Wednesday, Jan 19, 2022
-->
corona-effects-prices-of-fruits-increased-marginally-in-the-market-retail-rkdsnt

कोरोना का असर- मंडी में बढ़े फलों के दाम तो खुदरा में मची लूट

  • Updated on 5/5/2021

नई दिल्ली, 5 मई (अनामिका सिंह): राजधानी में कोरोना के लगातार बढते मामलों ने जहां दिल्लीवासियों को परेशान कर रखा है, वहीं फलों के खुदरा दामों में आग लगी हुई है। जबकि थोक दामों में मात्र 3 से 5 रूपए तक ही बढे हैं। वहीं प्रशासन की ओर से अभी तक इस प्रकार की कोई भी व्यवस्था नहीं बनाई गई है, जिससे इन खुदरा व्यापारियों पर अंकुश लगाया जा सके।

पीएम मोदी के वैज्ञानिक सलाहकार ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेताया


बता दें कि एशिया की सबसे बडी मंडी आजादपुर में कोरोना के दौरान प्रयोग में लाए जाने वाले फलों के थोक दामों में अचानक 3 से 5 रूपए की तेजी देखने को मिल रही है, जिसका असर राजधानी की अन्य मंडियों जैसे केशोपुर, गाजीपुर इत्यादि पर भी पड रहा है। लोग बडी मात्रा में इन दिनों कोरोना से बचने व अपनी इम्यूनिटी बूस्टअप करने के लिए नारियल, नींबू, मौसमी व सेब सहित अन्य फलों का प्रयोग कर रहे हैं।

केजरीवाल सरकार ने CBSE से 10वीं क्लास के रिजल्ट तैयार करने के लिए और वक्त मांगा

जिसके खुदरा दाम आसमान छू रहे हैं। एक नारियल का रेट खुदरा में 70 से 80 रूपए पहुंच चुका है। जबकि नींबू 40 से 50 रूपए पाव बिक रहा है। वहीं मौसमी 120 से 150 रूपए की बेची जा रही है। केले के खुदरा दाम 40 से 50 रूपए दर्जन, पपीता 30 से 40 रूपए प्रतिकिलो व अनानास 80 रूपए किलो बिक रहा है।

स्टालिन ने तमिलनाडु के राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का पेश किया दावा

जबकि थोक दाम इससे काफी कम हैं। खुदरा फल-सब्जी बेचने वाले मानवीयता को दरकिनार करते हुए इस विकट परिस्थिति में भी जमकर लूट-खसोट करने में लगे हुए हैं। वहीं नाक के नीचे चल रही इस धांधली को देखते हुए भी प्रशासन इस मामले में आंखे मूंदे हुए है।

जाने क्या हैं थोक में फलों के दाम: 
नींबू-48.75 प्रतिकिलो
नारियल-50 रूपए प्रति पीस
मौसमी-43 रूपए प्रतिकिलो
सेब-98 रूपए प्रतिकिलो
केला-14.5 रूपए प्रतिकिलो
पपीता-20 रूपए प्रतिकिलो
अनानास-22.25 रूपए प्रतिकिलो
तरबू-7.50 रूपए प्रतिकिलो


सब्जी के दामों में फिलहाल राहत
आजादपुर मंडी के चैयरमेन आदिल अहमद खान ने कहा कि मंडी में फलों व सब्जियों के थोक दामों में ज्यादा उतार-चढाव नहीं आया है। सब्जी के दाम स्थिर हैं हालांकि फलों में सिर्फ नारियल, नींबू और मौसमी के दामों में तेजी देखी जा रही है। आवक बिल्कुल सामान्य है रोजाना 11 से 12 हजार टन फल-सब्जी मंडी में पहुंच रहा है जबकि पिछले साल लॉकडाउन में आवक 7 हजार थी जिसे 8 हजार टन पहुंचने में काफी समय लग गया था।

comments

.
.
.
.
.