Friday, May 20, 2022
-->
corona caused havoc in dilshad garden due to operation shield of kejriwal government sohsnt

अरविंद केजरीवाल सरकार के ऑपरेशन शिल्ड की वजह से इस तरह दिलशाद गार्डन में थमा कोरोना का कहर

  • Updated on 4/10/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली सरकार (Delhi Govt) के ऑपरेशन शिल्ड (Operation Shield) को पहली बार दिलशाद गार्डन एरिया में अपनाया गया था। यहां 8 कोरोना पॉजिटिव केस आने के बाद दिल्ली सरकार ने यह ऑपरेशन चलाया था। इस ऑपरेशन के तहत 15 दिन की मेहनत से इस क्षेत्र को कोरोना मुक्त किया जा सका। अब दस दिन से यहां कोई कोरोना के केस सामने नहीं आया है। 

कोरोना पर आज दिनभर के 10 बड़े अपडेट्स, जानिए यहां 

महिला और उसके बेटे में पाया गया कोरोना संक्रमण
दरअसल,  दिलशाद गार्डन की रहने वाली एक महिला और उसके बेटे में सउदी अरब से लौटने पर कोरोना पाॅजिटिव पाया गया था। महिला का इलाज करने वाले मोहल्ला क्लीनिक डाक्टर समेत 7 कोरोना पीड़ित हो गए। इसके बाद दिल्ली सरकार ने दिलशाद गार्डर और पुरानी सीमापुरी एरिया को पूरी तरह से कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया। महिला के 81 कांटैक्ट को चिंहित किया गया। उनका इलाज और क्वॉरेंटाईन किया गया। महिला के बेटे के कांट्रेक्ट को निकालने के लिए दिल्ली सरकार के सीसीटीवी कैमरे का सहारा लिया गया।

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को मिले रकम, किस्तों में आएगा पैसा

दिलशाद गार्डन और ओल्ड सीलमपुर में किया गया टीमों का गठन
फिर दिलशाद गार्डन और ओल्ड सीलमपुर में 123 मेडिकल टीमों का गठन किया गया। इन टीमों ने  4032 घरों में रहने वाले 15 हजार से अधिक लोगों की स्क्रीनिंग की। जिनमें कोरोना के लक्षण मिले, उन्हें क्वारेंटाइन किया गया। मेडिकल टीम की मेहनत और लगन रंग लाई और अब वहां एक भी कोरोना के मरीज सामने नहीं आ रहा है। फिर भी दिल्ली सरकार लगातार 15 हजार लोगों को फोन कर कोरोना के संबंध में जानकारी ले रही हैं। इस क्षेत्र पर लगातार नजर है।

कोरोना संकट के बीच डीडी नेशनल बना लोगों की पहली पसंद- BARC

महिला के संपर्क में आने से हुआ 7 लोगों में संक्रमण
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने बताया कि दिलशाद गार्डन क्षेत्र में सउदी अरब से आई महिला के संपर्क में आकर 7 लोगों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उसे क्षेत्र में बड़े पैमाने पर कोरोना के फैलने का डर था। जिसके बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर सबसे पहले दिलशाद गार्डन में ही ऑपरेशन शिल्ड चलाया गया। 15 हजारों लोगों का डाटा लेकर उसपर मेडिकल टीम ने काम किया। हजारों लोगों को क्वॉरेंटाईन किया गया। काफी लोगों के कोरोना टेस्ट हुए। हेल्थ विभाग की टीम की रात-दिन की मेहनत और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देशों और प्लान से अब इस क्षेत्र को कोरोना मुक्त कर लिया गया है।

Corona Effect: राजधानी में बिना मास्क पहने 32 लोगों पर गिरी गाज, मामला दर्ज

महिला को हुई थी बुखार और खांसी की शिकायत
शाहदरा के डिस्ट्रिक्ट सर्विलांस अधिकारी डाॅ. एसके नायक ने बताया कि दिल्ली के दिलशाद गार्डन में रहने वाला एक व्यक्ति सउदी अरब में रहता है। कुछ दिन पहले उसकी पत्नी अपने बेटे को लेकर उससे मिलने सउदी अरब गई थी। वह महिला बेटे के साथ 10 मार्च 2020 को सउदी अरब से वापस लौटी। उन्होंने बताया कि दो दिन बाद 12 मार्च 2020 को महिला को बुखार और खांसी की शिकायत हुई। वह इसे सामान्य मान कर पुरानी सीमापुरी स्थित एक मोहल्ला क्लीनिक में दवा लेने गई। दवा से महिला को कोई आराम नहीं मिला।

PM मोदी लॉक डाउन पर देश को कर सकते हैं संबोधित, शनिवार को करेंगे मुख्यमंत्रियों से संवाद

जांच में पाए गए कोरोना के लक्षण
इसके तीन दिन बाद 15 मार्च को वह जांच कराने के लिए दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में गई। जीटीबी ने महिला में कोरोना का लक्षण पाया और उसे आरएमएल अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। जांच के बाद 17 मार्च 2020 को महिला में कोरोना की पुष्टि हुई। इस बीच महिला के कांटेक्ट का पता किया गया तो वह 81 लोगों से मिल चुकी थी। जिसमें मोहल्ला क्लीनिक के डाक्टर भी थें। डाक्टर, उनके परिवार समेत कांटेक्ट के 7 लोग कोरोना पोजेटिव मिले। 

कोरोना संकट: वैज्ञानिकों की बड़ी सफलता, वायरस के जड़ का लगाया पता

महिला ने किया जांच में सहयोग-डाॅ. एसके
डाॅ. एसके नायक ने बताया कि महिला में कोरोना की पुष्टि होने के बाद पूछताछ की गई। जिसके बाद पता चला कि उसके साथ उसका बेटा भी गया था। बेटे से पूछताछ की गई कि इन दिनों में वह कहां-कहां गए और किन-किन लोगों से मिले डाॅ. एसके नायक ने बताया कि महिला ने जांच में सहयोग किया, लेकिन उसका बेटा नहीं बताया कि वह इस दौरान कहा-कहां गया और किन लोगों से मिला। इसके बाद दिल्ली सरकार द्वारा जगह-जगह लगाए गए सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली गई। सीसीटीवी फुटेज में महिला और उसका बेटा जिन-जिन लोगों से मिला, उन सभी लोगों को चिंहित करते हुए उन्हें क्वारेंटाइन किया गया।

Lockdown: अधीर रंजन ने PM मोदी को लिखा पत्र, मजदूरों को उनके घर पहुंचाने का किया आग्रह

दिलशाद गार्डन व पुरानी सीमापुरी को किया गया सील
डाॅ. एसके नायक ने बताया कि सउदी अरब से आई महिला और उसके बेटे को कोरोना होने की पुष्टि के बाद पूरे दिलशाद गार्डन में इसके फैलने का खतरा बढ़ गया था। लिहाजा, दिल्ली सरकार ने तत्काल कदम उठाते हुए 123 मेडिकल टीमों का गठन किया। साथ ही शहादरा के जिलाधिकारी से मिलकर ऑपरेशन शिल्ड चलाने का निर्णय लिया। इसके बाद पुलिस से भी संपर्क कर सहयोग लिया गया और दिलशाद गार्डन व पुरानी सीमापुरी इलाके को पूरी तरह से सील कर दिया गया। दोनों एरिया में लोगों को बाहर से अंदर और अंदर से बाहर जाने पर पाबंदी लगा दी गई। पुरानी सीमापुरी को इसलिए सील किया गया, क्योंकि महिला के संपर्क में आने से मोहल्ला क्लीनिक का डाॅक्टर भी कोरोना से पीड़ित हो गया था।

कोरोना के खिलाफ जंग में 15 हजार करोड़ का पैकेज नाकाफी- CM अमरिंदर

15 हजार से अधिक लोगों की कि गई स्क्रीनिंग
डाॅ. एसके नायक ने बताया कि दिल्ली सरकार द्वारा बनाई गई 123 मेडिकल टीमों को 50-50 घरों की स्क्रीनिंग करने की जिम्मेदारी सौंपी गई। इसके लिए एक प्रोफार्मा तैयार किया गया, जिसकी मदद से प्रत्येक व्यक्ति से कोरोना संबंधित किसी भी तरह के लक्षण या किसी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आने आदि का विवरण तैयार किया गया। इस स्क्रीनिंग के दौरान जिन में भी कोरोना के लक्षण की आशंका हुई या लक्षण मिले, उन सभी लोगों को तत्काल अस्पताल में भर्ती कराया गया। 123 मेडिकल टीमों ने दिलशाद गार्डन और पुरानी सीमापुरी के 4032 घरों की स्क्रीनिंग की और इन घरों में रहने वाले 15 हजार से अधिक लोगों की स्क्रीनिंग की। जिनको भी कोई परेशानी थी, उसे तत्काल एंबुलेंस से आर एम एल अस्पताल भेज दिया जाता था। 

Corona: 25 करोड़ दान देने के बाद एक बार फिर अक्षय कुमार आए आगे, BMC को दिए इतने करोड़ रुपये

स्क्रीनिंग के बाद नहीं आया कोई भी मामला सामने
डाॅ. एसके नायक का कहना है कि 15 से अधिक दिनों की लगातार मेहनत और लगन का परिणाम सकारात्मक निकला है। एक-एक व्यक्ति की स्क्रीनिंग के बाद अब दिलशाद गार्डन और पुरानी सीमापुरी में एक भी कोरोना के नए मरीज सामने नहीं आ रहे हैं। इसके बाद भी मेडिकल टीमें अभी शांति नहीं बैठी हैं। सभी टीमें आवंटित घरों में रहने वाले लोगों के लगातार संपर्क में हैं। सभी टीमें लोगों से प्रतिदिन फोन कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी ले रही हैं और कोरोना के लक्षण होने पर तत्काल बताने की अपील कर रही हैं, ताकि उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने के साथ ही उनके संपर्क में आने लोगों को क्वारेंटाइन किया जा सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.