Sunday, Nov 29, 2020

Live Updates: Unlock 6- Day 28

Last Updated: Sat Nov 28 2020 09:53 PM

corona virus

Total Cases

9,386,019

Recovered

8,793,579

Deaths

136,655

  • INDIA9,386,019
  • MAHARASTRA1,814,515
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA878,055
  • TAMIL NADU768,340
  • KERALA578,364
  • NEW DELHI561,742
  • UTTAR PRADESH537,747
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA315,271
  • TELANGANA263,526
  • RAJASTHAN240,676
  • BIHAR230,247
  • CHHATTISGARH221,688
  • HARYANA215,021
  • ASSAM211,427
  • GUJARAT201,949
  • MADHYA PRADESH188,018
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB145,667
  • JHARKHAND104,940
  • JAMMU & KASHMIR104,715
  • UTTARAKHAND70,790
  • GOA45,389
  • PUDUCHERRY36,000
  • HIMACHAL PRADESH33,700
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,691
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,647
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,312
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
corona-worldwide-increased-mental-patients-report

कोरोना की वजह से दुनियाभर में बढ़े मानसिक मरीज, पढ़ें स्पेशल रिपोर्ट

  • Updated on 3/26/2020

नई दिल्ली/प्रियंका। कोरोना की वजह से पूरे देश में लॉकडाउन जारी है। इस बीच लोग अपने घरों में रहने को मजबूर हैं। कोरोना के फैलने का जितना डर लोगों को बाहर जाने पर लग रहा है उतना ही मानसिक डर लोगों को अब घर में रहते हुए सताने लगा है।

दरअसल, लॉकडाउन के बाद लोगों पर आर्थिक मंदी ने तनाव बन कर हमला किया है। अब लोगों को अपनी रोजीरोटी की जुगाड़ के साथ-साथ कोरोना के डर से भी लड़ना है। वहीँ दूसरी तरफ पहले से मानसिक रूप से बीमार लोग इस महामारी के चलते और टेंशन में आ गए हैं।

चीन के करीब होने के बाद भी ताइवान ने कैसे जीती कोरोना की जंग, पढ़ें खास रिपोर्ट

भारत में मानसिक रोगी
एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में लगभग 15 करोड़ मानसिक रोगी हैं जिन्हें दवाओं की जरूरत हैं,  लेकिन सिर्फ 3 करोड़ को ही मेडिकल सुविधा मिल पाती है। वहीँ, इस बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) पहले ही कह चुका था कि 2020 तक लगभग 20% भारतीय लोग मानसिक बीमारियों का शिकार होंगे। वहीँ इन रोगियों पर भारत में लगभग 9 हजार मनोचिकित्सक हैं। यानी 1 लाख लोगों पर सिर्फ एक डॉक्टर, मतलब हमारे यहां हजारों मनोचिकित्सकों की कमी है।

Corona पैकेज में मोदी सरकार ने मजदूर, गरीब को क्या दिया, जानें एक नजर में

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट
विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट मेंटल हेल्थ इन इमरजेंसीज़ के अनुसार,  इमरजेंसी के शिकार सभी लोग मनोवैज्ञानिक/मानसिक तनाव झेलते हैं, जिसमें से ज्यादातर लोग कुछ समय बाद उससे बाहर निकल आते हैं। बता दें, ये रिपोट कोरोना वायरस के प्रकोप से पहले जारी की गई थी। लेकिन इसका संदर्भ आज के हालातों में समझा जा सकता है।

वहीँ, इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि लगातार दस सालों में इस तरह के तनाव झेलने वाले हर 11 में से एक व्यक्ति को मानसिक विकार (Mental Disorder) हो जाता है। इतना ही नहीं, हर पांच में से एक को डिप्रेशन, एन्जाइटी या सिजोफ्रेनिया होता है और इनमें भी औरतें पुरुषों के मुकाबले  अवसाद/डिप्रेशन की ज्यादा शिकार होती हैं।

अपने शहर की प्राइवेट लैब पर ऐसे करा सकते हैं आप कोरोना संक्रमण की जांच, इतनी होगी फीस

कोरोना के बाद बढ़े मानसिक रोगी
कोरोना वायरस के भारत में आने के बाद कई राज्यों से मानसिक रोगियों की संख्या बढ़ी है हालांकि इस बारे में अभी कोई रिपोर्ट जारी नहीं की गई हैं। दरअसल, होम आइसोलेशनया क्वॉरन्टीन और घरों में बंद होने के चलते लोगों पर नकारात्मक असर हुआ है।  

न सिर्फ भारत में बल्कि चीन के वुहान में इस तरह के मामले ज्यादा सामने आए। क्योंकि वहां कोरोना का कहर अधिक था और इस दौरान अस्पतालों में मेडिकल स्टाफ और सुरक्षात्मक उपायों की कमी झेलते लोगों में ये तनाव घर कर गया।

मिल गया कोरोना का इलाज! इस विटामिन की डोज से ठीक हो रहे हैं कोरोना के मरीज

ऐसे बढ़ा मेंटल प्रेशर
वहीँ, कोरोना को लेकर सोशल मीडिया पर फैली अफवाहों और गलत जानकारी की वजह से भी लोग मानसिक रूप से प्रेशर में आए और उन्हें डिप्रेशन की समस्या हुई। सिर्फ इतना ही नहीं, इस बीच मीडिया ने जो सही जानकारी भी लोगों तक पहुंचाई, उसने भी लोगों की मेंटल हेल्थ को बिगाड़ा है। हालात ऐसे भी बने कि लोग पेरानॉइड होने लगे और उनमें नेगेटिव क्यूरिऑसिटी बढ़ी।

कोरोना से लड़ने वाली हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा के निर्यात पर आखिर क्यों सरकार ने लगाई रोक?

शारीरिक दूरी बनाए सामाजिक दूरी नहीं
इस बारे में एन्जाइटी एंड डिप्रेशन एसोसिएशन ऑफ अमेरिका से जुड़े विशेषज्ञ का कहना है कि लॉकडाउन के बारे में गलत जानकारी देकर लोगों को डराया गया है। लोग एक दूसरे से मिलने से डर रहे हैं जबकि इसका यह मतलब हरगिज नहीं है कि आप अपने आपको एकदम अकेला कर लें। आपको बस इतना करना होता है कि लोगों से आपको शारीरिक दूरी बनाए रखनी है ना की  सामाजिक दूरी। यानी लोगों से फिजिकल रूप से न मिले लेकिन उनके संपर्क में रहें।

इसके लिए सरकार द्वारा ये समझाया जाना चाहिये था कि लोग घरों में रह कर सोशल एक्टिव रहना है, फोन का इस्तेमाल करना है, वीडियो कालिंग आदि से सोशल रह कर फिजिकल डिस्टेंस बनाए रखना है।

यहां पढ़ें कोरोना के जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें 

क्या है कोरोना वायरस? जानें, बीमारी के कारण, लक्षण व समाधान

Corona Virus: भारत में जल्द बिगड़ेंगे कोरोना से हालात अगर ये बात नहीं मानी तो...

coronavirus: 5 दिन में दिखे ये लक्षण तो जरूर कराएं जांच 

यदि आपका है यह Blood Group तो जल्द हो सकते हैं कोरोना वायरस के शिकार 

कोरोना वायरस: जिम बंद हुए हैं एक्सरसाइज नहीं, 'वर्क फ्रॉम होम' की जगह करें 'वर्कआऊट फ्रॉम होम' 

Coronavirus को रखना है दूर तो डाइट में शामिल करें ये 7 चीजें 

कोरोना वायरस : मास्क के इस्तेमाल में भी बरतें सावधानियां, ऐसे करें यूज 

कोरोना वायरस से जुड़े ये हैं कुछ खास मिथक और उनके जवाब 

भारत में लॉकडाउन के बाद भी कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बढ़ा, पढ़े खास रिपोर्ट

लॉक डाऊन है तो फिक्र क्या, बैंक कराएंगे आपके पैसे की होम डिलीवरी

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.