Tuesday, Jan 25, 2022
-->
corona boom in kerala lack of vaccines in maharashtra thackeray will talk to pm modi rkdsnt

केरल में कोरोना उफान पर, महाराष्ट्र में टीकों की कमी, ठाकरे पीएम के सामने रखेंगे पीड़ा

  • Updated on 10/31/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भले ही भारत 100 करोड़ से ज्यादा टिकाकरण का जश्न मना रहा हो, लेकिन कई राज्य कोरोना से अभी भी जूझ रहे हैं। केरल, तमिलनाडु समेत साउथ में कोरोना पैर पसार रहा है। उधर, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में कोरोना वायरस के विरूद्ध टीकाकरण की धीमी रफ्तार पर रविवार को चिंता प्रकट की और कहा कि वह अगले सप्ताह प्रधानमंत्री के साथ संवाद के दौरान यह विषय उठायेंगे। ठाकरे ने यह भी कहा कि टीकों की अनुपलब्धता के अलावा टीका लेने में लोगों की हिचक भी एक बड़ा मुद्दा है । मुख्यमंत्री ने लोगों से हिचक छोड़कर टीका लगवाने का आह्वान किया। 

राम इकबाल सिंह ने चेताया - राजभर को कमतर आंकना भाजपा को महंगा पड़ेगा

दक्षिण मुंबई के पॉश मालाबार हिल इलाके में अपने सरकारी आवास ‘वर्षा’ में वरिष्ठ पत्रकारों के साथ बातचीत के दौरान उन्होंने राजनीति पर किसी भी प्रश्न का उत्तर देने से इनकार कर दिया। इस दौरान उनके साथ उनकी पत्नी रश्मि भी थीं। जब उनसे इस महामारी से निपटने की उनकी सरकार की दीर्घकालिक रणनीति के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘ पहले तो हम इस काम पर पूरा ध्यान लगायें कि अधिक से अधिक लोग टीका लें तथा राज्य में चिकित्सा अवसंरचना बढ़े। ’’      उन्होंने कहा, ‘‘ लोग बूस्टर डोज की बात कर रहे हैं । पहले हम सुनिश्चित कर लें कि सभी को दोनों खुराक लग जाएं। ’’ 

किसान रेल के एक साल: रेलवे को खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय से सब्सिडी के नहीं मिले 40 करोड़ रुपये 

ठाकरे ने कहा कि ऐसे लोग हैं जिन्होंने पहली खुराक नहीं ली है। उन्होंने कहा कि महामारी की तीसरी(संभावित) लहर का प्रभाव काफी हद तक कम किया जा सकता है यदि लोग कोविड उपयुक्त आचरण करें और जिन्हें दोनों खुराक लग चुकी हैं , वे भी मास्क लगाते रहें। मुख्यमंत्री ने आॢथक कठिनाइयां पहुंचाये बगैर महामारी के दौरान कुछ खास गतिविधियों को अनुमति देने का ‘सोचा-समझा जोखिम’ उठाने की भी बात कही। 

सावरकर पर टिप्पणी : ओवैसी के खिलाफ अवमानना कार्यवाही की मंजूरी देने से अटॉर्नी जनरल का इनकार

मुख्यमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तीन नवंबर को उन 40 से अधिक जिलों के जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस कर सकते हैं जहां कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण बहुत सुस्त है। इस बैठक में ऐसे जिले शामिल होंगे जहां 50 फीसद से कम पहली खुराक लगी है और दूसरी खुराक की रफ्तार भी धीमी है।

केरल में कोविड-19 के 7,167 नये मामले, 167 मरीजों की मौत 
केरल में रविवार को कोविड-19 के 7,167 नये मामले सामने आने के साथ ही राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 49,68,657 हो गई है। सरकार ने मृतकों की संख्या में 167 मौतों को शामिल किया है, जिनकी गणना किसी कारणवश पहले नहीं हो सकी थी, जिन्हें मिलाकर अब तक राज्य में कुल 31,681 संक्रमितों की जान जा चुकी है।

मप्र के गृह मंत्री ने सब्यसाची के मंगलसूत्र के विज्ञापन को हटाने के लिए दिया ‘अल्टीमेटम’

राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने एक विज्ञप्ति जारी कर यह जानकारी दी। विज्ञप्ति के मुताबिक केरल में बीते 24 घंटे के दौरान कोविड-19 के 6,439 मरीज संक्रमणमुक्त हुए, जिससे राज्य में इस जानलेवा वायरस के संक्रमण को मात देने वालों की संख्या बढ़कर 48,57,181 हो गई है। विज्ञप्ति में बताया कि राज्य में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या 79,185 हो गयी है। 

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में चौथे दिन बढ़ोतरी, भाजपा शासित मप्र में पेट्रोल 120 रुपये के पार

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य के 14 जिलों में से एर्णाकुलम में सर्वाधिक 1,046 नये मामले सामने आए। इसके बाद तिरुवनंतपुरम में 878 जबकि त्रिशूर में कोरोना वायरस संक्रमण के 753 नये मामले दर्ज किए गए।    विज्ञप्ति में कहा गया है कि केरल में बीते 24 घंटे के दौरान 65,158 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई। राज्य में कुल 2,72,248 लोगों को निगरानी में रखा गया है, जिसमें से 7,276 लोग विभिन्न अस्पतालों में बने पृथक-वास में भर्ती हैं।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.