Friday, Aug 14, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 13

Last Updated: Thu Aug 13 2020 09:35 PM

corona virus

Total Cases

2,434,853

Recovered

1,726,037

Deaths

47,542

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA548,313
  • TAMIL NADU320,355
  • ANDHRA PRADESH264,142
  • KARNATAKA196,494
  • NEW DELHI149,460
  • UTTAR PRADESH140,775
  • WEST BENGAL104,326
  • BIHAR94,459
  • TELANGANA86,475
  • GUJARAT74,390
  • ASSAM71,796
  • RAJASTHAN56,708
  • ODISHA52,653
  • HARYANA44,817
  • MADHYA PRADESH42,618
  • KERALA39,708
  • PUNJAB27,936
  • JAMMU & KASHMIR24,897
  • JHARKHAND18,156
  • CHHATTISGARH12,148
  • UTTARAKHAND9,732
  • GOA8,712
  • TRIPURA6,497
  • PUDUCHERRY5,382
  • MANIPUR3,753
  • HIMACHAL PRADESH3,536
  • NAGALAND2,781
  • ARUNACHAL PRADESH2,155
  • LADAKH1,688
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,555
  • CHANDIGARH1,515
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS1,490
  • MEGHALAYA1,062
  • SIKKIM866
  • DAMAN AND DIU838
  • MIZORAM620
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
corona crisis indian pharmaceutical companies withdraw medicines sent to america usa rkdsnt

कोरोना संकट के दौरान USA भेजी गईं दवाओं को वापस मंगा रही भारतीय कंपनियां

  • Updated on 7/5/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ल्यूपिन, मार्कसंस फार्मा, अरबिंदो फार्मा और एलेम्बिक फार्मास्युटिकल्स जैसी भारतीय दवा कंपनियां अमेरिकी बाजार में अपने कुछ उत्पादों को वापस मंगा रही हैं। अमेरिका के दवा नियामक यूएसडीएफडीए की नवीनतम प्रवर्तन रिपोर्ट में इसकी जानकारी मिली है। रिपोर्ट के अनुसार, ल्यूपिन और मार्कसंस फार्मा मधुमेह की दवा को वापस मंगा रही हैं, जबकि अरबिंदो और एलेम्बिक मनोरोग संबंधी दवाओं को वापस ले रही हैं। 

कोरोना संकट में कारोबार बढ़ाने में जुटी रिलायंस, विमानन ईंधन स्टेशनों का करेगी विस्तार

रिपोर्ट में कहा गया है कि ल्यूपिन की अमेरिकी इकाई वर्तमान माल विनिर्माण प्रावधानों का अनुपालन नहीं किए जाने के कारण अमेरिका के बाजार से मेटफार्मिन हाइड्रोक्लोराइड टैबलेट की 6,540 बोतलें वापस ले रही है। यह दवा कंपनी के गोवा स्थित संयंत्र में बनायी जाती है। इसी तरह मार्कसंस फार्मा भी मेटफार्मिन हाइड्रोक्लोराइड टैबलेट की 11,279 बोतलें वापस ले रही है। मार्कसंस ने अमेरिका की कंपनी टाइम-कैप लैब्स को इनकी आपूर्ति की थी। 

DRDO के 1000 बिस्तर वाले अस्पताल को लेकर केजरीवाल ने किया शुक्रिया

यूएसएफडीए ने कहा है कि इन दोनों कंपनियों के मेटफार्मिन हाइड्रोक्लोराइड टैबलेट में एन-नाइट्रोसोडीमिथायलामाइन की मात्रा स्वीकार्य स्तर से अधिक पाई गई है। इनके अलावा, हैदराबाद स्थित अरबिंदो फार्मा की इकाई अरबिंदो फार्मा यूएसए इंक क्लोजैपीन टैबलेट की 1,440 बोतलें वापस ले रही है। इसका इस्तेमाल कुछ मानसिक विकारों के इलाज के लिए किया जाता है। 

लेह में सैन्य मेडिकल सेंटर की सुविधाओं पर उठे सवाल, थल सेना ने दी सफाई

एक उपभोक्ता ने शिकायत की थी कि 100 एमजी के बोतल में 50 एमजी की गोलियां मिली हैं। इसी तरह एलेम्बिक फार्मास्युटिकल्स अरिपिप्राजोल टैबलेट की 19,153 बोतलें वापस ले रही हैं। इसका इस्तेमाल शिजोफ्रेनिया और बायोपोलर विकार के इलाज में किया जाता है। कंपनी दवा के लेबल में हुई कुछ गड़बड़ी के कारण इन्हें मंगा रही है।

कोयला श्रमिकों की हड़ताल जारी, आगे की रणनीति तय करने में जुटीं ट्रेड यूनियनें

 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.