Wednesday, Apr 14, 2021
-->
corona period india helped these countries of the world, including the name of china prsgnt

कोरोना काल में भारत ने की दुनिया के इन देशों की मदद, चीन का नाम भी शामिल....

  • Updated on 9/22/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना काल के दौरान भारत ने जहां दुनिया के कई देशों से मदद ली तो वहीँ भारत ने भी दुनियाभर के देशों को सहायता की है। संसद में चल रहे मानसून सत्र के दौरान जब इस बारे में सवाल किया गया तब विदेश मंत्रालय ने जवाब देते हुए कई देशों का नाम लिया। इन नामों में चीन का नाम भी शामिल है। 

चीन भले ही कोरोना संक्रमण फ़ैलाने का दोषी माना जाता है लेकिन भारत ने चीन के साथ बढ़े तनाव के बाद भी मदद की। कोरोना संकट में भारत ने चीन को न सिर्फ अनुदान दिया बल्कि उसकी मेडिकली हेल्प भी की।  हालांकि सभी जानते हैं कि भारत ने भी चीन की मेडिकल उपकरणों से लेकर बैंक लोन तक लिए हैं। 

निलंबित सांसदों के समर्थन में उपवास पर गए शरद पवार, बोले- किसान की आत्महत्या पर बहस क्यों नहीं

इसके साथ ही विदेश मंत्रालय की ओर से संसद में इस बात की भी जानकारी दी गई है कि कोरोना संकट के दौरान भारत ने कितने देशों की मदद की। बताया गया है कि भारत ने कुल 150 देशों को दवाई, चिकित्सा उपकरण की मदद दी है, इसके अलावा चीन समेत कुल 80 देशों को 80 करोड़ का डोनेशन दिया है। वहीं, कोरोना काल में भारत को जापान, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, इजरायल से मदद मिली है।

ससंद में मानसून सत्र के दौरान प्रधानमंत्री मोदी की विदेश यात्रा को लेकर सवाल पूछे गए। मई 2014 में प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लेने वाले पीएम मोदी तब से अब तक 104 देशों की यात्रा कर चुके हैं। इसी बीच विदेश मंत्रालय ने संसद में जानकारी दी है कि 2015 से अबतक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 58 देशों का सफर किया है।

राज्यसभा से Congress का वॉकआउट, आजाद बोले- 8 सदस्यों का निलंबन हो रद्द, नहीं तो करेंगे बहिष्कार

राज्य सभा में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की फौजिया खान ने सरकार से जानना चाहा था कि वर्ष 2015 से आज की तारीख तक प्रधानमंत्री ने कितने देशों का दौरा किया और इन दौरों पर कुल कितना व्यय हुआ। इसका जवाब देते हुए विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने ये जवाब दिया कि 2015 से अब तक पीएम मोदी की यात्रा पर कुल 517.82 करोड़ रुपये का खर्च हुआ है।

मुरलीधरन ने ये भी बताया कि पीएम मोदी की इन यात्राओं के दौरान भारत ने कई देशों के साथ बड़े क्षेत्रों में समझौते किए। जिनमें ट्रेड, इन्वेस्टमेंट, डिफेंस समेत अन्य बड़े क्षेत्रों में भी समझौते हुए।

सांसदों के दुर्व्यवहार से आहत उप सभापति ने उप राष्ट्रपति को लिखी चिट्ठी, करेंगे उपवास

विदेश मंत्रालय के आंकड़े बतातें है कोरोना काल के बाद से ही पीएम मोदी विदेशी नेताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संपर्क में हैं, साथ ही उन्होंने कई अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रमों में हिस्सा लिया है। इसी हफ्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संयुक्त राष्ट्र में संबोधन देना है, जो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही होगा।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट आने के बाद से ही कोई विदेश की यात्रा नहीं की है। फरवरी में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दौरे के बाद किसी बड़े विदेशी नेता का दौरा भी नहीं हुआ है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.