Saturday, Dec 03, 2022
-->
contempt of court case prashant bhushan reaction on supreme court judgement pragnt

अवमानना मामला: प्रशांत भूषण बोले- खुशी-खुशी भरूंगा 1 रुपए का जुर्माना

  • Updated on 8/31/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अवमानना मामले (Contempt of Court) में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आज फैसला सुनाते हुए वरिष्ठ वकील और सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत भूषण (Prashant Bhushan) पर एक रुपए का जुर्माना लगाया। कोर्ट के इस फैसले पर अब प्रशांत भूषण की प्रतिक्रिया आई है।

कोर्ट का प्रशांत भूषण को सजा देना जरूरी नहीं था : पूर्व कानून मंत्री मोइली

कोर्ट के फैसले पर बोले प्रशांत भूषण
उन्होंने कहा कि वह अवमानना मामले में सुप्रीम कोर्ट की तरफ से लगाया गया एक रुपए का सांकेतिक जुर्माना भरेंगे लेकिन यह भी कहा कि वह आदेश के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर कर सकते हैं। भूषण पर अवमानना का मामला न्यायपालिका के खिलाफ उनके ट्वीट को लेकर चल रहा था। अधिवक्ता-कार्यकर्ता ने कहा कि वह न्यायपालिका का बहुत सम्मान करते हैं और उनके ट्वीट शीर्ष अदालत या न्यायपालिका का अपमान करने के लिए नहीं थे। भूषण ने प्रेस वार्ता में कहा, 'पुनर्विचार याचिका दायर करने का मेरा अधिकार सुरक्षित है, मैं अदालत द्वारा निर्देशित जुर्माने को अदा करने का प्रस्ताव देता हूं।'

अवमानना मामले में SC ने प्रशांत भूषण पर लगाया एक रुपये का जुर्माना, न देने पर 3 महीने की जेल

कोर्ट का फैसला स्वीकार्य
वरिष्ठ वकील ने कहा, 'मेरे वकील और वरिष्ठ साथी राजीव धवन ने कोर्ट के आदेश के मुताबिक 1 रुपए दिया है, मैं इसे धन्यवाद के साथ स्वीकार करता हूं।' भूषण ने कहा, 'मेरे ट्वीट्स का उद्देश्य सुप्रीम कोर्ट की अवमानना नहीं था, वे सुप्रीम कोर्ट के अपने शानदार रेकॉर्ड से भटकने को लेकर नाराजगी की वजह से किए गए थे।' उन्होंने आगे कहा कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा लगाए गए जुर्माने को लेकर रिव्यू पिटिशन फाइल करने का मुझे अधिकार है।

राहुल-प्रशांत का पाकिस्तानी अखबार ने किया समर्थन, भारतीय लोकतंत्र के लिए कह डाली यह बात...

भरूंगा जुर्माना
प्रशांत भूषण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'मैं अनेक लोगों से मुझे मिले समर्थन के लिए आभार व्यक्त करता हूं। मैं अपनी लीगल टीम खासकर राजीव धवन और दुष्यंत दवे का धन्यवाद व्यक्त करता हूं।' उन्होंने कहा, 'मेरे मन में सुप्रीम कोर्ट के प्रति काफी सम्मान है। मैंने हमेशा मांना है कि सुप्रीम कोर्ट कमजोर और दबे लोगों के लिए आशा की आखिरी किरण है। कोर्ट ने मुझपर जो जुर्माना लगाया है, उसका मैं एक नागरिक के तौर पर कर्तव्य निभाते हुए भुगतान करूंगा।'

comments

.
.
.
.
.