Sunday, Jun 13, 2021
-->
coronas-havoc-a-year-after-lockdown-still-struggling-with-the-problem-of-unemployment-prshnt

कोरोना का कहर: लॉकडाउन के एक साल बाद भी नहीं हुआ बदलाव, बेरोजगारी की समस्या से जूझ रहा है देश

  • Updated on 3/25/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना वायरस महामारी (Corona Pandemic) पर काबू पाने के लिए पिछले साल 25 मार्च को लागू किए गए लॉकडाऊन (Lockdown) के चलते पैदा हुआ आजीविका का संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा और एक साल बाद भी कोरोना के दंश का असर देखने को मिल रहा है। भारत बेरोजगारी की समस्या से जूझ रहा है। सरकार ने महामारी के घातक प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाऊन लगाया था लेकिन इससे आॢथक और वाणिज्यिक गतिविधियां थम गईं और बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार से हाथ धोना पड़ा तथा प्रवासी मजदूरों के पलायन ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया।

Coronavirus: 5 महीने के टॉप पर पहुंचा कोरोना का कहर, 53,364 नए मामले

अप्रैल में बेरोजगारी दर 23.5% तक पहुंचा
सैंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सी.एम.आई.ई.) के आंकड़ों के अनुसार फरवरी 2021 में बेरोजगारी की दर 6.9 प्रतिशत रही, जो पिछले साल इसी महीने में 7.8 प्रतिशत और मार्च 2020 में 8.8 प्रतिशत थी। आंकड़ों से पता चलता कि अप्रैल में बेरोजगारी दर 23.5 प्रतिशत तक पहुंच गई थी और मई में यह 21.7 प्रतिशत पर रही। हालांकि इसके बाद थोड़ी राहत मिली और जून में यह 10.2 प्रतिशत और जुलाई में 7.4 प्रतिशत रही। 

सी.एम.आई.ई. के आंकड़ों के मुताबिक हालांकि बेरोजगारी की दर पिछले साल अगस्त में फिर बढ़कर 8.3 प्रतिशत और सितम्बर में सुधार दर्शाते हुए 6.7 प्रतिशत हो गई। विशेषज्ञों के मुताबिक सी.एम.आई.ई. के आंकड़ों में जुलाई के बाद से बेरोजगारी के परिदृश्य में सुधार के संकेत हैं, लेकिन इसमें स्थायित्व केवल इन्फ्रास्ट्रक्चर और सेवा क्षेत्रों में सुधार के बाद आएगा।

चुनाव आयोग के रोल को लेकर नड्डा और डेरेक ओ’ब्रायन में हुई राज्यसभा में नोकझोंक 

अभ्यार्थियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बातचीत
बता दें कि उत्तर प्रदेश में बेरोजगार युवाओं की समस्याओं और उनके संघर्ष को देखते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ को एक पत्र लिखा है। इस पत्र में प्रियंका गांधी ने नौकरी न मिलने से हताश युवाओं की आपबीती सुनने का जिक्र किया है और सीएम ने अनुरोध किया है कि वो इस बारे में तत्काल प्रभाव से कार्य करें। 

इस पत्र में प्रियंका गांधी ने लिखा है कि उत्तर प्रदेश का युवा बहुत परेशान और हताश है।  कुछ दिन पहले ही मैंने 12,460 शिक्षक भर्ती के अभ्यार्थियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बातचीत की थी।  

प्रियंका गांधी ने लिखा है, इस शिक्षक भर्ती में 24 जिले शून्य जनपद घोषित थे यानी कि इन 24 जिलों में कोई जगह खाली नहीं खाली थी मगर इनके बच्चे अन्य जिलों की भर्तियों के लिए परीक्षा में शामिल हो सकते थे। इन बच्चों ने परीक्षा दी और अच्छे अंकों से पास भी हुए परंतु 3 साल बीत जाने के बाद भी इनकी नियुक्ति नहीं हो पाई है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.