सरकार के नोटबंदी के ‘तुगलकी फरमान’ को नहीं भूलने देंगे

  • Updated on 11/8/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार के तीन साल पहले आज ही के दिन लिये गये नोटबंदी के फैसले को ‘तुगलकी फरमान’ बताया और कहा कि इससे कई लोगों की आजीविका छिन गई। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी यह सुनिश्चित करेगी कि देश मोदी सरकार के इस फैसले को न तो कभी भूले और न ही इसके लिए उसे कभी माफ करे। 

इंफोसिस मामले में SEBI चीफ ने निलेकणि पर कसा तंज

गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री और उनके सहयोगियों ने इस गलत फैसले की कभी जिम्मेदारी नहीं ली जिसने 120 से अधिक लोगों की जान ले ली और यह भारत के मध्यम और छोटे व्यापार को तबाह करने वाला साबित हुआ। गांधी ने एक बयान में कहा, ‘‘मोदी सरकार इस ऊटपटांग और बिना सोचे समझे उठाये गए कदम की जिम्मेदारी से बचने का चाहे जितना भी प्रयास कर ले, देश की जनता यह सुनिश्चित करेंगी कि इसके लिये उसे जवाबदेह ठहराया जाये।’’

झारखंड में झामुमो 43, कांग्रेस 31 और राजद 7 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री और उनके सहयोगियों ने 2017 के बाद नोटबंदी के बारे में बोलना बंद कर दिया है और वह उम्मीद कर रहे हैं कि देश इसे भूल जाएगा। यह उनके लिए दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस यह सुनिश्चित करेगी कि न तो देश और न ही इतिहास इसे भूले या माफ करे। ऐसा इसलिए क्योंकि भाजपा के उलट हम ‘राष्ट्र हित’ में कार्य करते हैं।’’ 

सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी की जिंदगी से खिलवाड़ कर रही है मोदी सरकार: कांग्रेस

उन्होंने कहा कि नोटबंदी संभवत: भाजपा के बिना सोचे समझे शासन मॉडल का सबसे सटीक प्रतीक है। यह निरर्थक उपाय था जिसको लेकर दुष्प्रचार किया गया और इसने बेगुनाह देशवासियों को भारी नुकसान पहुंचाया। गांधी ने कहा, ‘‘स्वयं जिम्मेदारी लेने के बारे में खोखली बयानबाजी के बावजूद प्रधानमंत्री और उनके सहयोगियों ने कभी भी इस गलत कदम की न तो जिम्मेदारी ली और न ही इसे स्वीकार किया। इस गलत फैसले ने 120 से अधिक लोगों की जान ले ली (एक मोटे अनुमान के अनुसार) और भारत के मध्यम एवं छोटे व्यापार को तबाह कर दिया, भारत के किसानों की आजीविका छीन ली और लाखों परिवारों को गरीबी के करीब ला दिया।’’ 

जेवर एअरपोर्ट के लिए अडाणी एंटरप्राइजेज समेत 5 कंपनियां लगाएंगी बोली

गांधी ने याद किया कि आठ नवम्बर 2016 को प्रधानमंत्री मोदी ने एक व्यापक प्रभाव वाले कदम के तहत 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट चलन से बाहर कर दिये थे और देश से कालाधन, जाली नोट समाप्त करने और आतंकवाद एवं नक्सलवाद से छुटकारा दिलाने का वादा किया था। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने उच्चतम न्यायालय से भी कहा था कि 3,00,000 करोड रुपये के कालाधन से छुटकारा मिल जाएगा क्योंकि यह फिर से चलन में नहीं आयेगा। उसके बाद प्रधानमंत्री ने नकदी का इस्तेमाल कम करने और इसके स्थान पर डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ाने का उद्देश्य भी जनता के सामने रखा था। 

कन्हैया कुमार ने वकील-पुलिस भिड़ंत को लेकर जाहिर किए जज्बात 

उन्होंने कहा, ‘‘तीन वर्ष बाद प्रधानमंत्री मोदी इन मोर्चों पर असफल रहे हैं।’’ कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आरबीआई ने इसकी पुष्टि की है कि 500 रुपये और 1000 रुपये के जो नोट चलन से बाहर हुए थे उनमें से 99.3 प्रतिशत नोट वापस बैंकों में पहुंच चुके हैं और कोई फायदा नहीं हुआ। ‘‘नकली नोटों की बात कोरी साबित हुई और ऐसे बहुत मामूली प्रतिशत नोट ही चलन में थे (यह जानकारी भी रिजर्व बैंक ने ही दी)।’’ 

कांग्रेस बोली- मोदी सरकार को अपने फैसलों पर है भरोसा तो कराए J&K में चुनाव

गांधी ने कहा कि सरकार के अपने प्रकाशित आंकड़े बताते हैं कि नोटबंदी के बाद आतंकवादी और नक्सली गतिविधियों में वास्तव में बढ़ोतरी हुई है तथा प्रचलन में जारी नोटों की संख्या नोटबंदी के पहले के मुकाबले 22 प्रतिशत तक बढ़ गई। उन्होंने कहा, ‘‘हर भारतीय की ओर से आज यही सवाल पूछा जा रहा है... कि आखिर नोटबंदी से क्या हासिल हुआ?’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘वास्तव में इससे यह हुआ कि अर्थव्यवस्था से एक करोड़ से अधिक नौकरियां समाप्त हो गईं (और यह अभी भी जारी है), बेरोजगारी की दर 45 वर्ष के उच्च स्तर पर पहुंच गई, जीडीपी की वृद्धि दर में स्पष्ट तौर पर दो प्रतिशत की कमी आयी और भारत की अंतरराष्ट्रीय रिण साख ‘स्थिर’ से ‘नकरात्मक’ हो चुकी है। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र अर्थशास्त्रियों की नजर में यह एक बड़ी भूल है और इसने पूरी दुनिया को सिखाया है कि सरकारों को क्या नहीं करना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.