Wednesday, May 12, 2021
-->
corona-virus-association-of-lawyers-filed-petition-in-gujarat-high-court-rkdsnt

कोरोना कहर : वकीलों की संस्था ने दाखिल की गुजरात हाई कोर्ट में याचिका 

  • Updated on 5/3/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। वकीलों के एक संघ ने कोविड-19 महामारी के बीच सोमवार को गुजरात उच्च न्यायालय को आईसीयू बेड, वेंटीलेटर, ऑक्सीजन, प्रशिक्षित स्वास्थ्य र्किमयों की कमी और आरटी-पीसीआर जांच के नतीजों में देरी समेत रेमडेसिविर दवा की कालाबाजारी से अवगत कराते हुए इस ओर अदालत का ध्यान आकृष्ट कराया, जो राज्य के कुछ ग्रामीण हिस्सों में प्रमुख मुद्दे हैं। 

चुनाव आयोग की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हाई कोर्ट का मनोबल नहीं गिरा सकते

कोविड-19 की स्थिति पर स्वत: संज्ञान लेते हुए गुजरात उच्च न्यायालय वकील संघ ने उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर की। याचिका में उन्होंने कहा कि लोगों से ईमेल और वाट्सऐप संदेशों से मिली जानकारी के अनुसार कुछ जिलों में आरटी-पीसीआर जांच के नतीजे आने में तीन से चार दिन का वक्त लग रहा है। वकीलों के संघ ने कहा कि पंचमहल में रहने वालों को इलाज के लिए अहमदाबाद या वडोदरा में पास के इलाकों में जाने के लिए नोडल अधिकारियों से अनुमति लेनी पड़ रही है। 

केजरीवाल सरकार ने शुरू किया 18 साल से अधिक आयु के लोगों के लिए टीकाकरण

उन्होंने कहा कि नर्मदा जिले में सीटी (कम्प्यूटराइज्ड टोमोग्राफी) स्कैन 4,000 रुपये में हो रहा है और सरकारी अस्पतालों में वेंटीलेटर चलाने के लिए प्रशिक्षित तकनीशियन भी नहीं है जबकि आरटी-पीसीआर जांच केंद्र पूरी तरह से काम नहीं कर रहे हैं। याचिका में सुरेंद्रनगर, तापी, छोटा उदयपुर, नर्मदा और पंचमहल में मुद्दों का जिक्र किया गया है। 

भाजपा को लेकर प्रशांत किशोर का अनुमान सटीक बैठा, बावजूद इसके चुनावी रणनीतिकार का रोल छोड़ेंगे

इसमें कहा गया है कि छोटा उदयपुर में पहले की तरह ही शादियों एवं अन्य कार्यक्रमों में भीड़ जुट रही है जबकि जरूरी सामान की कीमतें आसमान छू रही हैं।     वकीलों के संघ ने अदालत से राज्य सरकार को लचीली मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) अपनाने का निर्देश देने का अनुरोध किया ताकि बीमार लोगों को सिर्फ इस आधार पर नहीं लौटाया जाये कि उनकी आरटी-पीसीआर जांच में संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है। जांच के ऐसे कई नतीजों में ‘फॉल्स निगेटिव’ दर्शाया गया है। 

येचुरी बोले- सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को जारी रखने का मोदी सरकार का कदम हास्यास्पद 

उन्होंने कहा कि डीआरडीओ द्वारा अहमदाबाद में बनाये गये 900 बेड वाले धन्वंतरी कोविड-19 हॉस्पिटल में शवों या पीड़ितों को उनके रिश्तेदारों या परिजनों को सौंपने की कोई व्यवस्था नहीं है और परिजनों को एंबुलेंस के इंतजाम के लिए 10,000 रुपये तक खर्च करना पड़ रहा है। मुख्य न्यायाधीश विक्रम नाथ और जस्टिस बीडी कारिया की खंड पीठ मंगलवार को याचिका पर सुनवाई करेगी। 

comments

.
.
.
.
.