Friday, Apr 10, 2020
corona virus covid 19 havoc police goons punish labors people in delhi punjab uttar predesh

Corona कहर के बीच पुलिस और गुंडों का सितम, मार झेलने को मजबूर बेबस लोग

  • Updated on 3/26/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना के कहर के बीच जहां 21 दिनों का देशभर में लॉक डाउन शुरू हुआ है, इसके साथ ही गरीबों और आम जनता की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है। लोग जहां घर में रहने को मजबूर हो गए हैं, वहीं जरुरी चीजों की सप्लाई में जुटे लोगों और ऐसे सामान को बेचने वालों की मुश्किलें भी बढ़ती नजर आ रही है। सोशल मीडिया पर ऐसे वीडियो वायरल हो रहे हैं, जिसमें पुलिस के साथ-साथ गुंडों भी कानून को तोड़ते नजर आ रहे हैं। 

कोरोना से जंग: केरल, दिल्ली और झारखंड सरकारों की हो रही तारीफ

दिल्ली पुलिस ने इस तरह दिया ऑपरेशन शाहीनबाग को अंजाम, Corona बना ढाल

गरीब फेरीवालों के रेड़ियों और ठेलों को निशाना बनाया जा रहा है। दिल्ली में एक शख्स सड़कों खड़ी गरीबों की रेड़ियों को गिरा रहा है। इसके साथ ही वह लोगों को डरा भी रहा है। जबकि सब्जी जैसी जरूरी चीजों के बेचने पर सरकार ने कोई रोक नहीं लगाई है। इससे भी कानून व्यवस्था को लेकर सवाल उठने लगे हैं। सवाल उठता है कि ऐसे गंडों से पुलिस किस तरह निपटेगी। यह गुंडा अपने मुंह पर मास्क लगाकर रेड़ियों को निशाना बना रहा है। 

कोरोना कहर के बीच राहत, देश के सभी हाइवे पर टोल कलेक्शन सस्पेंड

कोरोना कहर के बीच भगवान बनें डॉक्टरों की बढ़ी मुश्किलें, बेबस सरकार!

इसी तरह एक वीडियो पंजाब से भी आया है, जिसमें पुलिस वाले बेरहमी से एक शख्स की पिटाई कर रहे हैं। जबकि वह शख्स अपनी स्कूटी पर जरूरी खाने पीने का सामान ले जा रहा था। वह माफी मांग रहा है, लेकिन पुलिस लगातार उसे पीटती जा रही है। इस वीडियो को देखकर लोगों में पुलिस के व्यवहार के प्रति गहरा रोष देखा जा रहा है। लोग ऐसे पुलिस वालों के खिलाफ कार्रवाई के साथ बेहतर प्रशिक्षण देने की मांग कर रहे हैं। लोगों का सवाल है कि पुलिस की कार्रवाई उन लोगों के खिलाफ तो सही मानी जा सकती है, जो बेवजह सड़कों पर झुंड में घूमते नजर आ रहे हैं, लेकिन हरेक को हिंसक तरीके से हैंडल करना कहां तक उचित है।

केजरीवाल की हरी झंडी, दिल्ली में कोरोना के मरीजों को भी आयुष्मान योजना का लाभ

चंद्रमुखी चौटाला फेम अभिनेत्री ने Corona के जरिए किया इंसान बांटने वालों पर कटाक्ष

यूपी में भी पुलिस की बर्बरता के वीडियो देखने को मिल रहे हैं। समाजविज्ञान के जानकारों का मानना है कि सरकार ऐसे हालात में लोगों को सही जानकारी देने में नाकाम रही है। इसके साथ ही लोग पहली बार इस तरह देशबंदी का सामना कर रहे हैं। ऐसे में लोगों को कोरोना वायरस की गंभीरता के बारे में सही जानकारी देने के साथ उनके लिए जरूरी सामान और रुपये का इंतजाम करना भी बेहद जरूरी है। अगर सरकार गरीबों और मजबूरों के लिए यह इंतजाम नहीं करती है, तो अफरा-तफरी मचना तय है। कोरोना लॉकबंदी के सामाजिक, आर्थिक साइड इफेक्ट्स 21 दिनों के बाद देखने को मिलेंगे। एक्सपर्ट का मानना है कि सरकारों इस दिशा में अभी से राहत भरे कदम उठाने होंगे।

कोरोना को लेकर संबित पात्रा ने ली ये प्रतिज्ञा, लोगों ने याद दिलाया डॉक्टर 'धर्म'

सवाल ये भी उठाए जा रहे हैं कि इस लॉकबंदी का सरकार या गुंडे गलत इस्तेमाल नहीं करें। धर्म विशेष समूह के प्रति भेदभाव ना बरता जाए। उनकी बस्तियों में राशन पहुंचाने में कोई भेदभाव ना हो। इसके साथ ही यहां कोई सांप्रदायिक रंग देकर कोई काम ना किया जाए। जिससे माहौल खराब हो और दंगों का रूप ग्रहण कर लें। इसके लिए पुलिस प्रशासन को भी सतर्क रहने की बेहद जरूरत है। उत्तर प्रदेश के कई जिले इस मामले में काफी संवेदनशील हैं। 

यहां पढ़ें कोरोना के जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें 

क्या है कोरोना वायरस? जानें, बीमारी के कारण, लक्षण व समाधान

इन आयुर्वेदिक उपायों का करें इस्तेमाल, नहीं आएगा Coronavirus पास 

coronavirus: 5 दिन में दिखे ये लक्षण तो जरूर कराएं जांच 

यदि आपका है यह Blood Group तो जल्द हो सकते हैं कोरोना वायरस के शिकार 

कोरोना वायरस: जिम बंद हुए हैं एक्सरसाइज नहीं, 'वर्क फ्रॉम होम' की जगह करें 'वर्कआऊट फ्रॉम होम' 

Coronavirus को रखना है दूर तो डाइट में शामिल करें ये 7 चीजें 

कोरोना वायरस : मास्क के इस्तेमाल में भी बरतें सावधानियां, ऐसे करें यूज 

कोरोना वायरस से जुड़े ये हैं कुछ खास मिथक और उनके जवाब 

मिल गया Coronavirus का इलाज! जल्द ठीक हो सकेंगे सभी संक्रमित 

लॉक डाऊन है तो फिक्र क्या, बैंक कराएंगे आपके पैसे की होम डिलीवरी

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.