Monday, Mar 01, 2021
-->
corona virus wuhan doctor speak out now disappeared china hiding its reality prsgnt

कोरोना वायरस से चीन को चेताने वाली डॉक्टर हुई गायब, क्या असलियत छुपा रहा है चीन?

  • Updated on 4/7/2020

नई दिल्ली/प्रियंका। चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस का संकट अब पूरी दुनिया में अपना कहर बरपा रहा है। दुनियाभर में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़कर 13 लाख के पार जा चुके हैं जबकि कोरोना से अब तक 74 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। वहीँ, वैज्ञानिक अब तक पता नहीं लगा पाएं हैं कि आखिर कोरोना वायरस आया कहां से?

इस बीच एक खबर सामने आई है जिसने एक बार फिर कोरोना को लेकर चीन की नीयत पर सवाल खड़े कर दिए हैं। दरअसल, एक रिपोर्ट में यह बताया गया है कि कोरोना के बारे में चीन की एक डॉक्टर ने पहले ही आगाह किया था लेकिन चीन ने इस बात को गंभीरता से नहीं लिया। जिसका परिणाम अब पूरा विश्व झेल रहा है।

देश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामले, तीसरे फेज में पहुंचने को तैयार भारत!

डॉ. फेन हुई गायब
इस रिपोर्ट में बताया गया है कि कोरोना महामारी को लेकर सबसे पहले चेताने वाली वुहान की डॉक्टर आई फेन अचानक गायब हो गई हैं। मीडिया में सामने आई इन रिपोर्ट्स में ये आशंका जताई जा रही है कि डॉ. आई फेन के द्वारा एक कोरोना मरीज की रिपोर्ट पब्लिक करने के बाद शायद उन्हें जबरन बंदी बना लिया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो डॉ. फेन के मरीज की रिपोर्ट पब्लिक करने के बाद, वुहान सेंट्रल हॉस्पिटल के अधिकारियों ने उनसे कहा था कि इसके परिणाम बेहद बुरे होंगे।

इस बारे में चीन की पीपल मैगजीन में भी उन्होंने डॉक्टर समुदाय से इस बीमारी का जिक्र किया. हालांकि इस आर्टिकल को अब डिलीट कर दिया गया है। इसी आर्टिकल में एक मरीज के टेस्ट रिजल्ट की तस्वीर थी, जिसमें इस डॉक्टर ने लाल स्याही से साफ लिखा था- "सार्स-कोरोना वायरस"। ये वही रिपोर्ट थी जिसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया था।

कोरोना फाइटर: अस्पताल में पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट नहीं थे इसलिए मुझे हुआ कोरोना- डॉक्टर शीनम

साथियों की हो चुकी है मौत
वहीँ, इस बारे में डॉ. आई फेन ने चीनी की मैगजीन रेनवू को अपने एक इंटरव्यू में कई बातें बताईं। वुहान की डॉक्टर आई फेन ने कहा मेरे कई साथी इस बीमारी से पीड़ित लोगों का इलाज करते हुए मर गए, लेकिन दिसंबर में जब हमने इस वायरस के बारे में अपने बड़े सरकारी अधिकारियों को बताया तो हमें चुप रहने को कह दिया गया।

कोरोना से बचने के लिए लोगों से बना कर रखें 6 फीट की दूरी, पढ़ें और क्या है जरुरी

फेन को मिली थी धमकी
डॉ. फेन ने बताया कि उन्हें धमकाया गया था कि अगर आप इस वायरस के बारे में किसी से भी बात करेंगी तो अंजाम बेहद बुरा होगा। रिपोर्ट के मुताबिक उनके साथी और इस मामले को सोशल मीडिया पर उठाने वाले डॉक्टर अभी जेल में हैं। वहीँ, 60 मिनट ऑस्‍ट्रेलिया की रिपोर्ट के अनुसार, इस इंटरव्‍यू के बाद से डॉक्‍टर फेन लापता हैं।

लॉकडाउन ने तोड़ दी गरीब मजदूर की कमर, न खाना बचा, न रोजगार! पढ़ें रिपोर्ट

स्थानीय नागरिकों के अनुसार
कोरोना वायरस को लेकर शुरुआत से ही चीन की भूमिका को शक की निगाह से देखा जा रहा है। चीन कुछ छुपा रहा है यह बात न सिर्फ वुहान के लोगों के बीच से सामने आई है बल्कि कुछ देश भी यही मानते हैं।

इस बारे में मीडिया की एक खबर में प्रकाशित वुहान के स्‍थानीय लोगों के अनुसार, चीनी अधिकारी कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा कम बताते हैं जबकि स्थानीय लोगों का ऐसा दावा है कि चीन में कम से कम 42 हजार से ज्यादा लोगों की मौत कोरोना के कारण हुई है। जबकि चीन के आधिकारिक आंकड़े तीन हजार से कुछ ज्यादा हैं।

कहां से आया कोरोना, क्या हमने कोरोना वायरस को महामारी बनाया है?

चौंकाने वाली रिपोर्ट
वहीँ पिछले दिनों सामने आई एक रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि चीन में अचानक ही 80 हजार से ज्यादा मोबाइल कनेक्शन सिम अचानक बंद हो गईं हैं। ये तब हुआ जबसे चीन में कोरोना का संकट बढ़ना शुरू हुआ। इस बात में अगर सच्चाई को देखें तो चीन में कोरोना से मरने वालों की संख्या हजारों में नहीं बल्कि लाखों में हो सकती है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.