Tuesday, Jan 18, 2022
-->
corona virus china  ppe kit fail  sobhnt

चीन की शर्मनाक हरकतः भारत को दान की गई PPE किट में से 50 हजार निकली खराब

  • Updated on 4/16/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस से पूरी दुनिया इस समय जूझ रही है। दुनिया के तमाम देश कोरोना से लड़ने के लिए चीन की तरफ देख रहे हैं। कुछ जगह चीन ने आगे आकर इन देशों की मदद तो की मगर अधिकांश देश चीन की मदद से खुश होने की जगह दुखी है। दरअसल चीन मदद के नाम पर जो उपकरण भेज रहा है उनमें से अधिकांश में शिकायत सुनने में आ रही है। भारत में  भी चीन ने 1,70,000 पीपीई किट्स आई है। खबर आ रही हैं इनमें से  50,000 किट फेल हो गई हैं।  

बेहद पिछड़ा ये राज्य कोरोना के खिलाफ बना है सबसे बेहतरीन सर्वाइवर

50 हजार किट फेल
बता दें भारत सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि चीन के बड़ी कंपनियों ने भारत को दान स्वरुप 1,70,000 पीपीई किट दान की थी मगर इनमें से 50,000 क्वीलिटी टेस्ट में फेल हो गई हैं। बता दें यह किट्स डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन लेबोरेट्री ग्वालियर में टेस्ट की गई थी। एक अधकारी ने बताया कि चीन की तरफ से दो छोटे कंसाइनमेंट्स भी आए थे जिनमें एक में 30,000 तो वहीं दूसरे में 10,000 किट्स आई थी। यह सारी की किट्स फेल हो गई हैं।

अमेरिका ने रोकी डब्लूएचओ की फंडिंग, कोरोना के खिलाफ कमजोर हो सकती है लड़ाई!

इटली और पाकिस्तान में भी भेजे थे खराब उपकरण 
बता दें इससे पहले चीन ने इटली को भी मदद के नाम पर चिकित्सा उपकरण भेजे थे मगर उनमें में आधी से ज्यादा उपकरण खराब निकले जिसके लिए चीन की काफी आलोचना भी हुई थी। पाकिस्तान के साथ तो चीन ने इतना बुरा किया कि वहां मदद के नाम पर मास्क की जगह  अंडरगारमेंट्स के मास्क बनाकर भेज दिए।

रेलवे लॉकडाउन के दौरान बुकिंग की गई टिकटों के करेगा पैसे वापस, ऐसे पाएं रिफंड

सूट्स का भी दिया है ऑर्डर
बता दें  बताया गया है कि जो किट भारत खरीद रहा है वह CE/FDAcertified होगीं। चूंकि जो किटे फेल हुई हैं उनमें से अधिकांश दान की हुई थी। इसलिए  सरकार यह ध्यान रख रही है कि जो किट खरीदी जाएं उनमें किसी प्रकार की कोई खराबी सामने न आए। वही इसके अलावा सरकार ने 1 लाख सूट का भी ऑडर दिया है। 

ऑनलाइन पाठ्यक्रम पर जोर देंगे विश्वविद्यालय, यूजीसी ने शुरू की नई पहल

हम भी बढ़ा रहे हैं उत्पादन
वहीं एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना  है कि हमें कम से कम 2 मिलियन सूटस की आवश्यकता पड़ेगी। अगर हमारे पास इतने सूट होंगे तो यह हमारे लिए पर्याप्त है। बताया जा रहा है कि सूटस भी भारत चीन से ही खरीदने वाला है। चूंकि चीन एक बड़ा निर्यातक है इसलिए उससे खरीदना हमारी मजबूरी है। लेकिन ऐसा नहीं है हम भी अपनी क्षमता बढ़ा रहे हैं।



 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.