Tuesday, Jan 25, 2022
-->
corona vaccination rules for old people and people with critical illness kmbsnt

जानें बुजुर्गों और गंभीर बीमारी से ग्रसित लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए क्या करना होगा

  • Updated on 2/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 1 मार्च से बड़े स्तर पर शुरू होने जा रहे कोरोना वैक्सीनेशन (Corona vaccination) कार्यक्रम के विषय में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों के स्वास्थ्य सचिवों और नेशनल हेल्थ मिशन के प्रमुखों को विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान वैक्सीनेशन के नियमों को बताया गया साथ ही। लोगों की आशंकाओं का भी समाधान किया गयाष 

अब 1 मार्च से 60 से अधिक उम्र के बुजुर्गों और 45-60 साल के बीच की उम्र के वो लोग जो गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं, उनके लिए कोरोना टीका लगाने के लिए कई प्रकार के विकल्प मौजूद होंगे। ये लोग स्वयं कोविन प्लेटफार्म पर रजिस्ट्रेशन करवा कर वैक्सीन लगाने का दिन और स्थान चुन सकेंगे। इसके अलावा पहले चरण के दौरान टीका न लगवा पाने वाले बुजुर्ग भी अपने नजदीकी कोरोना सेंटर जाकर वैक्सीन लगा सकते हैं। 

कालकाजी, प्राचीन हनुमान मंदिर व जामा मस्जिद को बाल भिखारियों से किया जाएगा मुक्त

यहां खुल सकते हैं सरकारी वैक्सीनेशन सेंटर 
मंत्रालय का कहना है कि सरकारी वैक्सीनेशन सेंटर खोलने के लिए कई विकल्प मौजूद हैं। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, सहयोगी स्वास्थ्य केंद्रों सब डिविजनल और जिला अस्पतालों, आयुष्मान भारत के तहत आने वाले हेल्थ और वेलेनेस सेंटरों इसके साथ ही मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में वैक्सीनेशन सेंटर खोला जा सकता है। 

देने होंगे ये दस्तावेज
मंत्रालय द्वारा राज्यों को दी गई जानकारी के अनुसार उम्र के सत्यापन के लिए आधार कार्ड और मतदाता पहचान पत्र के अलावा कोई अन्य फोटो पहटान पत्र दिखाना होगा। ऐसा पहचान पत्र जो वैलिड हो और उसमें जन्म की तारिख लिखी हो। वहीं किसी अन्य बीमारी से ग्रसित 145-60 साल के बीच की उम्र के लोगों को पंजीकृत डॉक्टर से बीमारी का सर्टिफिकेट दिखाना अनिवार्य होगा। तभी उनको वैक्सीन की डोज दी जाएगी। 

चुनाव आयोग ने किया साफ- निर्वाचन में तैनात हर कर्मी को कोविड वैक्सिन लगानी होगी

31 मार्च तक लागू रहेंगे कोविड दिशा-निर्देश
उधर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना पर मौजूदा दिशानिर्देश 31 मार्च तक लागू रहेंगे। हालांकि कोविड-19 के उपचाराधीन और संक्रमण के नए मामलों में काफी कमी आई है, लेकिन निगरानी रोकथाम और सतर्कता बनाए रखने की जरूरत है। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लक्षित आबादी समूह का टीकाकरण करने में तेजी लाने की सलाह भी दी गई है ताकि संक्रमण की संख्या को तोड़ा जा सके और महामारी को खत्म किया जा सके। मौजूदा दिशा निर्देशों के तहत सिनेमा हॉल और थिएटर को कहीं अधिक दर्शकों के साथ संचालित करने की अनुमति भी दी गई है।

ये भी पढ़ें:

comments

.
.
.
.
.