Friday, May 20, 2022
-->
Corona rules should be ensured instead of collecting fine: Ramveer Singh Bidhuri

जुर्माना वसूली की बजाय कोरोना नियमों का पालन सुनिश्चित होना चाहिए:रामवीर सिंह बिधूड़ी

  • Updated on 1/17/2022

नई दिल्ली / टीम डिजिटल। नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा कि पहले से आर्थिक समस्या से ग्रसित व्यापारियों की सरकार के तुगलकी रवैये से कमर टूट गई है। उन्होंने कहा कि बेहतर होगा कि जुर्माना वसूली की बजाय दिल्ली सरकार कोरोना नियमों का पालन सुनिश्चित करने पर ध्यान दे। उन्होंने कहा कि सप्ताह में पांच दिन बाजारों को खोलने की अनुमति देनी चाहिए। बिधूड़ी ने कहा कि अगर मेट्रो और बसें पूरी केपेसिटी से चल सकती हैं क्योंकि वहां कोरोना नियमों का पालन कराया जा रहा है, तो फिर बाजार क्यों नहीं खोले जा सकते।

नहीं बढ़ा कोरोना तो भाजपा निगम चुनाव से पहले खोलेगी नमो केंद्र
बिधूड़ी ने कहा कि सरकार कोरोना की सख्ती के नाम पर सिर्फ जुर्माना वसूली पर ही सारा ध्यान दे रही है। इससे व्यापारियों और दुकानदारों का जीना कितना मुश्किल हो रहा है, उनकी सुध लेने के लिए सरकार के पास वक्त नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार ने वीकेंड कफर््यू के तौर पर शनिवार और रविवार को सारी मार्केट बंद करने का आदेश दिया है। इसके बाद कम से कम बाकी पांच दिनों में तो दुकानदारों को पूरा काम करने की इजाजत दी जाए।

व्यापारी सारे खर्चे कैसे निकाल सकते हैं

बिधूड़ी ने कहा कि ऑड-ईवन लागू होने के कारण दुकानदारों को सिर्फ दो दिन या ज्यादा से ज्यादा तीन दिन ही दुकानें खोलने की इजाजत मिल रही है। इससे दुकानदारों की कमर टूट गई है। उन्हें बिजली के बिल भरने हैं, दुकानों का किराया देना है, दुकान पर काम करने वाले कर्मचारियों का वेतन देना है और सरकार को हर तरह का टैक्स भी भरना है। उन्होंने कहा कि सिर्फ  सप्ताह में दो दिन ही दुकान खोलकर व्यापारी सारे खर्चे कैसे निकाल सकते हैं। 

कोरोना काल में अरबपतियों की बल्ले-बल्ले, कांग्रेस ने मोदी सरकार पर साधा निशाना 

बिधूड़ी ने कहा कि सरकार ने पिछले 15 दिनों में कोरोना नियमों का उल्लंघन करने के कारण जुर्माने के रूप में 15 करोड़ रुपए वसूले हैं। उन्होंने सुझाव देते हुए कहा कि सरकार इस राशि का इस्तेमाल बाजारों में होमगार्ड या सिविल डिफेंस के वालंटियरों की नियुक्ति करने पर करे ताकि वे कोरोना नियमों का पालन सुनिश्चित करा सकें। मार्केट में आने वाले हर व्यक्ति को सेनेटाइज करें और जिसके पास मास्क न हो, उसे मास्क उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल कराना भी सरकारी स्टाफ  की ही जिम्मेदारी हो। 

comments

.
.
.
.
.