Tuesday, Jun 28, 2022
-->
corona virus lockdown suddenly announcement of sealed 15 district created panic buying rkdsnt

यूपी में अचानक जिले सील करना पड़ा भारी, अफवाह में बदहवास होकर दौड़े नागरिक

  • Updated on 4/8/2020

गाजियाबाद/ब्यूरो। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए बुधवार की रात 12 बजे से गाजियाबाद जनपद में सभी हॉट स्पॉट को सील करने का ऐलान किया है। यह हॉट स्पॉट 13 अप्रैल की रात 12 बजे तक सील रहेंगे। योगी सरकार के इस फैसले को भली-भांति समझे बगैर नागरिकों में एकाएक हड़कंप मच गया। कर्फ्यू जैसे हालात पैदा होने की आशंका में लोग बदहवास होकर दुकानों की तरफ दौड़ पड़े। 

यूपी के 15 जिले सील करने के ऐलान से पहले कितनी तैयार थी योगी सरकार, उठे सवाल

आवासीय कॉलोनियों से लेकर मुख्य सड़कों पर वाहनों की आवाजाही भी अचानक बढ़ गई। ऐसे में विभिन्न मार्गों पर परिवहन जाम हो गया। स्थिति को संभालने के लिए डीएम और एसएसपी को आनन-फानन में आना पड़ा और वीडियो संदेश जारी कर लोगों को शांत करने की अपील करनी पड़ी।

AAP ने पूछा- जब भारत स्वयं संकट में है तो मोदी जी अमेरिकी दवा गोदाम क्यों भरने में जुटे हैं?

5 दिन तक कर्फ्यू लागू होने की अफवाह 
उन्होंने वीडियो संदेश जारी कर नागरिकों से धैर्य बनाए रखने की गुजारिश की। उन्होंने कहा कि यूपी सरकार ने कोरोना का संक्रमण रोकने को कड़ा कदम उठाया है। सरकार ने 15 जनपदों को सील करने का ऐलान किया है। इसके तहत हरेक जिले में सिर्फ उन स्थानों को पूर्णत: सील कराया जाएगा, जहां कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। इन स्थानों पर नागरिकों की आवाजाही नहीं हो सकेगी। सभी दुकानों को बंद रखा जाएगा। इस घोषणा के बाद अफवाहों ने भी जोर पकड़ लिया। 

कोरोना प्रभावित गाजियाबाद के ये हैं 13 इलाके, जिन्हें योगी सरकार ने किया है सील

5 दिन तक कर्फ्यू लागू होने की अफवाह की वजह से लोगों में दहशत पैदा कर दी और वे घरों से बाहर खरीदारी को निकल पड़े। इसकी वजह से बाजारों में जरूरी सामान की खरीदारी के लिए भीड़ बढ़ती ही चली गई। दूध, बिस्कुट, नमकीन, चीनी, चाय की पत्ती, सब्जी, फल और जीवन रक्षक दवाएं खरीदने को भीड़ उमड़ पड़ी। 

कोरोना कहर : मरकस निजामुद्दीन गए लोगों के साथ अस्पतालों को भी दिल्ली पुलिस की चेतावनी

निजी वाहनों की संख्या भी सड़कों पर बढ़ी
जिले सील करने और उसके बाद अफवाहों के बाजार ने लोगों में हलचल मचा दी। निजी वाहनों की संख्या भी अचानक सडक़ों पर इजाफा देखा गया। नतीजन मुख्य बाजारों और सड़कों पर यातायात जाम हो गया। हर किसी की जुबान पर सिर्फ यही सवाल था कि गुरुवार से जनपद में सबकुछ बंद हो जाएगा। इसलिए जो खरीद सकते हो खरीद लो। ऐसे में लोगों ने लॉकडाउन के नियमों की भी खूब धज्जियां उड़ाईं। 

सोनिया गांधी के ये 5 सुझाव कोरोना से लड़ने में मोदी सरकार के लिए हो सकते हैं मददगार

लोगों के बीच नहीं गया सही संदेश
अफवाहों का बाजार गर्म होने से एक बात साफ हो गई कि लोगों के बीच योगी सरकार सही संदेश नहीं गया। सरकार के फैसले को सही तरीके से समझे बगैर नागरिक अपने-अपने हिसाब से बातें करते गए और दहशत में खरीदारी बढ़ती गई। फल एवं सब्जी मंडियों में भी देर शाम तक सरगर्मी रही। 

कोरोना के मद्देनजर यूपी में जिले सील, Panic Buying पर DM को करनी पड़ी ये अपील

उधर, जटवाड़ा, मालीवाड़ा, अशोक नगर, राजनगर, कविनगर, बजरिया, रमते राम रोड,  नंदग्राम, घूकना, सिहानी, शास्त्रीनगर, नेहरू नगर, राकेश मार्ग, पटेल नगर,सद्दीक नगर, पुराना विजय नगर, प्रताप विहार आदि कॉलोनियों में दुकानों से घरेलू जरूरत का सामान खरीदने को लोग उमड़ पड़े। प्रशासनिक सूत्रों का कहना है कि जिलेभर में 13 हॉटस्पॉट चिन्हित किए गए हैं। जिन्हें पूर्णत: सील किया जाएगा। 

 

हां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.