Tuesday, Jul 07, 2020

Live Updates: Unlock 2- Day 6

Last Updated: Mon Jul 06 2020 11:11 PM

corona virus

Total Cases

719,448

Recovered

440,137

Deaths

20,174

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA211,987
  • TAMIL NADU114,978
  • NEW DELHI100,823
  • GUJARAT36,858
  • UTTAR PRADESH28,636
  • TELANGANA25,733
  • KARNATAKA25,317
  • WEST BENGAL22,987
  • RAJASTHAN20,263
  • ANDHRA PRADESH20,019
  • HARYANA17,504
  • MADHYA PRADESH15,284
  • BIHAR12,140
  • ASSAM11,737
  • ODISHA9,526
  • JAMMU & KASHMIR8,675
  • PUNJAB6,491
  • KERALA5,623
  • CHHATTISGARH3,305
  • UTTARAKHAND3,161
  • JHARKHAND2,854
  • GOA1,813
  • TRIPURA1,580
  • MANIPUR1,390
  • HIMACHAL PRADESH1,077
  • PUDUCHERRY1,011
  • LADAKH1,005
  • NAGALAND625
  • CHANDIGARH490
  • DADRA AND NAGAR HAVELI373
  • ARUNACHAL PRADESH270
  • DAMAN AND DIU207
  • MIZORAM197
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS141
  • SIKKIM125
  • MEGHALAYA88
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
corona virus attack these blood group people

यदि आपका है यह Blood Group तो जल्द हो सकते हैं कोरोना वायरस के शिकार

  • Updated on 3/18/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। इस वायरस के कहर से पूरा विश्व थररा गया है। ऐसे में हाल ही में हुए एक शोध में इस वायरस को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है।

Image result for कोरोना वायरस navodayatimes

 क्या है मामला

चीन के हुबेई शहर में एक शोध के दौरान खुलासा हुआ कि ये कोरोना वायरस एक बल्ड ग्रुप के लोगों को ज्यादा प्रभावित करता है। आपको बता दें कि शोधकर्ताओं ने ये शोध  दो हजार से अधिक लोगों पर किया है।जिसके बाद ये नतीजा निकलकर आया है।

इन बल्ड ग्रुप पर हावी होता है वायरस
 शोध के बाद जो नतीजे निकलकर आए हैं उसके हिसाब से बल्ड ग्रुप ए को सबसे पहले कोरना वायरस संक्रमित करता है। इसके साथ ही ये भी पता चला कि जिनका ब्लड ग्रुप ओ है उन्हें संक्रमति होने में ज्यादा समय लगता है।

अगर आपको भी सता रहा है कोरोना वायरस का खतरा तो आज हम आपको उन उपायों के बारे में बताने वाले हैं जिनका उपयोग करते हुए आप आपने आपको हेल्थी और  इस वायरस से दूर रख सकते हैं। 

चलिए जानते हैं उन  5 चीजों के बारे में....

लहसुन
घर में आसानी से उपलब्ध लहसुन को नियमित आधार पर सेवन करने से शरीर को संक्रमण से दूर रखने की क्षमता मिलती है। इसमें एलिसिन पाया जाता है जो वायरस से लड़ने और प्रतिरक्षा को बढ़ाने के काम में आता है। यह तब बनता है जब लहसुन की एक लौंग को कुचल कर चबाया जाता है काटा जाता है।

एलिसिन वही यौगिक है जो लहसुन को अपना विशिष्ट गंध देता है। आप लहसुन की दो लौंग ले सकते हैं और हर दिन गर्म पानी के साथ उसका सेवन कर सकते हैं या इसे अपने रोज के खाने का हिस्सा बना सकते हैं।

कोरोना वायरस का इलाज कर रहा डॉक्‍टर खुद हुआ शिकार, ट्वीट कर बताये हालात

प्रोबायोटिक दही (योगर्ट)
योगर्ट इन्फ्लूएंजा वायरस के कारण श्वसन संक्रमण के प्रभाव को कम किया जाता है। इसके अलावा, नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) में प्रकाशित शोध के अनुसार, प्रोबायोटिक की खपत भी बच्चों में श्वसन पथ के संक्रमण की घटनाओं को कम करने के लिए महत्पूर्ण है। ये अलग-अलग फ्लेवर में मिलता है। सुबह इसे खाने का विकल्प चुना जा सकता है।

दालचीनी
खाना बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाला यह सुगंधित मसाला आपके पसंदीदा व्यंजनों में विदेशी स्वाद जोड़ने के अलावा बहुत कुछ कर सकता है। न्यूयॉर्क के टौरो कॉलेज द्वारा किए गए एक प्रारंभिक अध्ययन में पाया गया कि दालचीनी में एंटीवायरल गुण हो सकते हैं। अनुसंधान के इन निष्कर्षों के अनुसार, रक्तचाप को विनियमित करने की अपनी सिद्ध क्षमता के अलावा, दालचीनी भी वायरल संक्रमण से शरीर की रक्षा कर सकती है।

आप बस एक दालचीनी की छड़ी को रात भर पानी में भिगो सकते हैं और अगली सुबह इसे पी सकते हैं। इसके अलावा दालचीनी का एक चुटकी अपने सुबह के कप चाय या कॉफी में डाल कर पी सकते हैं जिससे स्वाद और स्वास्थ्य लाभ दोनो मिलेगा।

नोएडा में कोरोना का पहला पॉजिटिव मामला, फैक्ट्री मजदूर हुआ संक्रमित

मशरूम
शियाटेक मशरूम को बीटा-ग्लूकन के साथ पैक किया जाता है जिसे एंटीवायरल और जीवाणुरोधी यौगिक के रूप में जाना जाता है। वे न केवल आपकी इम्यून सिस्टम को बढ़ाने में मदद करते हैं बल्कि सूजन को कम करने के लिए भी काम आते हैं। आप मशरूम को पतला करके और नारियल के तेल में सॉस लगाकर हलका तल कर इसे खा सकते हैं।

अमिताभ बच्चन ने बताया Coronavirus से लड़ने का अनोखा तरीका, सामने आया ये Video

मुलेठी
मुलेठी का इस्तेमाल पारंपरिक रूप से चीनी उपचार में उपयोग किया जाता है। इनफैक्ट, नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) में प्रकाशित एक पेपर के अनुसार, मुलेठी की जड़ में पाए जाने वाले सक्रिय यौगिक, एंटीवायरल, रोगाणुरोधी, एंटीट्यूमोर और अन्य गतिविधियां जैसे कई औषधीय शामिल है।

मुलेठी का उपयोग इसके एंटीसिटिव और इसके गुणों के कारण इस्तेमाल किया जाता है। गले में खराश और खांसी के से राहत पाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। आप बस मुलेठी को पानी में उबाल सकते हैं या पानी में डुबा कर इसके पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आपको ठंड महसूस हो कहा है तो आप एक कप मुलेठी के पानी से बना चाय का उपयोग कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.