Monday, Nov 28, 2022
-->
congress targets modi govt over rising prices of petrol and diesel during corona crisis pragnt

कोरोना संकट में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर साधा निशाना

  • Updated on 5/11/2021

नई दिल्ली /टीम डिजिटल। जहां एक ओर पूरा देश कोरोना महामारी के संकट से जुझ रहा है तो वहीं दूसरी ओर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार इजाफा देखा जा रहा है। ऐसे में कांग्रेस ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर मंगलवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। इसके साथ ही कांग्रेस ने कहा कि कोरोना महामारी के संकट के समय पेट्रोलियम उत्पादों के दाम में कमी करके जनता को राहत दी जाए।

नोएडा- गाजियाबाद में शराब की दुकानें खुलते ही उमड़ी भीड़, कल से UP के कई जिलों में होगी बिक्री

सुरजेवाला ने किया ट्वीट
कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यह भी कहा कि पेट्रोल-डीजल को माल एवं सेवा (GST) कर के दायरे में लाया जाए और यह होने तक उत्पाद शुल्क में की गई बढ़ोतरी को वापस लिया जाए। सुरजेवाला ने ट्वीट कर लिखा, 'भारत के 130 करोड़ लोग आज कोरोना महामारी से लड़ रहे हैं लेकिन 'भारतीय जनलूट पार्टी' - भाजपा की लूट जारी है। पांच विधानसभाओं के चुनाव खत्म होते ही भाजपा सरकार का तेल की लूट का खेल शुरू हो गया है, जिसके अंतर्गत मोदी सरकार ने पिछले आठ दिन में पेट्रोल 1.40 रुपए और डीजल को 1.63 रुपए प्रति लीटर महंगा कर दिया है।'

PM मोदी पर राहुल गांधी का तंज, कहा- गुलाबी चश्मा उतार कर देखो, नदियों में बह रहे शव

पेट्रोल-डीजल को लेकर बोला हमला
उन्होंने कहा, 'सच्चाई यह है कि कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमत कांग्रेस के समय से एक चौथाई कम है, लेकिन मोदी सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क को बार-बार बढ़ा कर जनता का तेल निकाल दिया है।' सुरजेवाला के मुताबिक, '26 मई, 2014 को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सत्ता संभाली थी, तब भारत की तेल कंपनियों को कच्चा तेल 108 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल मिल रहा था और उस समय पेट्रोल व डीजल क्रमशः 71.41 और 55.49 रुपये प्रति लीटर में उपलब्ध था। आज पेट्रोल एवं डीजल क्रमशः 91.80 और 82.36 रुपये प्रति लीटर बेचा जा रहा है, जबकि कच्चे तेल की कीमत आज 67.21 डॉलर प्रति बैरल है।'

NMC का सभी मेडिकल कॉलेजों को निर्देश- 6 महीने के भीतर ऑक्सीजन से लैस करें सभी बेड

कांग्रेस ने केंद्र से किया ये आग्रह
उन्होंने केंद्र सरकार से आग्रह किया, 'कच्चे तेल की कीमतों में कमी का लाभ आम लोगों को मिलना चाहिए और पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी की जाए। पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के अंतर्गत लाया जाना चाहिए। पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के अंतर्गत लाये जाने तक पेट्रोल और डीजल पर बढ़ाई गयी 23.78 प्रति लीटर व 28.37 रुपये प्रति लीटर की उत्पाद शुल्क वृद्धि को तुरंत वापस लिया जाए।'

केंद्र की आलोचना पर भड़के जेपी नड्डा, सोनिया गांधी को चिट्ठी लिख कर दिया जवाब

पेट्रोल- डीजल की कीमतों में मंगलवार को फिर बढ़ोतरी
गौरतलब है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में मंगलवार को एक बार फिर बढ़ोतरी हुई। सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों द्वारा जारी मूल्य अधिसूचना के अनुसार, पेट्रोल की कीमत में 27 पैसे लीटर और डीजल में 30 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई। इस बढ़ोतरी के साथ देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें उच्चतम स्तर पर पहंच गई हैं। दिल्ली में अब पेट्रोल 91.80 रुपये प्रति लीटर और डीजल 82.36 रुपये में मिल रहा है।

बिना वेरीफाई किए वेबसाइट पर डाले अस्पतालों के फोन नंबर, HC ने दिल्ली सरकार को भेजा नोटिस

भारत में कोरोना की स्थिति
देश भर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा लगातार आसमान छू रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3 लाख 29 हजार 942 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही देश में कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 2,29,92,517 हो गई है। वहीं 3 हजार 876 लोगों ने संक्रमण की चपेट में आकर अपनी जान गंवाई है। नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 2,49,992 हो गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.