Monday, Mar 01, 2021
-->
coronas new strain in britain caused emergency meeting of ministry of health in india prshnt

ब्रिटेन में कोरोना की नई स्‍ट्रेन से मचा कहर, भारत में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की आपात बैठक, कही ये बा

  • Updated on 12/21/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दक्षिणी इंग्लैंड (South england) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए स्वरूप (स्ट्रेन) के पांव पसार रहा है। इसके मद्देनजर कनाडा (Canada) ने ब्रिटेन (Britain) से यात्री उड़ानों के परिचालन पर रोक लगा दी है। कोरोना वायरस के इस नए स्वरूप का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। वायरस के इस नए स्वरूप पर चर्चा करने के लिए भारत में स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने संयुक्त निगरानी समूह (जेएमजी) की सोमवार को आपात बैठक बुलाई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, कुछ ​महीनों पहले देश में कोरोना वायरस के 10 लाख सक्रिय मामले थे, अभी देश में करीब 3 लाख सक्रिय मामले हैं। कोरोना वायरस के एक करोड़ मामलों में से 95 लाख से ज़्यादा मामले ठीक हो चुके हैं। हमारा रिकवरी रेट दुनिया में सबसे ज़्यादा है। 

मुझे लगता है कि जितनी तकलीफों से हम गुजरे हैं अब वो खत्म होने की दिशा में आगे बढ़ रही हैं। इतना बड़ा देश होते हुए दुनिया के दूसरे बड़े देशों के मुकाबले भारत बेहतर स्थिति में है।

भारत वैक्सीन के विकास और रिसर्च में किसी से पीछे नहीं है। वैक्सीन की सुरक्षा, प्रभावशीलता, प्रतिरक्षाजनकता को लेकर भारत किसी तरह का कोई समझौता नहीं करेगा। हमारे रेगुलेटर बहुत गहराई और गंभीरता से आंकड़ों का अध्ययन कर रहे हैं।

मुझे लगता है कि अगले वर्ष जनवरी के महीने में किसी भी सप्ताह में ऐसा समय आ सकता है जब हम भारत के लोगों को पहली वैक्सीन देने की स्थिति में आ जाएं।

भारत सरकार पिछले चार महीनों से राज्य सरकारों के साथ मिलकर राज्य, ज़िला और ब्लॉक स्तर पर वैक्सीनेशन के लिए तैयारियां कर रही है।

जिन 30 करोड़ लोगों को पहले वैक्सीन दी जाएगी उनमें 1 करोड़ स्वास्थ्य कर्मी, 2 करोड़ फ्रंट लाइन वर्कर, 50 वर्ष से अधिक उम्र के 26 करोड़ लोग और 50 वर्ष से कम उम्र के करीब एक करोड़ लोग हैं जिनको कोई ​बीमारी है

ऐतिहासिक इमारतों की जानकारी पर्यटकों तक पहुंचाने के लिए डाटा बेस तैयार करेगा ASI

क्रिसमस से पहले दक्षिणी इंग्लैंड में बाजार बंद
कोरोना वायरस के नए स्वरूप स्ट्रेन को लेकर  फ्रांस, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड, बेल्जियम, ऑस्ट्रिया, आयरलैंड और बुल्गारिया पहले ही ब्रिटेन की यात्रा पर पाबंदी की घोषणा कर चुके हैं। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कोरोना वायरस के नए स्वरूप के तेजी से फैलने के बाद क्रिसमस से पहले दक्षिणी इंग्लैंड में बाजारों को बंद करने और लोगों के जमावड़े पर रोक लगाने की घोषणा की है।

जॉनसन ने श्रेणी-4 के सख्त प्रतिबंधों को तत्काल प्रभाव से लागू करते हुए कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि कोरोना वायरस का एक नया स्ट्रेन सामने आया है, जो पूर्व के वायरस के मुकाबले 70 प्रतिशत अधिक तेजी से फैलता है और लंदन एवं दक्षिण इंग्लैंड में तेजी से संक्रमण फैला सकता है। हालांकि, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने कहा कि अभी तक ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है जो साबित करे कि वायरस का नया प्रकार अधिक घातक है और इस पर टीका कम प्रभावी होगा।

किसान यूनियन का आरोप- विदेशी दान के बारे में सवाल कर रही है मोदी सरकार 

रविवार से लगा सख्त लॉकडाउन
रिपोर्ट के मुताबिक ब्रिटेन में नए वायरस के चलते तेजी से संक्रमण फैल रहा है। इसको देखते हुए लंदन और इंग्लैंड के कुछ इलाकों में रविवार से सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया है। इसके चलते एकबार फि‍र लाखों लोग घरों के भीतर रहने को मजबूर हो गए हैं। यही नहीं आलम यह है कि गैर-जरूरी वस्तुओं की दुकानें और प्रतिष्ठान भी बंद कर दिए गए हैं। 

पश्चिम बंगाल : बीरभूम जिले में भाजपा का रोड शो, अमित शाह उत्साहित 

विश्व स्वास्थ्य संगठन को दी गई जानकारी
ब्रिटेन में लॉकडाउन वाले क्षेत्रों में लोगों को अपने घर के बाहर किसी दूसरे व्‍यक्ति से मिलने-जुलने पर रोक लगाई गई है। क्रिसमस के दौरान भी यह रोक प्रभावी रहेगी। वहीं इंग्लैंड के मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रोफेसर क्रिस विट्टी ने बताया कि कोरोना की नई स्‍ट्रेन को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन को भी अलर्ट कर दिया गया है।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.