Thursday, Jan 20, 2022
-->
corona virus take these precautions during travel who delhi china usa

कोरोना वायरस को लेकर यात्रा के दौरान बरतें ये खास सावधानियां

  • Updated on 3/3/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चीन के अलावा दुनिया के कई हिस्सों में कहर बरपा रहे कोरोना वायरस कोविड-19 (Covid 19) ने दिल्ली में दस्तक दे दी है। जिस मरीज में इसकी पुष्टि हुई है, उसकी ट्रेवल हिस्ट्री इटली की है, जहां यह वायरस तेजी से फैल रहा है। मगर इस वायरस से घबराने की जरूरत नहीं है। थोड़ी सावधानी बरती जाए तो इसे आसानी से मात दी जा सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) इस वायरस को नियंत्रित रखने के लिए दुनिया भर के देशों को और नागरिकों के लिए समय-समय पर विशेष गाइड लाइन्स भी जारी कर रहा है। बुखार, सूखी खांसी और सांस लेने में दिक्कत महसूस हो तो तत्काल डॉक्टर की सलाह लें। कोरोना को मात देने के लिए हम क्या-क्या कर सकते हैं, इसी पर प्रस्तुत है यह रिपोर्ट... 

अनुपम खेर ने CoronaVirus को लेकर भारतीय परंपरा से जुड़ी खास हिदायत

- खांसी, बुखार से पीड़ित दिख रहे मरीज के निकट संपर्क से बचें।
- एल्कोहल युक्त सेनेटाइजर साथ रखें और हाथ साफ करते रहें।
- मास्क पहनें तो सुनिश्चित करें कि नाक और मुंह ढंका रहे।
- अगर यात्रा के दौरान बीमार महसूस करो तो तत्काल चालक दल को सूचित करें और चिकित्सा सहायता मांगें।
- चिकित्सक को अपनी ट्रेवल हिस्ट्री और पूर्व के इलाज के बारे में अवश्य बताएं।
- अच्छी तरह से पका खाना ही इस्तेमाल करें। 
- खांसते और झींकते वक्त सावधानी रखें, थूकें नहीं।
- बीमार जानवरों को साथ लेकर यात्रा न करें। 

बीमार हैं तो यात्रा से बचें
अगर आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ है तो यात्रा करने से बचें और तत्काल चिकित्सा जांच कराएं। ऐसी स्थिति में यात्रा करने से वायरस के फैलने का खतरा रहता है।

ऐसा हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें
अगर बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ हो तो तुरंत डॉक्टरी सहायता लें। डॉक्टर द्वारा बताए हर निर्देश का पालन करें। डॉक्टर की जानकारी में आते ही इस मामले में आपको उचित चिकित्सीय मदद मिल सकेगी।

शिवसेना ने पूछा- जब दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो अमित शाह कहां थे?

खाना बनाते वक्त
सब्जियों और खाने की सामग्री को काटने के लिए अलग-अलग चाकू और बोर्ड का इस्तेमाल करें। इनकी सफाई का विशेष ध्यान रखें। कच्चे खाने को काटने के बाद हाथ धोकर ही खाना पकाएं।

एक मीटर का फासला रखें
जिसे जुकाम और खांसी के लक्षण हों उससे बात करते समय करीब एक मीटर का फासला रखें। छींक और खांसी से निकला कोविड-19 हवा में जिंदा रहते हुए दो फुट तक जा सकता है। 

दिल्ली हिंसक दंगे : पीड़ितों के लिए मुस्तफाबाद में होगा सबसे बड़ा राहत शिविर

आंख, नाक और मुंह को न छुएं
इससे वायरस हाथ पर आ जाएगा और हाथों से आप जिन चीजों को छुओगे उनकी सतह पर चिपक जाएगा। अगर वह सतह नम होगी तो वहां यह ज्यादा समय तक जिंदा रह सकता है।

बच्चों को खतरा कम
कोविड-19 पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की दैनिक रिपोर्ट के अनुसार इस वायरस का प्रसार वयस्को में तेजी से हो रहा। चीन में संक्रमण के आंकड़े बताते हैं कि 20 साल से कम उम्र के लोगों में इस वायरस की प्रसार दर सिर्फ 2.1 प्रतिशत है।  

दिल्ली दंगों में इस्तेमाल हुए युद्धक गुलेल समेत ऐसे-ऐसे हथियार

ऑक्सीजन थेरेपी कारगर
डब्ल्यूएचओ के अनुसार यह पाया गया है कि ऑक्सिजन थेरेपी मरीज की हालत को खतरनाक होने से बचाती है। इसलिए सभी देशों को पल्स ऑक्सीमीटर और मेडिकल ऑक्सिजन सिस्टम की उपलब्धता सुनिश्चित करनी चाहिए। 

क्रिटिकल स्थिति 
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार कोविड-19 के संक्रमण से मरीज की स्थिति क्रिटिकल होने के मामलों में मृत्युदर 50 फीसदी तक है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.