Tuesday, Dec 07, 2021
-->
corona virus 50 thousand cases were reported in 99 days prsgnt

कोरोना वायरस: 3 महीनें में ऐसे पहुंचा भारत 50 हजार के पार, मात्र 3 तीन में आए 19.5% मामले

  • Updated on 5/6/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या 50 हजार तक पहुंच गई है। जबकि लगातार यह कहा जा रहा है कि हालात कंट्रोल में हैं और जल्द ही कोरोना पर विजय पा ली जाएगी। लेकिन यह सभी दावे गलत साबित हो रहे हैं। सरकार लगातार लॉकडाउन बढ़ाती जा रही है और आगे भी लॉकडाउन बढ़ने के पूरे संकेत मिल रहे है।

ऑनलाइन बेचा जा रहा है कोरोना मरीजों के लिए ये स्पेशल खून, कीमत है 10 लाख

ऐसे बदली तस्वीर
दैनिक भास्कर में छपी रिपोर्ट के अनुसार, देश में कोरोना पॉजिटिव मामले 99 दिनों में 50 हजार तक पहुंच गये। इसका हिसाब लगायें तो देश में पहले मामला 30 जनवरी को सामने आया था। इसके बाद 75 दिनों में मरीजों की संख्या 10 हजार तक पहुंच गई थी।

हैरानी की बात ये रही कि अगले 7 दिनों में तेजी से देश में 10 हजार मरीज बढ़ गए। इसके बाद 17 दिनों में मरीजों का आंकड़ा 20 हजार से 50 हजार तक पहुंच गया।

कोरोना मरीजों की स्किन पर ऐसे दिखता है वायरस का असर, पढ़ें रिपोर्ट

दुनिया में 16वां स्थान
वहीँ, भारत दुनिया में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित मामले वाले देशों में 16वें नंबर पर पहुंच गया है। जबकि इस लिस्ट में अमेरिका 12।68 लाख संक्रमित मरीजों के साथ पहले नंबर पर है, स्पेन 2.51 लाख संक्रमितों के साथ दूसरे नंबर पर और इटली 2.13 लाख कोरोना मरीज सहित तीसरे नंबर पर पहुंचे हैं।

कोरोना पर चीन ने वीडियो जारी कर उड़ाया अमेरिका का मजाक, वीडियो वायरल

देश में सर्वाधिक मामले
भारत के 11 ऐसे राज्य हैं जिनमें कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं। इनमें महाराष्ट्र सबसे आगे हैं। अकेले महाराष्ट्र में ही 15 हजार कोरोना संक्रमित मामले है जो कुल मामलों का 30% है।

इसके बाद इन 11 राज्यों में वो राज्य शामिल किए गये हैं जिनमें कोरोना के मरीज 1 हजार से ज्यादा है। इनमें महाराष्ट्र के बाद गुजरात, दिल्ली, मध्यप्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तरप्रदेश, आंध्रप्रदेश, पंजाब, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल का नाम प्रमुख है।

चमगादड़ की बॉडी से एंटीबॉडी मिलने का वैज्ञानिकों ने किया दावा, जल्द बन सकेगा टीका!

शुरुआत केरल से हुई
देश में कोरोना का सबसे पहला मामला केरल से सामने आया था। 1 मार्च तक सिर्फ 3 संक्रमित थे जो विदेश से लौटे थे। लेकिन 14 मार्च तक यहां कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 19 हो गई। यहां अगर केरल की महाराष्ट्र से तुलना करें तो इस दिन उस तक तक महाराष्ट्र में 14 मरीज थे लेकिन अगले दिन यानी 15 मार्च को तस्वीर बदल गई। केरल में 24 और महाराष्ट्र में बढ़कर 32 मरीज हो गए। इसके बाद महाराष्ट्र में लगातार संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है।

फ्रांस में हुए नए शोध के बाद देश में अचानक बंद हुई तंबाकू की बिक्री, पढ़ें रिपोर्ट

गुजरात में मौतें ज्यादा
वहीँ अगर कोरोना से मरने वाले मरीजों की मौतों पर बात करें तो यहां गुजरात महाराष्ट्र से आगे है। जितनी भी मौतें किसी और राज्य, यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल, पंजाब, हरियाणा सहित 28 राज्यों-केंद्रशासित प्रदेश में हुई हैं उतनी अकेले गुजरात में हुई है।

कोरोना संक्रमित इन 28 राज्यों में सोमवार तक 308 मौतें हुई जबकि अकेले गुजरात में 319 मौतें हो चुकी है।

कोरोना वायरस से चीन को चेताने वाली डॉक्टर हुई गायब, क्या असलियत छुपा रहा है चीन?

ठीक होने वाले मरीज
वहीँ, देश में वो राज्य जहां कोरोना से मरीज तेजी से ठीक हो रहे हैं उनमें सिर्फ एक तेलंगाना ही है।
तेलंगाना उस लिस्ट में शामिल हैं जहां 1 हजार से ज्यादा कोरोना के मामले वाले राज्य शामिल हैं। लेकिन फिर भी यहां मरीजों का रिकवरी रेट बहुत अच्छा है।

यहां पिछले बुधवार तक 1096  मरीज थे, जिनमें से 628 मरीज अब तक ठीक हो चुके हैं।  इसके बाद रिकवरी रेट में आंध्रप्रदेश, राजस्थान और तमिलनाडु का नंबर है। यहां अब तक 2819 मरीज ठीक हो चुके हैं।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.