Wednesday, Mar 03, 2021
-->
congress will take decisive action on reservation issue in next two days surjewala

आरक्षण के मुद्दे पर अगले दो दिनों में निर्णायक कार्रवाई करेगी कांग्रेस: सुरजेवाला

  • Updated on 2/14/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस (Congress) ने आज मोदी सरकार को चेतावनी दी है कि अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी) और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के लिए नौकरियों में आरक्षण को खत्म करने की साजिश रचे जाने के खिलाफ अगले दो दिनों में  निर्णायक कार्रवाई  करेगी। उच्चतम न्यायालय के एक हालिया फैसले के बाद कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला और कुमारी शैलजा ने भाजपा पर आरक्षण का आरोप खत्म करने का आरोप लगाया है।

जयराम रमेश ने ग्लोबल वॉर्मिंग के लिए बीफ इंडस्ट्री को ठहरायाजिम्मेदार, कहा- बनें शाकाहारी

उन्होंने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर एससी/एसटी और ओबीसी का आरक्षण खत्म करने के लिए साजिश रचने का आरोप लगाया है।  इस बाबत पिछले सप्ताह उच्चतम न्यायालय ने कहा था  कि राज्य सरकारें नियुक्तियों या पदोन्नति में आरक्षण मुहैया करने के लिए बाध्य नहीं हैं। शीर्ष न्यायालय ने इस मुद्दे पर उत्तराखंड सरकार की दलील को बरकरार रखते हुए यह फैसला सुनाया।

पुलवामा हमले की पहली बरसी पर राहुल गांधी ने BJP सरकार से पूछे ये 3 सवाल

कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सुरजेवाला ने कहा कि सरकार के पास दो विकल्प हैं और कांग्रेस इसे स्वीकार करने के लिए अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग की ओर से  मोदी सरकार को को झुकने को मजबूर कर देंगे। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय में पुर्निवचार याचिका दायर करने का विकल्प है, या अध्यादेश लाया जाए या फिर इस फैसले को अमान्य करने के लिए विधान लाया जाए।     

पीएल पुनिया ने गोडसे से की PM की तुलना, BJP नेता बोले- कांग्रेस है कंफ्यूज पार्टी

सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस के कई सदस्यों ने अपनी व्यक्तिगत हैसियत से इस फैसले के विरोध में याचिकाएं दायर की है। उन्होंने कहा कि और अगले दो दिनों में, हम इसे लेकर निर्णायक कदम उठाने जा रहे हैं। सुरजेवाला और हरियाणा कांग्रेस प्रमुख शैलजा ने दावा किया कि भाजपा और आरएसएस समाज के दबे कुचले तबकों के आरक्षण को खत्म कर रही है।   

महंगाई को लेकर कांग्रेस हमलावर, BJP को बताया जेबकतरी सरकार   

सुरजेवाला ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी को उत्तराखंड की भाजपा सरकार से शीर्ष न्यायालय में उसके रुख पर स्पष्टीकरण मांगना चाहिए। दोनों नेताओं ने आरोप लगाया कि आरक्षण खत्म करने की कोशिश करना और वंचित तबकों का अधिकार छीनना भाजपा और संघ के डीएनए में है।   

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.